दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तिओं में से एक बिल गेट्स ने कहा था कि ‘अगर आप गरीब पैदा हुए हैं, तो यह आपकी गलती नहीं है, लेकिन अगर आप गरीब ही मर जाते हैं, तो यह आपकी गलती है।‘ कुछ ऐसी ही कहानी है सु-कैम के फाउंडर कुंवर सचदेव की। जिन्होंने ने गरीबी से लेकर अमीरी तक का सफर तय किया। कुंवर सचदेव का जन्म दिल्ली के एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके घर की आर्थिक स्थिति बहुत मजबूत नहीं थी।

यह भी पढ़ें:- सरकारी बैंकों के साथ वित्त मंत्री की बैठक, क्या बढ़ सकती है आपके बिजनेस लोन की EMI?

डॉक्टर बनना चाहते थे कुंवर सचदेव-

कुंवर सचदेव के पिता रेलवे में सेक्शन ऑफिसर थे और उस वक्त सेक्शन ऑफिसर की तनख्वाह ज्यादा नहीं हुआ करती थी। इसी वजह से घर की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। कुंवर तीन भाई हैं और उनकी पढ़ाई सरकारी स्कूल में हुई हैं। कुंवर जब 5 वीं क्लास में थे तब उनके पिता ने उन्हें प्राइवेट स्कूल से निकाल कर गवर्नमेंट स्कूल में डाल दिया। 12वीं क्लास के बाद कुंवर ने मेडिकल का एंट्रेस एग्जाम दिया, लेकिन 12वीं में अच्छे नंबर नहीं आने के कारण उन्हें मेडिकल कॉलेज में दाखिला नहीं मिला। कुंवर का बचपन का सपना था कि वे डॉक्टर बनें, लेकिन शायद उनकी किस्मत में बिजनेसमैन बनना था।

कुंवर सचदेव

बचपन में भाई के साथ बेचा पेन-

उनका बचपन आर्थिक तंगी में गुजरा है। पढ़ाई करने के साथ वे खाली समय में अपने बड़े भाई के साथ साइकिल पर गली-मोहल्लों में जाकर पेन बेचने का काम करते थे। इतना ही नहीं दोनों भाई बसों में भी पेन बेचते थे। ये सब उन्हें घर की आर्थिक तंगी दूर करने के लिए करना पड़ता था। स्टेटिस्टिक्स में ऑनर्स के बाद उन्होंने पूरा समय अपने भाई का साथ देना शुरू कर दिया। कुछ समय बाद पेन बेचने का काम बंद किया और दिल्ली यूनिवर्सिटी में लॉ की पढ़ाई की।

See also  खुशखबरी: एमएसएमई कारोबारियों की सरकार के तरफ से मिली सौगात

यह भी पढ़ें:- जानिए कैसे सत्यजीत सिंह ने IAS इंटरव्यू में फेल होने के बाद स्थापित किया 50 करोड़ का बिजनेस

टीवी केबल का भी किया काम-

हिंदू कॉलेज दिल्ली से स्टेटिस्टिक्स में ऑनर्स (ग्रैजुएशन) के बाद उन्होंने पेन का व्यापार छोड़ दिया और केबल टीवी कंपनी में काम करना शुरू कर दिया। वहां वे मार्केटिंग करते थे। 2 साल बाद नौकरी से बचाए हुए 10 हजार रुपए से 1988 में उन्होंने खुद का केबल बिजनेस शुरू किया, जिसका नाम सु-कैम रखा। उस समय होटलों में ही केबल टीवी लगते थे। हालांकि, 1991 में वैश्वीकरण के बाद उनका टीवी केबल का बिजनेस काफी चला।

ऐसे शुरु हुआ इन्वर्टर का बिजनेस-

कुंवर सचदेव के इन्वर्टर, यूपीएस और सोलर सिस्टम के व्यापार में आने का कारण भी बेहद दिलचस्प है। कुंवर सचदेव बताते हैं कि ‘घर में इन्वर्टर हमेशा खराब हो जाता था, एक दिन मैं खुद उसको ठीक करने लगा। इन्वर्टर तो मैं ठीक नहीं कर पाया, लेकिन मन में एक ख्याल कि कितने ही घरों में इन्वर्टर हैं, लेकिन कोई ऐसी कंपनी नहीं है जो एक अच्छा इन्वर्टर उपलब्ध करवाती हो। इसलिए मैं केबल बिजनेस से हटकर इन्वर्टर और यूपीएस बनाने में जुट गया।’

बनाया बेहतरीन इन्वर्टर-

उन्होंने एक छोटी-सी दुकान खोली और कुछ इंजीनियर्स को भी साथ जोड़ा। इंजीनियर्स मुझे देख कर कहते थे कि आपको इस इंडस्ट्री की कोई समझ तो है नहीं, आप यह बिजनेस कैसे चला पाएंगे। इन्वर्टर बिजनेस में एक बात अच्छी थी कि उस समय विदेशों में इनका ज्यादा इस्तेमाल नहीं होता था। इसलिए इंजीनियर्स को निर्देश दिया किया बेहतरीन इन्वर्टर डिजाइन करें। बस इसी कोशिश में हमने ऐसे कई इन्वर्टर डिजाइन किए जो लोगों को बहुत पसंद आए। इसके बाद तो हमारी कंपनी का नाम पूरे भारत में इन्वर्टर के लिए जाना जाने लगा।

