किसी भी कारोबारी को बिजनेस शुरु करने के लिए या बिजनेस बढ़ाने के लिए सबसे पहले किस चीज जरूरत पड़ती है? इन्फ्रास्ट्रक्चर,जगह या फिर धन (पैसा)? निश्चित तौर इस सवाल का उत्तर होगा धन यानी पैसा। अगर पैसा (धन) होगा तो ये बाकि सारी चीजें बहुत आसानी से मिल प्राप्त हो जाएगी।

एक अहम सवाल है कि आपको जब बिजनेस बढ़ाने के लिए पैसों की जरूरत पड़ती है तो आप किसकी किसका दरवाजा खटखटाते हैं? वैसे देखा जाए मार्केट में बिजनेस के लिए पैसा देने के लिए कई संस्थाएं काम कर रही हैं। लेकिन, यह भी सत्य है कि जितनी भी संस्थाएं बिजनेस बढ़ाने के लिए पैसा देती हैं सभी की कुछ शर्तें और नियम होते हैं। आइए देखते हैं कि मार्केट में कौन- कौन सी संस्थाएं हैं जिनसे बिजनेस लोन मिलता है:

कारोबार के लिए बैंक से बिजनेस लोन

बैंक यह एक ऐसा नाम है जिसका नाम उस समय सबसे पहले आता है जब किसी को लोन चाहिए होता है। बैंक वह संस्था है जिसमे सदियों से लोग पैसा जमा करते आये हैं और जरूरत पड़ने पर लोन के रुप में पैसा लेते आयें हैं। कारोबारियों को भी जब बिजनेस लोन की जरूरत पड़ती है तो सबसे पहले बैंक का ही दरवाजा खटखटाते हैं।

लगभग सभी बैंक विभिन्न जरूरत के लिए लोन देने का कार्य करते हैं। सरकारी बैंक मुख्य रुप से दो फार्मेट के कार्यों के लिए लोन देने का कार्य करते हैं। पहला व्यक्तिगत जरूरतों के लिए, जिसमे होम लोन, कार लोन और व्यक्तिगत जरूरतों के लिए दिया जाने वाला लोन शामिल होता है।

सरकारी बैंक से लोन दूसरे प्रकार का लोन उन कार्यों के लिए दिए जाता है जिनसे राजस्व यानी मुनाफा होता है। इन कार्यों में बिजनेस लोन प्रमुख है।

सरकारी बैंक लोन देने से पहले अपने नियम के अनुसार कागजी दस्तावेज़ों की प्रक्रिया पूरी करते हैं। अगर लोन बिजनेस के लिए लिया जा रहा है तो बिजनेस का प्रोजेक्ट रिपोर्ट मांगते हैं। सभी कागज़ी प्रक्रिया और प्रोजेक्ट रिपोर्ट से संतुष्ट होने के बाद ही बैंक से लोन मिल दिया जाता है।

नॉन बैंकिंग फाइनेंसियल कंपनी (एनबीएफसी) से बिजनेस लोन  

गैर – गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थान वर्तमान में सबसे तेजी से लोन देने का कार्य कर रहे हैं। एनबीएफसी कंपनियों की यह विशेषता हैं कि यह बहुत अधिक कागज़ी दस्तावेज की मांग नहीं करते जिससे कारोबारियों को बहुत राहत मिलती है।

एक अनुमान के मुताबिक एनबीएफसी संस्थाओं ने बैंकों की तुलना में 15% ग्राहकों की संतुष्टि दी है। खराब सिबिल स्कोर, न्यूनतम कागजात की जरुरत, प्रतियोगी ब्याज बेहद कम नियमों पर इन कंपनियों से व्यक्तिगत लोन और बिजनेस लोन मिलने से बड़ी संख्या में ग्राहक एनबीएफसी की तरफ आकर्षित हो रहे हैं।

एनबीएफसी कंपनी ZipLoan के द्वारा तो सिर्फ 3 दिनों के भीतर ही 1 से 5 लाख तक का बिजनेस लोन मिल जाता है। ZipLoan से मिलने वाला बिजनेस लोन बिना कुछ गिरवी होता है और बेहद कम कागजातों की जरूरत पड़ती है। अधिक जानने के लिए क्लिक करें।

क्राउडफंडिंग से धन का इंतजाम 

धन यानी पैसा प्राप्त करने का यह बिल्कुल नया तरीका है। इस तरीके में बिजनेस बढ़ाने के लिए वही पैसा देता है जिसको यह लगता है कि यह बिजनेस आगे जाकर मुनाफा वाला साबित होगा।

इसमें  मूल कारोबारी अपने बिजनेस से संबंधित सभी जानकारियां एक वेबसाइट पर लिख देता है और आगे की रणनीतियों के बारे में भी बताता है। इतना करने के लिए वेबसाइट को अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाने के लिए मार्केटिंग का सहारा लिया जाता है।

