भारत सरकार द्वारा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग यानी छोटे और मध्यम कारोबार आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा उद्योग आधार योजना चलाई जा रही है।

उद्योग आधार योजना एक ऐसी रजिस्ट्रेशन योजना है जिसमे रजिस्टर्ड कारोबारियों को सरकारी योजना का लाभ प्रमुखता के आधार पर दिया जाता है।

यह जगजाहिर है कि हमारे देश के विकास में और जीडीपी ग्रोथ में लघु उद्योगों का अहम योगदान है। लघु उद्योग आकार में छोटे होने के बावजूद बड़ी संख्या में रोजगार जेनरेट करते हैं।

भारत में लघु उद्योगों की सबसे बड़ी समस्या पूंजी यानी पैसों की होती है। चूँकि कारोबार छोटा के होने के कारण लघु उद्यमियों के पास इतनी पूंजी यानी धन नही होता है कि वह अपने बिजनेस को बढ़ा सके।

जब लघु कारोबारी बिजनेस लोन लेने के लिए किसी बैंक या फाइनेंशियल कंपनी के पास जाते हैं तो उनसे कागजी प्रक्रिया के नाम पर इतने कागज़ी दस्तावेज मांगे जाते हैं कि वह लोन लने का विचार ही छोड़ देते हैं।

इस तरह देखें तो लघु उद्यमियों का बिजनेस बढ़ाने का सपना चकनाचूर हो जाता है। कारोबारियों की इन्ही समस्याओं का समाधान करने के लिए भारत सरकार द्वारा कई बिजनेस लोन योजना चलाई जा रही है।

मुद्रा लोन योजना, स्टैंड अप लोन योजना और ZipLoan मिलने वाला बिजनेस लोन प्रमुख है, जिससे कारोबारियों को बिजनेस लोन मिलता है। आइये आधार उद्योग के बारे में जानते हैं।

आधार उद्योग योजना क्या है?

भारत सरकार के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय (एमएसएमई मिनिस्ट्री) द्वारा छोटे और मध्यम कारोबार के लिए 12 अंकों की एक रजिस्ट्रेशन संख्या है। आधार उधोग रजिस्ट्रेशन नंबर पहले से चल रहे बिजनेस और नया शुरु हो रहे छोटे और मध्यम उद्योंगों को दिया जाता है।

आपको बता दें कि उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन पाने के लिए सबसे पहले आधार उद्योग रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होता है। यह योजना सूक्ष्म, लघू और मध्यम उद्योग (छोटे और मध्यम बिजनेस के लिए) के लिए केंद्र सरकार द्वारा लाई गई है सरकारी योजना है।

इस योजना को उद्योग आधार या आधार उद्योग और उद्योग लोन के नाम से भी जाना जाता है। आधार उद्योग लांच करने के पीछे केन्द्र सरकार का मकसद है सरकारी लोन योजना का कारोबारियों को अधिक से अधिक लाभ दिलाना है।

आधार उद्योग शुरु करने के पीछे मकसद

कारोबारियों के लिए प्रक्रिया सरल करना

उद्योग आधार योजना सीधे तौर पर सूक्ष्म, लघू और मध्यम उद्योगों (छोटे और मध्यम कारोबार) को कानूनी तरीके से बढ़ावा देने के लिए लांच की गई योजना है। इससे इसकी रेजीस्ट्रेशन प्रोसेस यानी पंजीकरण प्रक्रिया बहुत कठिन होती थी।

उद्योग रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया क़ानूनी तरीके जटिल होने जिसके चलते छोटे और मध्यम व्यवसायी इस प्रक्रिया से दूर भागते थे और इसके लाभ से वंचित रह जाते थे।इसके बाद सरकार ने उद्योग आधार योजना (Udyog Aadhar Yojna) लाई जिससे अपने व्यवसाय का पंजीकरण या रेजिस्ट्रेशन आसानी से हो जाएगा।

बिजनेस चलाने के लिए प्रोत्साहन देना

जटिल प्रकिया होन से लोग पंजीकरण कराने से कतराते थे अब छोटे और सूक्ष्म उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए लोग खुद व्यापार को शुरु करने में रुचि दिखाएंगे। इससे नया व्यापार यानी स्टार्टअप को बढ़ावा मिलेगा। नया व्यवसाय शुरु करने में लोगों को आसानी होगी तो बहुत हद तक बेरोजगारी कम होगी और देश को भी फायदा मिलेगा।

[block]0[/block]

एक – दुसरे उद्योग के बीच कॉम्पटिशन पैदा करना

सरकार अब देश की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए व्यापार को बढ़ावा दे रही है। देश में जितना ज्यादा उद्योग होगा। देश को उतना ही बढ़ावा मिलेगा। इसके साथ ही कंपनियां एक दूसरे से कॉम्पटिशन यानी प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और एक दूसरे से बेहतर होने की होड़ में देश को बढ़ावा मिलेगा।

कैसे करें रजिस्ट्रेशन(udyog aadhar registration )-

उद्योग आधार (udhyogaadhar) एक ऐसा ऑनलाइन पोर्टल है, जो सरकार ने Small & Medium Business Owners की मदद के लिए शुरु किया है। जिसकी मदद से आप अपने आधार कार्ड नंबर की मदद से अपने बिजनेस को Register कर सकते हैं। यानी udyog aadhar registration ऑनलाइन कर सकते हैं। आप कैसे उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन के लिए register कर सकते हैं उसका पूरा process हमने नीचे दिया हुआ है। इसी साइट से आप अधिक udyog aadhaar acknowledgement भी प्राप्त कर सकते हैं। –

