लघु उद्योग के लिए लोन मिलना वर्तमान समय में काफी आसान हो गया है। लघु और मध्यम कारोबारियों को अपने उद्योग चलाने के लिए हर रोज कुछ रेगुलर खर्चें होते हैं। रेगुलर खर्चो को पूरा करने के लिए कैश की आवश्यकता पड़ती है। जब कारोबारी के पास पर्याप्त कैश होता है तो तब तो ठीक चलता है लेकिन जब कैश नहीं होता तो फिर दिक्कत होती है। इस स्थिति में बिजनेस लोन सबसे बेहतरीन विकल्प होता है।

बिजनेस में दैनिक खर्चो के अलावा बहुत कारण होते हैं जिनकी वजह से छोटे और मध्यम कारोबारियों को बिजनेस की जरूरत पड़ती है। मैनुफैक्चरिंग सेक्टर में मशीनों को जरूरत पड़ती है। कई बार ऐसा भी होता है कि पुरानी मशीनरी ठीक कराना होता है या माल ढुलाई के लिए नई गाड़ी की जरूरत पड़ती है। पुरानी गाड़ी हो तो उसकी मरम्मत कराने की जरूरत पड़ सकती है।

सर्विस सेक्टर के बिजनेस में नए उपकरण, नई गाड़ी, नए जगह पर ऑफिस खोलने की जरूरत पड़ सकती है। बिजनेस में दैनिक जरूरी खर्चें को भी पूरा करना होता है। ऐसे में जब कारोबारी के पास नगद कैश नहीं होता हो बिजनेस का संचालन करना जरा मुश्किल हो जाता है। बिजनेस बढ़ा पाना भी मुश्किल काम लगने लगता है। कई बार तो ऐसा भी होता है कि कारोबारी का पैसा मार्केट में लगा होने के चलते भी कारोबारी को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

ऐसे कई कारण होते हैं जिसके लिए कारोबारी को बिजनेस लोन की जरूरत पड़ती है। बिजनेस लोन सरकारी बैंक के अलावा नॉन बैंकिंग फाइनेंसियल (एनबीएफसी) कंपनियों से मिलता है। पिछले 20 वर्षों के दौरान बिजनेस लोन मांग में भारी इजाफ़ा हुआ है। कारोबारियों की मांग होती है कि उनको जितनी जल्दी बिजनेस लोन मिल सके उनके लिए बेहतर होगा।

जल्दी बिजनेस लोन प्रदान करने के लिए फिनटेक सेक्टर लोन देने की पूरी प्रक्रिया ही ऑनलाइन बना दिया है। कई एनबीएफसी हैं जो 3 दिन में बिजनेस लोन देने का वादा करती हैं और जरूरी कागज़ी दस्तावेज पूरा होने पर 3 दिन में बिजनेस लोन दे भी देती हैं। 3 दिन में बिजनेस लोन देने वाली ZipLoan कंपनी प्रमुख है।

छोटे और मध्यम उद्योग भारत के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं तथा जीडीपी ग्रोथ में अहम भूमिका निभाते हैं। देश में रोजगार सृजन करने में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों का अहम योगदान है। एमएसएमई के इन योगदानों को देखते हुए भारत सरकार द्वारा भी लघु उद्योग के लिए लोन की कई योजनाएं चलाई जा रही हैं।

क्या होता है बिजनेस लोन? – What is Business Loan

अगर इस एक लाइन में समझे तो – कारोबार शुरु करने के लिए या बढ़ाने के लिए बैंक या एनबीएफसी कंपनी से मिलने वाला पैसा बिजनेस लोन कहलाता है। कारोबार बढ़ाने के लिए दिया जाने वाला लोन शार्ट टर्म लोन के अंतर्गत आता है। इस तरह के लोन को 12 से 24 महीने के भीतर चुकाना होता है। बिजनेस कई तरह का होता है:

वर्किंग कैपिटल लोन क्या है? – Working Capital Loan Kya Hai?

कारोबार चलाने में हर रोज के कुछ जरूरी खर्चें होते हैं। इन खर्चो में पानी, बिजली, चाय – नाश्ता, गाड़ियों में पेट्रोल, इत्यादि के खर्च शामिल होते हैं। बिजनेस की नई ऑफिस खोलना हो या कारोबार के लिए कोई जरूरी उपकरण खरीदना हो, इस तरह के खर्चो को पूरा करना जरूरी होता है। इन्हीं खर्चो को वर्किंग कैपिटल कहा जाता है।

वर्किंग कैपिटल मुख्य रुप से कार्यशील पूंजी होती है तो बिजनेस को चलाने में काम आती है। वर्किंग कैपिटल लोन कई एनबीएफसी कंपनियां हैं जहां से मिलता है। वर्किंग कैपिटल लोन देने वाली ZipLoan प्रमुख कंपनी है। ZipLoan से 1 से 5 लाख तक का वर्किंग कैपिटल लोन सिर्फ 3 दिन में मिल जाता है।

अभी बिजनेस लोन पाए

टर्म लोन क्या होता है? –Term Loan Kya Hota Hai?

