केन्द्र सरकार द्वारा कई ऐसी जनकल्याणकारी सरकारी योजना शुरु की गई, जिससे लोगों को प्रत्यक्ष लाभ मिलता है इन सरकारी योजनाओं में मुद्रा लोन योजना, स्टार्ट – अप इंडिया योजना, स्टैंड अप लोन योजना इत्यादि शामिल हैं

इसके अतिरिक्त केन्द्र सरकार द्वारा यह प्रयास किया गया है कि देश की बेटियों का भविष्य सुरक्षित हो सके बेटियों का भविष्य सुरक्षित करने के लिए सुकन्या समृधि योजना की शुरुवात की गई है

सुकन्या समृधि योजना एक लंबी अवधि की निवेश योजना है इस योजना के तहत बिटिया के नाम से सुकन्या समृधि खाता खुलवाया जाता है सुकन्या समृधि खाता में बिटिया के परिजन हर महीने खुद के हिसाब से पैसा जमा करते हैं

सुकन्या समृधि योजना के तहत खुले खाता की खास बात यह है कि, इस खाता में जमा पैसों पर केन्द्र सरकार के आदेशानुसार बैंकों द्वारा बहुत अधिक ब्याज मिलता है

जब बिटिया 18 साल की हो जाती है, तब बिटिया की उच्च शिक्षा के लिए सुकन्या समृधि योजना के तहत  खुले खाता से कुल पैसों में से 60 प्रतिशत तक पैसा निकाला जा सकता है

सुकन्या समृधि खाता में से कुल पैसा तभी निकाला जा सकता है, जब बिटिया की उम्र 21 साल हो जाये इन पैसों से बिटिया की शादी या कोई अन्य जरूरी कार्य किया जा सकता है

बिटिया का भविष्य सुरक्षित करने के लिए जरूरी है सुकन्या समृधि खाता

कई बार ऐसा देखा जाता है की लोग पैसो पर बढ़िया ब्याज पाने के लिए शेयर मार्केट में पैसा इन्वेस्ट करते हैं या बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट कराते हैं लेकिन, शेयर मार्केट कब डाउन हो जाये यह कहा नहीं जा सकता है

बैंक भी अब फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज की दरें लगातार घटा रहे हैं ऐसे में जिन लोगों की बेटियां है, वह लोग इस सोच में पड़ जाते हैं कि वह अपनी बेटी का भविष्य कैसे सुरक्षित कर सकते हैं

इसे भी पढ़े: महिलाओं को बेहद पंसद आ रही है यह पेंशन स्कीम, मिलता है आजीवन फायदा

आपको जानकरी के लिए बता दें कि बेटियों का भविष्य फाइनेंशियल रूप से सुरक्षित करने के लिए सुकन्या समृ​द्धि योजना (Sukanya Samriddhi Scheme) को सबसे बेहतर इन्वेस्ट योजना माना जाता है इसका सबसे बड़ा कारण है कि यह एक सरकारी स्कीम है और इसमें बेहतर रिटर्न भी मिलता है

10 साल से कम उम्र की बच्ची के लिए उच्च शिक्षा और शादी के लिए बचत करने के लिहाज से केंद्र सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना एक बेहतरीन इन्वेस्ट योजना है

सुकन्या स्कीम के नियमों में बदलाव किया गया है

12 दिसंबर 2019 को वित्त मंत्रालय द्वारा एक नोटिफिकेशन जारी गया इस नोटिफिकेशन में सुकन्या समृधि योजना के नियमों में किये गये बदलाव के बारे में बताया गया है आइये जानते हैं कि सुकन्या स्कीम में क्या बदलाव किया गया है

सुकन्या खाता समय से पहले बंद करने के संबंध में बदलाव

नये नियम के मुताबिक अब सुकन्या स्कीम के तहत खुला बैंक खाता परिपक्वता से पहले भी बंद किया जा सकता है इसके लिए इजाजत दे दी गई है

हालांकि सुकन्या खाता तभी समय से पहले बंद किया जा सकता है, जब बालिका किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हो या बालिका में माता – पिता की अचानक मृत्यु हो गई हो

पहले भी समय से पहले सुकन्या खाता बंद किया जा सकता था, लेकिन उसके लिए नियम यह था कि बच्ची की मौत या उसके निवास स्थान में बदलाव के बाद ही अकाउंट बंद करने की सुविधा थी

दो से अधिक बेटियां होने पर नियम में बदलाव

पहले के नियम के मुताबिक अगर किसी अभिभावक के पास दो से अधिक बेटियां होती थी, तो अभिभावक को मेडिकल सर्टिफिकेट देना होता था अब नियम बदल गया है

इसे भी पढ़े: सुकन्या समृद्धि योजना में इन्वेस्ट करने से बिटिया का भविष्य होगा उज्जवल

अब अगर किसी अभिभावक की दो से अधिक बेटियां हैं तो और अभिभावक दो से अधिक बेटियों के लिए सुकन्या अकाउंट खोल रहे हैं तो उनके बर्थ सर्टिफिकेट के साथ एक एफ्फिडेविट भी देना होगा

ब्याज दर संबंधित बदलाव

पहले यह नियम था कि सुकन्या स्कीम के तहत खुला खाता में पैसा जमा करने से किसी महीने चुकने की स्थिति में ब्याज पर असर पड़ता था सुकन्या खाता पर मिलने वाला ब्याज कम हो जाता था अब नियम बदल दिया गया है

नए नियमों में अगर आप किसी वित्त वर्ष में न्यूनतम 250 रुपये की रकम जमा नहीं भी कर पाते हैं तब भी इसे डिफॉल्ट अकाउंट ही माना जायेगा नए नियम के मुताबिक डिफॉल्ट अकाउंट में जमा रकम पर भी वहीं ब्याज मिलेगा जो नियमित अकाउंट पर मिलता है

उम्र संबंधित किया गया बदलाव

सुकन्या खाता में सबसे महत्वपूर्व बदलाव उम्र को लेकर किया गया है पहले बिटिया 10 साल की उम्र से ही अपना सुकन्या खाता ऑपरेट कर सकती थी अब नियम में बदलाव किया गया है

नए नियमों के मुताबिक बालिका सुकन्या अकाउंट तब तक ऑपरेट नहीं कर सकती है, जब तक बालिका की उम्र 18 साल नहीं हो जाती है यानी बालिका की उम्र 18 साल होने तक सुकन्या खाता बालिका के अभिभावक ऑपरेट कर सकते हैं

इसके अतिरिक्त सुकन्या स्कीम में जो महत्वपूर्ण बदलाव किया गया है वह कुछ स्पष्टीकरण के बारे में हैं जैसे, गलती से जमा ब्याज को वापस लेने से रोका गया है नये नियम के मुताबिक अब सुकन्या अकाउंट में हर वित्त वर्ष के आखिर में ब्याज दिया जायेगा

इसे भी पढ़े: ग्रहणी महिलाओं के लिए बिजनेस करने की क्या क्या स्कीम हैं ?