सबसे पहले Udhyog Aadhaar (MSME) के Official Website पर जाएँ। उसके लिए नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें- http://udyogaadhaar.gov।in/UA/UAM_Registration.aspx

  1. जिसके बाद आपको बाएँ तरफ दो बॉक्स मिलेंगे – 1। आधार संख्या – इसमें आप अपना आधार कार्ड का नंबर दर्ज करें और 2। उद्यमी का नाम – अपना नाम जो आधार कार्ड में लिखा है उसे दर्ज करें। यह दोनों बॉक्स भरने के बाद Validate & Generate OTP button पर क्लिक करें।
  2. उसके कुछ सेकंड के बाद आपके आधार कार्ड से लिंक हुए मोबाइल नंबर पर आपको एक OTP प्राप्त होगा और Browser के display पर एक नया Tab खुलेगा वहां पर आपको प्राप्त हुए OTP को डालना है। उसके बाद आपको उसी पेज पर एक नया फॉर्म दिखेगा जिसे आपको पूरा ध्यान से भरना होगा। आपको कैसे ये फॉर्म कैसे भरना हैं चलिए आपको बताते हैं।
  1. इसके बाद आपको नंबर 3 पर सामाजिक वर्ग जैसे आप General, SC, ST, OBC में से अपना वर्ग Select कर लें। नंबर 4 में आपको Gender चुनना है। नंबर 5 में आपको शारीरिक रूप से विकलांगता की जानकारी में हाँ या ना को चुनना होगा। नंबर 6 में उद्यम का नाम – यहाँ आपको अपनी कंपनी या व्यापार का नाम लिखनागा जिसके नाम पर Registration करवाना चाहते हों।
  2. अगले 7वें नंबर पर संगठन का प्रकार में आपको आपका Organisation किसी प्रकार है ऊपर दिए हुए List में से चुनना होगा।
  3. उसके बाद नंबर 8 में पैन संख्या की जगह पर आपको अपना PAN CARD का नंबर दर्ज करना होगा और उसके नीचे 9 नंबर पर संयंत्र के स्थान में आपको अपने कंपनी के फैक्ट्री या उत्पादन का पता लिखना होगा।
  4. अगले स्टेप में आपको नंबर 10 में अधिकारिक पता में जहाँ आपके कंपनी का ऑफिस है वहां का पता डालिए। उसके बाद मोबाइल नंबर दर्ज करें और 11वें नंबर पर उद्यम के प्रारंभ की तिथि में जिस आपने अपना कारोबार शुरू किया उसका तारीख Calendar के button पर क्लिक करके दर्ज कर दें।
  5. उसके बाद बरी आती है 12। EM1/EM2/SSI/UAM में से अगर आपने किसी भी प्रकार का FORM अगरहले से ही अपने व्यापार के लिए आवेदन किया है, तो चुनें या अगर आप पहली बार apply कर रहे हो तो N/A को चुनें। 13वें नंबर पर IFSC Code अपने बैंक का दर्ज करें और उसके नीचे अपने बैंक खता की संख्या अच्छे से दर्ज़ करें। नंबर 14 में इकाई का प्रमुख गतिविधि में आप को अपनेअपार का मुख्य कार्य चुनना होगा जैसे अगर आप कुछ बनाते हैं तो Manufacturing को चुनें अगर आप कुछ नहीं बनाते हैं और कुछ सेवा प्रदान करते हैं तो Services को चुनें। नंबर 15 में NIC Code को Skip कर दें क्योंकि नीचे के Steps को चुनने के यह फॉर्म अपने आप NIC Code प्रदान कर देता है। उसके बाद नीचे के दिए हुए 3 Boxes में अपने कारोबार को सही तरीके सेर आप NIC Code पा सकते हैं।
  6. उसके बाद अंत में आपको नंबर 16। व्यक्ति नियोजित में जितने भी लोग आपके कंपनी या व्यापार में जुड़े हुए हैं उनकी संख्या दर्ज करना होगा। उसके बाद नंबर 17 में निवेश में जितना भी आपने अपने व्यापार में लगाया है उसी राशी लाखों की गणना में लिखना होगा। सोचिये आपने अपने व्यापार में 2 लाख रूपये निवेश किया है तो 2 लिख दें। नंबर 18 में उसके बाद इस स्टेप में आपको DIC (District Industry Center) का नाम दिखेगा। अंत में आपको SUBMIT पर Click करने होगा। फॉर्म कम्पलीट भर दिए जाने के बाद और उसके अप्रूव हो जाने के बाद आपको एक udyog aadhar card मिलेगा। इस udyog aadhar card के लिए आप किसी भी बैंक में बिजनेस लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं | उसके बाद आपको दोबारा आपका OTP पूछेगा उसे दर्ज करने के बाद आपको नीचे दिए FORM के जैसा एक UDYOG AADHAAR ACKNOWLEDGEMENT FORM प्राप्त होगा, इसे प्रिंट कर अपने पास रख लीजिए। इस udyog aadhaar acknowledgement फॉर्म में उद्योग आधार योजना से संबंधित सभी जरूरी जानकारियां दी गई होती है।