कारोबार में तत्काल जरूरतों को पूरा करने के लिए दिया जाने वाला लोन टर्म लोन कहलाता है। टर्म लोन चुकाने की समय सीमा 2 साल तक होती है हालांकि समय सीमा लोन देने वाली कंपनियों के ऊपर निर्धारित होती है। ZipLoan से टर्म लोन सिर्फ 3 दिन में मिल जाता है।

मशीनरी लोन क्या होता है? – Machinery Loan Kya Hota Hai

कारोबार में जब नई मशीन खरीदने के लिए लोन लिया जाता है या पुरानी मशीन की मरम्मत करने के लिए लोन लिया जाता है तो उसे मशीनरी लोन कहते हैं। इसे अनसिक्योर्ड लोन भी कहते हैं। वर्तमान दौर में हर रोज टेक्नोलॉजी बदल रही है। नई तकनीक वाली मशीनें आ गई हैं।

क्लिक कर जानिए ZipLoan से बिजनेस लोन लेने के फायदे

ऐसे में लघु उद्योगों के लिए नई मशीनों की खरीद करना होता है। कई ऐसे कारोबारी होते हैं जिनके पास नई मशीनों को खरीदने के लिए पर्याप्त धन उपलब्ध नहीं होता तो ऐसे में छोटे और मध्यम कारोबारियों के लिए मशीनरी लोन बेहतरीन विकल्प है।

लघु उद्योग को लोन मिलता है सिर्फ 5 स्टेप्स में

लोन पाने के लिए फ़ॉलो करने ये 5 स्टेप्स:

  • कारोबार की जरूरत की पहचान करिए
  • बिजनेस लोन के प्रकार को तय करिए
  • बिजनेस लोन के लिए सही कंपनी का चुनाव करिए
  • जरूरी कागज़ी दस्तावेजों को इक्कठा कीजिए
  • बिजनेस लोन के लिए अप्लाई कीजिए

बिजनेस लोन की जरूरत की पहचान करना

कारोबारियों के लिए बिजनेस की जरूरत की पहचान करना बेहद महत्वपूर्ण होता है। लोन के लिए अप्लाई करने से पहले कारोबारियों को चाहिए कि वह अपने से कुछ सवाल पूछे, जैसे:

  • किस चीज के लिए पैसों की जरूरत है?
  • कितने पैसों की जरूरत है?
  • पैसों का इस्तेमाल कैसे करना हैं?
  • लोन कितने समय के लिए लेना है?
  • लोन चुकाने के लिए मंथली EMI कितनी रखना है?

इत्यादि जैसे सवाल कारोबारियों को खुद से पूछना चाहिए। इन सवालों का जवाब ही यह तय कर देगा कि कितनी रकम लोन के रुप में चाहिए।

बिजनेस लोन के प्रकार को तय करना

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि बिजनेस लोन का प्रकार क्या होगा? इस सवाल का जवाब इसी बात से निकल आएगा जब कारोबारी यह तय कर लेंगे कि उनको बिजनेस लोन किस चीज के चाहिए। उदाहरण के तौर पर देखें जैसे किसी कारोबारी को अगर नई मशीन खरीदने के लिए पैसा चाहिए तो वह मशीनरी लोन की कैटेगरी में आएगा।

बिजनेस लोन के लिए सही कंपनी का चुनाव करना

सही कंपनी का चुनाव करना सबसे महत्वपूर्ण होता है। सही कंपनी का मतलब है कि कंपनी की शर्तें क्या हैं? बिजनेस लोन प्रॉपर्टी गिरवी रखने के बदले मिल रहा है या बिना प्रॉपर्टी गिरवी रखे? लोन पर ब्याज दर कितनी लगेगी? इत्यादि जैसे बातों को अपनी सुविधानुसार तय करना चाहिए। जिस कंपनी से कम ब्याज दर पर, बिना प्रॉपर्टी गिरवी रखे, प्री पेमेंट फ्री बिजनेस लोन मिले उसे प्राथमिकता देना चाहिए। ZipLoan कंपनी की तरफ से बहुत कम शर्तों पर बिजनेस लोन मिलता है।

जरूरी कागजी दस्तावेज इक्कठा करना

बिजनेस लोन के लिए जब आप अप्लाई करते हैं तो पात्रता साबित करने के लिए कुछ जरूरी कागज़ी दस्तावेज देना पड़ता है। अगर आप लोन के लिए अप्लाई करने से पहले इन कागज़ी दात्सवेजों को इक्कठा कर लेंगे तो लोन मिलने में अधिक समय नहीं लगेगा। जरूरी कागजात सभी कंपनियों का अलग – अलग होता है फिर भी कुछ ऐसे दस्तावेज होते हैं जिनकी मांग हर जगह की जाती है। ये कागजात निम्न हैं:

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • बिजनेस रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (सभी कंपनी नहीं मांगती हैं)
  • बिजनेस में पिछले साल का टर्नओवर
  • पिछले साल फाइल की गई आईटीआर की कॉपी
  • घर के मालिकाना हक का प्रूफ। अगर बिजनेस किराया के मकान में है तो मकान मालिक का नो ओब्जेक्शन सर्टिफिकेट

बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करें

जब आप अपने लिए सही कंपनी का चुनाव कर लें, सभी कागजी दस्तावेजों को इकट्ठा कर लें तो बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करें। अप्लाई करने के लिए कंपनी की वेबसाइट पर जाएं और अप्लाई करें बटन पर क्लिक करें, फॉर्म में सभी जानकारी भरने के बाद सबमिट कर दें। सबमिट करने के बाद कंपनी के अधिकारी आपसे खुद संपर्क करके लोन देने की प्रक्रिया पूरी कर लेंगे।

आपको यह लेख पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। बिजनेस से जुड़ी कोई भी नई अपडेट या जानकारी पाने के लिए हमसे फेसबुकट्विटर और लिंक्डन पर भी जुड़े।