इनकम टैक्स का नाम सुनते सुनते ही अधिकतर लोग इससे बचने के उपाय खोजने लगते हैं। जैसे – जैसे इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की डेट नजदीक आती है, इनकम टैक्स कैसे बचाएं के तरीके खोजते फिरते हैं। कुछ तरीके कामयाब होते हैं लेकिन कुछ उलझाऊ लगने लगते हैं। नौकरी वाले तो किसी न किसी तरीके से रिटर्न फाइल करने से बच जाते है, लेकिन बिजनेस वालों के लिए कड़ी चुनौती हो जाती है। आपको यह कम ही जानकारी होगी कि कई और भी तरीके होते हैं जिनके द्वारा टैक्स जमा करने में बचत की जा सकती है।

टैक्स रिटर्न फाइल करने संबंधित महत्वपूर्ण फैक्ट्स

  • टैक्स से छूट पाने के कई तरीके ऐसे होते हैं जिनके बारे में अधिकतर लोगों को पता नही होता
  • इन्वेस्ट या खर्चों के दुसरे तरीकों से भी टैक्स में छूट पाई जा सकती है
  • घर खरीदने के लिए अपने माता-पिता से लिए गए लोन पर ब्याज जमा करने से टैक्स बच सकता है
  • घर में रहने के बदले अपने माता-पिता को किराया देने पर भी टैक्स में छूट में मिल सकती है

यह भी पढ़े:  कैसे करे इनकम टैक्स रिटर्न E– Filing? जानिए 5 जरूरी बातें

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से बचने के उपाय:

  1. माता-पिता से लोन ले

घर सबकी जरूरत होती हैं। बहुत कम ही लोग जानते होंगे की कि घर से टैक्स की भी बचत हो सकती है। लोगों की यह समझ होती है कि केवल बैंक से ही लोन लेने से टैक्स में छूट मिलती है। लेकिन यह भी एक तरीका होता है टैक्स बचाने का। इस तरह से बचत करने के लिए, मकान खरीदने के लिए अपने माता-पिता से ब्याज पर लोन ले। इस ब्याज वाली रकम से आप टैक्स भरने से बच सकते हैं।

इस तरीके में सेक्शन 24B के तहत अधिकतम 2 लाख रूपये तक की छूट प्राप्त की जा सकती है। यहां पर यह ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण हैं कि माता-पिता से पेमेंट के सर्टिफिकेट लेना न भूलना चाहिए।

  1. बच्चों की स्कूली पूर्व शिक्षा पर कटौती

बच्चों के स्कूली पूर्व शिक्षा यानी प्ले ग्रुप, प्री-नर्सरी और नर्सरी फीस पर भी टैक्स से छूट में दावा किया जा सकता हैं। यह प्रावधान सेक्शन 80 C में आता हैं। इस तरीके में छूट की अधिकतम सीमा 1 लाख 50 हजार होती है। इस तरह की छूट में यह बात ध्यान रखने वाली होती है कि इसमें केवल 2 बच्चों तक ही छूट का लाभ उठाया जा सकता है।

  1. ग्रुप हेल्थ इंश्योरेंस पर छूट

क्या आपको यह जानकारी है कि आपके इंश्योरेंस के प्रीमियम पर भी टैक्स में छूट मिल सकती है। अगर आप अपने खुद के, जीवनसाथी के बच्चे और माता-पिता के इंश्योरेंस के प्रीमियम भर रहे हैं तो आप टैक्स छूट पाने के हक़दार हैं। इस प्रकार की छूट सेक्शन 80D के तहत अधिकतम 75 हजार रूपये तक मिल सकती है।

यह भी पढ़े:  किसी व्यापारी को income tax notice मिलती है तो, उसे क्या करना चाहिए?

  1. PPF में रिइनवेस्टमेंट

टैक्स बचाने को लेकर PPF अकाउंट खोलिए। PPF स्कीम में सातवें वर्ष में जमा की गई रकम की कुछ राशि निकली जा सकती है। यह छूट सेक्शन 80C के तहत रकम निकासी वाले साल से पहले के चौथे साल के अंत तक उपलब्ध रकम का 50 प्रतिशत या पिछले साल के अंतिम बैंक बैलेंस का 50 प्रतिशत होता है। इसमें ध्यान रखने वाली यह बात हैं कि हर साल एक ही आंशिक निकासी की परमिशन मिलती है, इसलिए टैक्स प्लानिंग करते समय जरूरत की रकम का अनुमान लगाने में मदद मिल सकेगी।

  1. स्टैंप ड्यूटी पर भी टैक्स में छूट

मकान या नई दुकान खरीदने के दौरन स्टैंप ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन फीस भरने पर भी टैक्स में छूट का दावा किया जा सकता है। यह छूट सेक्शन 80C के तहत अधिकतम 1 लाख 50 हजार तक हो सकती है। इसमें ध्यान रखने वाली बात यह है कि छूट का दावा मकान या दुकान जिस वर्ष खरीद रहें हैं, उसी वर्ष किया जा सकता है, इसके बाद इनकम टैक्स के छूट का लाभ नही उठाया जा सकता।

बिजनेस से जुड़ी कोई भी नई अपडेट या जानकारी पाने के लिए हमसे फेसबुक, ट्वीटर और लिंक्डन पर जुड़ें. अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले।