प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी के भाषणों में किसानों की आय दोगुनी करने का जिक्र कई बार आया है। देश के किसानों और कामगारों को 60 वर्ष की उम्र के बाद सामाजिक सुरक्षा के लिए आर्थिक सहायता के रुप में प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना (PMSYM) शुरु कर दी गई है।

हमारे देश के किसान और असंघटित मजदुर यानी जो वह कामगार जो हर रोज कमाते हैं और हर रोज की खर्ची खरीद कर खाते हैं। जिनका काम अगर कुछ दिन के लिए बंद हो जाये तो उनको खाना मिलना भी मुश्किल हो जाता है। इनकी पूरी जिंदगी दो वक्त की रोटी का इंतजाम करने में ही निकल जाती है।

इसे भी जानिए- प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना

किसान और कामगार के शरीर में जब तक दम होता है तब तक वह अपनी मेहनत की बदौलत कमाते हैं। लेकिन, सोचिये जब किसान और कामगारों का शरीर कमजोर पड़ जाता है और वह मेहनत करने की स्थिति में नही रहते हैं तो उनका गुजारा कैसे होता होगा?

अभी बिजनेस लोन पाए

कई लोग शायद ऐसा सोचते होंगे कि किसानों और कामगारों को 60 वर्ष की उम्र के बाद किसी योजना के जरिए आर्थिक सहायता मिलनी चाहिए जिससे वह अपना बुढ़ापा ठीक तरीके से काट सकें। अब देश के किसानों और कामगारों के लिए खुशखबरी है।

आपको बता दें कि नरेद्र मोदी सरकार द्वारा एक ऐसी योजना चलाई जा रही है जिसमे किसानों और कामगारों को 60 वर्ष की उम्र के बाद सामजिक सुरक्षा के लिए 3 हजार रुपये मंथली पेंशन के रुप में दिया जायेगा। इस योजना का नाम प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना (PMSYM) – Pradhanmantri Mandhan Pension Yojna है।

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना (PMSYM) – Pradhanmantri Mandhan Pension Yojna क्या है?

PMSYM: प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना -Pradhanmantri Jandhan Yojna में दो बातें नाम से ही पता चलती हैं: पहली बात यह कि योजना में मानधन शब्द जुड़ा हुआ है जिसका मतलब होता है – सम्मान के रुप में दिया जाने वाला पैसा।

See also  सोशल मीडिया के जरिए इस तरह आप भी बढ़ा सकते हैं अपना बिजनेस

इसे भी जानिए- प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना क्या है?

दूसरा शब्द है – पेंशन, इसका अर्थ होता है: जब इंसान मेहनत की बदौलत कमाने की स्थिति में नही होता है तो उसे पेंशन दी जाती है। इस तहत देखे तो प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेशन योजना का अर्थ हुआ: जब किसान और कामगार कमाने की स्थिति में नही होंगे तो उस समय में उनको जीविकापार्जन के लिए दिया जाने वाला सम्मान, जो कि पेंशन के रुप में होगा यानी 60 साल की उम्र के बाद हर किसान और कामगार को उचित पैसा मिलेगा।

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना (PMSYM) का लाभ कैसे मिलता है?

किसान पेंशन योजना – Kisan Pension Yojana का लाभ लेने के लिए लाभार्थी को PMSYM रजिस्ट्रेशन कराने की जरूरत पड़ती है। आपको बता दें कि Kisan Pension Yojana भारतीय जीवन बीमा (LIC) की सहयोग से चलाई जा रही है।

पाए बिजनेस लोन

Kisan Pension Yojana का लाभ लेने के लिए के लिए किसानों और कामगारों को सबसे पहले अपने नजदीकी सामान्य सेवा केन्द्र (CSC) सेंटर पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करा लें। Kisan Pension Yojana रजिस्ट्रेशन होने के बाद आगे की प्रक्रिया CSC सेंटर का बैठा कमर्चारी बता देगा कि अब आगे क्या करना है।

किसान पेंशन योजना – Kisan Pension Yojana में कौन लोग रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं?

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेशन योजना में कौन लोग रजिस्ट्रेशन कराने के लिए पात्र यानी एलिजिबल हैं? इसका उत्तर है छोटे और मध्यम जोत वाले किसान और दैनिक कामगार मजदूर किसान पेंशन योजना में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए एलिजिबल हैं।

प्रधानमंत्री पेंशन योजना में रजिस्ट्रेशन कैसे होता है?

किसान पेंशन योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए आपको अपने नजदीकी CSC सेंटर से संपर्क करना होगा।

प्रधानमंत्री पेंशन योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए जरूरी डोक्युमेन्ट्स

किसान पेंशन योजना में पंजीकरण कराने के लिए कुछ जरूरी कागजातों की जरूरत पड़ती है। इन कागजातों की लिस्ट निम्न है:

  • 2 फोटो
  • आधार कार्ड
  • जमीन रिकार्ड के 712 और 8-A के पत्र
  • बैंक पासबुक
See also  एक जिला एक उत्पाद योजना क्या है?

