एक हिन्दी फिल्म का बहुत पॉपुलर डायलाग है “कोई भी धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता”। यह शत प्रतिशत सत्य बात है कि कोई भी बिजनेस छोटा नहीं होता और लगन और मेहनत से बिजनेस किया जाये तो ऐसा कोई भी बिजनेस नहीं होगा जो सदाबहार नहीं हो सकता है।

कुलमिलाकर यह कहा जा सकता है कि सभी बिजनेस शानदार होते है और मेहनत से बिजनेस किया जाये तो कोई भी बिजनेस सदाबहार बन सकता है। लेकिन लेकिन, लोगों के मन में यह धारणा होती है कि अमुक बिजनेस सदाबहार है और अमुक बिजनेस में बहुत कड़की रहती है। लेकिन ऐसा सिर्फ लोगों का वहम होता है।

इसे भी जानिए- प्रधानमंत्री रोजगार योजना

जिस प्रकार हर व्यक्ति को दूसरों की चीजें अच्छी लगती हैं, ठीक उसी प्रकार लोगों को दूसरे का बिजनेस भी अच्छा लगता है। लेकिन कुछ ऐसे बिजनेस वाकई में ऐसे होते हैं, जिन्हें सदाबाहर बिजनेस कहा जा सकता है। किसी भी बिजनेस को सदाबहार बिजनेस कहने के पीछे तर्क यह है कि अमुख में बिक्री हमेसा बनी रहे है और मुनाफा होता है। ऐसा बिजनेस है- किराने की दुकान या जनरल स्टोर। इसी के साथ कुछ अन्य बिजनेस भी हैं, जिनमे बिक्री सालभर होती है।

इलेक्ट्रानिक्स सामान का शोरुम या दुकान खोलना

आज के इस भौतिक समय में इलेक्ट्रानिक गैजैट लोगों का नया साथ बन गया है। बिना इलेक्ट्रानिक गैजेट के लोगों को अब जिंदगी जीने में बहुत कठिनाई होगी। इस बात का सबसे बड़ा लाभ इलेक्ट्रानिक शोरुम चलाने वालों या इलेक्ट्रानिक सामान की दुकान करने वाले कारोबारियों को मिलता है। गर्मी का मौसम हो तो कुलर, पंखा, एसी इत्यादि का मांग बढ़ जाती है। सर्दी का मौसम हो तो हीटर और ब्वायर की मांग बढ़ जाती है। मोबाईल फोन की मांग सदैव रहती ही है। इसी के साथ वाशिंग मशीन, गीजर, टीवी इत्यादि की बिक्री पूरे साल भर होती ही रहती है। इस हिसाब से देखा जाय तो इलेक्ट्रानिक्स का शोरुम या दुकान खोलना बहुत बड़ा फायदे वाला सौदा होता है।

सदाबहार बिजनेस: किराना की दुकान

किराना प्रोडक्ट यानी हर रोज उपयोग में आने वाली चीजों की दुकान। किराने की दुकान में दैनिक उपयोग की चीजे जैसे: तेल साबुन, नकम, मशाला, दाल – चावल, चीनी – चाय, आटा – घी, इत्यादि चीजों की बिक्री होती है। इन सभी सामानों की जरूरत दैनिक जीवन में हर किसी को होती है। इसीलिए इसे सदाबहार बिजनेस कहा जा सकता है।

किराने की दुकान कैसे शुरु हो सकती है

यह एक ऐसा बिजनेस है, जिसे अपनी जरूरत के अनुसार शुरु किया जा सकता है। मतलब जितना जगह और धन उपलब्ध हो, उसी के हिसाब से किराने का बिजनेस शुरु किया जा सकता है। किराने की दुकान खोलने के लिए यहां स्टेप बाय स्टेप तरीका बताया जा रहा है। इस तरीके से किराने की दुकान बहुत आसानी से खोली जा सकती है।

बढ़िया जगह पर एक दुकान किराए पर लीजिये

किराने की दुकान चलाने के लिए जगह बहुत महत्वपूर्ण होती है। इसे हम यह भी कह सकते हैं कि किराने की दुकान कितना सफल होगी, यह इस बात पर निर्भर करता है कि दुकान किस जगह पर स्थित है। बढ़िया जगह से तात्पर्य है कि दुकान की जगह पब्लिक के बीच की होनी चाहिए। मतलब जहां पर लोगों का आना – जाना परस्पर बना रहता हो।

दुकान में फर्नीचर की व्यवस्था कीजिये

एक कमरे की दुकान से कोई भी दुकान कभी नहीं चल सकती है। दुकान चलाने के लिए दुकान के भीतर फर्नीचर होना चाहिए। फर्नीचर का मतलब कुर्सी – मेज नहीं, बल्कि सामान रखने के लिए खानेदार लकड़ी या लोहे की आलमारी होना चाहिए। जिससे जब दुकान की सामान आये तो उसे सही तरीके से रखा जा सके।

सामान के डीलर से संपर्क करके सामान मंगवाए

जब दुकान किराए पर ले गई हो और पर्याप्त फर्नीचर इत्यादि तैयार हो गये हो तो अब नंबर आता है दुकान के भीतर सामान रखने का। स्वाभाविक सी बात है कि बिना सामान के कोई भी दुकान नहीं चल सकती है। ऐसे में किसी ऐसे डीलर से संपर्क करें जो दुकान की सामान की डिलीवरी सीधे दुकान पर करता हो। उस डीलर से संपर्क करके उसे अपनी दुकान के जरूरत के अनुसार सामान की लिस्ट दीजिये और उन्हें बोलिए कि आपको या सभी सामान चाहिए।

जरूरत हो तो बिजनेस लोन लीजिये

किराने की दुकान खोलने के लिए वैसे तो बहुत अधिक धन की जरूरत नहीं होती है लेकिन दुकान जब चल जाये तो दूकान का विस्तार बहुत जल्द कर लेना चाहिए। कई बार ऐसा होता है कि लोगों के पास दुकान का विस्तार करने के लिए पर्याप्त धन नहीं होता है। ऐसे में वह दुकान का विस्तार करने का सपना छोड़ देते हैं। लेकिन, किसी दुकानदार को ऐसा नहीं करना चाहिए। क्योंकि आज की तारीख में बिजनेस लोन बहुत आसानी से उपलब्ध है।

इसे भी जानिए- स्मॉल बिज़नेस लोन क्या है?

तो दुकानदार को चाहिए कि वह बिजनेस लोन लेकर दुकान का विस्तार करने के अपने सपने को पूरा करें। आपको जानकारी के लिए बता दें कि बिजनेस का विस्तार करने के लिए या बिजनेस का वर्किंग कैपिटल मैनेज करने के लिए देश की प्रमुख नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) ZipLoan से 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रखे, सिर्फ 3 दिन* में मिलता है। यहां से मिलने वाला बिजनेस लोन 6 माह बाद प्री-पेमेंट चार्जेस फ्री होता है।