लोग वेबसाइट देखते हैं। कारोबार के बारे में दी गई जानकारी पढ़ते हैं। अगर उन्हें लगता है कि यह बिजनेस चल सकता है और कुछ समय बाद मुनाफा होता तो वह इसमें पैसा लगाते हैं। इस तरीके में इस पैसा मिलना इस बात पर निर्भर होता है कि बाद में निवेशक को कितना मुनाफा होगा।

सरकारी योजनाओं से धन का इंतजाम

देश में अधिक से अधिक स्वरोजगार के लिए केंद्र सरकार बेहद गंभीर है। यही कारण है कि समय – समय पर सरकार द्वारा योजना चलाकर देश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम कारोबारियों को नया उद्योग लगाने और पुराने उद्योग का विस्तार करने के लिए प्रोत्साहन दिया जा रहा है।

उद्यमियों को प्रोत्साहन देने के लिए ही एक योजना चलाई जा रही है। नाम है – मुद्रा लोन योजना।  इसको प्रधानमंत्री माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी लिमिटेड के नाम से भी जाना जाता है। इस योजना की तहत एमएसएमई उद्योग को 3 कैटेगरी में रखकर बिजनेस लोन दिया जाता है।

तीन कैटेगरी इस तरह हैं: शिशु लोन, किशोर लोन और तरुण लोन। शिशु लोन 50 हजार तक का बिजनेस लोन, किशोर लोन के तहत 50 हजार से 5 लाख तक का बिजनेस लोन और तरुण लोन की तहत 5 लाख से 10 लाख तक का बिजनेस लोन दिया जाता है। इसमें से किसी भी कैटेगरी का बिजनेस लोन लेने के लिए अपने नजदीकी बैंक से संपर्क करें।

बिजनेस लोन पाने के लिए फ़ॉलो करिए ये 3 आसान स्टेप्स

बिजनेस बढ़ाने के लिए है एंजेल निवेशक से धन मिलना 

आपने कई बार सुना होगा एंजेल टैक्स या एंजेल इन्वेस्टर, एंजेल निवेशक है जैसे शब्द। हो सकता है कई कारोबारी इन शब्दों को सुने तो होंगे लेकिन होते क्या हैं इसका पता न हो। हम बताते हैं। दरअसल एंजेल निवेशक उन बिजनेस में अपना पैसा इन्वेस्ट यानी लगाते हैं जिन कारोबार में उनको लगता है कि इस बिजनेस का भविष्य है और बाद में इससे बेहतर रिटर्न मिल सकता है।

एंजेल इन्वेस्टर कोई बड़ी कंपनी हो सकती है या कोई अकेला व्यक्ति भी हो सकता है। एंजेल निवेशक के संबंध में यह बात जान लेना बेहद आवश्यक है कि एंजेल इन्वेस्टर जिन कारोबार में पैसा लगाते हैं उस कारोबार के कुछ हिस्सों में वह नियंत्रित भी कर सकते है।

एंजेल इन्वेस्टर से पैसा पाने के लिए आपको खुद एंजेल निवेशक ढूँढना होता है और उन्हें अपने कारोबार के बारे में समझाना होता है। इंडियन एंजेल नेटवर्क वेबसाइट पर भी आप अपने कारोबार को रजिस्टर्ड कर सकते हैं। इससे एंजेल इन्वेस्टर मिलने में आसानी होगी।

बिजनेस बढ़ाने के लिए ZipLoan से मिलता है 3 दिन में बिजनेस लोन  

ZipLoan’ फिनटेक क्षेत्र की प्रमुख NBFC यानी नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी है। ‘कंपनी द्वारा सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम कारोबारियों को कारोबार बढ़ाने के लिए बेहद कम शर्तों पर 1 से 5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जाता है।

ZipLoan से बिजनेस लोन पाने की शर्ते बहुत कम हैं 

  • बिजनेस कम से कम 2 साल पुराना हो।
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर कम से कम 5 लाख से अधिक का होना चाहिए।
  • पिछले साल भरी गई ITR डेढ़ लाख रुपये की हो या इससे अधिक की होनी चाहिए।
  • घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर होना चाहिए।

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने के कई फायदे हैं 

  • बिजनेस लोन की रकम अप्लाई करने के सिर्फ 3 दिन के भीतर मिल जाती है। (यह सुविधा जरुरी कागजी दस्तावेजों को उपलब्ध रहने पर मिलती है)
  • लोन घर बैठे ऑनलाइन अप्लाई किया जा सकता है।
  • बिजनेस लोन की रकम 6 महीने बाद प्री पेमेंट फ्री है।
  • लोन की रकम 12 से लेकर 24 महीने के बीच वापस कर सकते है।

आपको यह लेख पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। बिजनेस से जुड़ी कोई भी नई अपडेट या जानकारी पाने के लिए हमसे फेसबुकट्वीटर और लिंक्डन पर भी जुड़े।