See also  केन्द्र सरकार के नए फैसले से विदेशों से अब ये सामान इंपोर्ट करना होगा महंगा

कुंवर सचदेव

यह भी पढ़ें:- जानिए कैसे छोटे कारोबारियों के लिए सिक्योर्ड बिजनेस लोन से बेहतर है अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन

इस दुर्घटना ने बदली जिंदगी-

बात 2000 की है जब कुंवर सचदेव के इन्वर्टर से एक बच्चे को करंट लग गया, इस घटना ने उन्हें दुखी कर दिया और उन्होंने अपनी प्लानिंग में चेंज किया। उन्होंने घरों की सेफ्टी को ध्यान में रखते हुए प्लास्टिक बॉडी वाले इन्वर्टर बनाने की सोची। उन्होंने स्पेशल प्लास्टिक बॉडी के इन्वर्टर रेडी किया, जिसे मार्केट में बेहद पसंद किया गया। आज सु-कैम इन्वर्टर इंडिया का नंबर वन इन्वर्टर है और 70 से ज्यादा देशों में इसकी सप्लाई की जाती है। इसी के साथ उन्होंने सोलर एनर्जी सिस्टम भी तैयार किया।

यह भी पढ़ें:- गणेश कामथ: वो बिजनेसमैन जिसने अपने दोनों हाथ गंवाने के बावजूद बनाया लाखों का कारोबार

युवाओं के लिए संदेश-

जो युवा एंटरप्रेन्योर्स टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में बिजनेस करना चाहते हैं, उन्हें कुंवर सचदेव यह सलाह देते हैं। टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में जो लोग बिजनेस करना चाहते हैं, उनके अंदर इसके लिए पैशन होना चाहिए। बिना पैशन के किसी भी काम में सफल होना मुश्किल होता है। अगर काम इस मकसद से किया जाएगा कि उससे पैसा बनाना है, तो यह दीर्घकाल में मददगार नहीं होगा। काम इसलिए करना चाहिए क्योंकि उसे करके आपको खुशी होती है। अपने काम या बिजनेस को लेकर फोकस्ड रहेंगे, तो कोई भी समस्या बड़ी नजर नहीं आएगी। काम की तरफ अपना रवैया सकारात्मक रखें। किसी भी काम को खुद पर बोझ समझकर न करें। यह सोचें कि आज जो काम आपको मिला है, उसे करके आपको अपनी प्रतिभा के बारे में पता चलेगा।

See also  चीन-अमेरिका के ट्रेड वॉर से भारत के इन निर्यातकों के आएंगे अच्छे दिन- केन्द्रीय मंत्री शेखावत

कुंवर सचदेव

यह भी पढ़ें:- जानिए सिर्फ 23 साल की उम्र में निधी गुप्ता, कैसे बनीं 500 करोड़ की कंपनी की मालिक

युवा पैसे ना होने का रोना रोते हैं-

कुंवर सचदेव कहते हैं कि आपको अपने व्यापार का जिम्मेदार खुद होना होगा। हमारे देश की खासियत है कि यहां लोगों के पास आइडिया है, लेकिन वह उसको एग्जिक्यूट नहीं कर पाते। वजह उनके पास कोई विजन नहीं होता है। मेरे पास कई बच्चे आते हैं जिनके पास व्यापार से जुड़े कई आइडिया होते हैं, लेकिन वह पैसे न होने का रोना रोते हैं। जिस पर मैं उन्हें कोई सुझाव नहीं देता। मैं चाहता हूं कि अगर उनके पास पैसा नहीं है तो वह पैसे कमाएं और अपना व्यापार स्थापित करें। अगर लगन होगी तो वह व्यापार स्थापित करेंगे और यही लगन उनको आगे लेकर जाएगी।

यह भी पढ़ें:- छोटे कारोबारी सीखें जैक मा से बिजनेस को सफल बनाने के टिप्स

पैसे ना हों तो Ziploan है समाधान-

अगर आपका बिजनेस 2 साल पुराना हो गया है और अब आप उसे बढ़ाना चाहते हैं, तो उसका एकमात्र समाधान Ziploan है। Ziploan से आप अपने बिजनेस के लिए 5 लाख तक का बिजनेस लोन प्राप्त कर सकते हैं। जिसकी सहायता से आप अपनी पैसों से संबंधित जरूरतों को पूरा कर सकते हैं। इसके साथ ही आपको बिजनेस लोन के लिए कोई सिक्योरिटी भी नहीं देनी है। Ziploan से आप बिना सिक्योरिटी के ही 5 लाख तक का बिजनेस लोन प्राप्त कर सकते हैं।

Related Posts

MSME Full FormMSME RegistrationCGTMSE
MSME LoanVAT RegistrationUdyog Aadhaar
GST RegistrationStand Up India SchemeCGTMSE Fee
Shop LoanWhat is CGSTDownload GST Certificate
PM SVAnidhi SchemeCancelled ChequeUPI Full Form
Business Loan EligibilityGST Full FormE-Way Bill Unblocking
CIN NumberGST LoginUAN Number