किसान पेंशन योजना के बारें में जानिए महत्वपूर्ण बातें

  • इस योजना में 18 से 40 वर्ष के बीच के किसान और कामगार रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।
  • किसान पेंशन योजना के लिए महिला और पुरुष दोनों हक़दार हैं।
  • यह योजना LIC की सहयोग से चलाई जा रही है।
  • योजना में लाभार्थी को हर महीने एक निश्चित पैसा LIC में प्रीमियम के रुप में जमा करना होता है।
  • किसान और कामगारों को 60 साल बाद मिलने वाली पेंशन भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) की पेंशन निधि द्वारा दी जाएगी।
  • अगर किसान या कामगार की उम्र 21 साल है तो उसे 60 साल तक 55 रुपये हर महीने LIC प्रीमियम के रुप में जमा करना होगा। इसी तरह 55 रुपये से लेकर 200 रुपये के बीच की रकम प्रीमियम जमा करना होता है। प्रीमियम उम्र के हिसाब से तय होता है।
  • आपको बता दें कि जितनी धनराशी लाभार्थी द्वारा हर महीने प्रीमियम के रुप में जमा किया जायेगा उतनी ही धनराशी केन्द्र सरकार भी लाभार्थी के तरफ से LIC को प्रीमियम के रुप में जमा करेगी।
  • इस योजना की विशेषता है कि लाभार्थी अगर चाहे तो पति – पत्नी दोनों लोग एक साथ इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • अगर लाभार्थी योजना को बीच में ही छोड़ना चाहेगा तो उसको यह सुविधा मिलेगी। जब लाभार्थी योजना से हटना चाहेगा तो उसे तब तक का भरा गया प्रीमियम ब्याज सहित वापस कर दिया जायेगा।
  • योजना के बीच में ही अगर लाभार्थी की मौत हो जाती है तो उसके पति –पत्नी द्वारा प्रीमियम भरने का विकल्प जारी रखा जा सकता है। 60 साल बाद उतना ही लाभ मिलेगा।
  • योजना के बीच में अगर लाभार्थी की मौत होती है और उसका नामिनी अगर योजना के तहत प्रीमियम बंद करना चाहें तो भी उसको यह विकल्प दिया जायेगा।
  • प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना (PMSYM) के बारे में और अधिक जानकारी के लिए और रजिस्ट्रेशन से संबंधित बातों को जानने के लिए लिए किसान निशुल्क टोल फ्री नंबर 18001801551 पर कॉल करें।
See also  ऐसे शुरू करें पुराने कपड़ों का ऑनलाइन बिजनेस और कमाएं लाखों

अन्य सरकारी योजनायें :

  1. प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना
  2. प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना
  3. स्टैंड अप इंडिया स्कीम
  4. क्रेडिट गारंटी फंड स्कीम
  5. प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना

इन्हें भी जानिए-

मुद्रा लोन आवेदन के लिए  आधार कार्ड – योग्यता, स्टेटस & डाउनलोड  बिजनेस लोन एप्लीकेशन फॉर्म ट्रेडर्स के लिए बिज़नेस लोन
महिलाओं के लिए लोन स्किम जानने के लिए स्टैंड अप इंडिया स्कीम के लिए अप्लाई कैसे करें? प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना – योग्यता, डाक्यूमेंट्स, रजिस्ट्रेशन पैन कार्ड- ऑनलाइन/ऑफलाइन आवेदन कैसे करें और इसका उपयोग
क्रेडिट गारंटी फंड स्कीम ट्रैवल एजेंसी के लिए लोन ग्रोसरी स्टोर के लिए लोन छोटे व्यापार के लिए लोन
जननी सुरक्षा योजना क्या है  मैन्युफैक्चरर्स के लिए लोन बुटीक लोन टेक्सटाइल्स इंडस्ट्री के लिए लोन
जिला उद्योग केंद्र लोन स्कीम 2020 से मानधन योजना क्या अलग है?

हां। जिला उद्योग केंद्र लोन स्कीम 2020 एक परस्पर चलने वाली योजना है। इस योजना का कार्यान्वय राज्य सरकार के सहयोग से किया जाता है। मानधन योजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है।

मानधन योजना में कितना पैसा मिलता है?

15 हजार रुपए से कम इनकम वाले मजदूरों को 60 साल की उम्र के बाद 3000 रुपए प्रति माह की पेंशन देने का कार्यक्रम बनाया गया है। हालांकि यह यह योजना एलआईसी के तर्ज पर चल रही है। इसमें पहले लाभार्थी को छोटी – छोटी किश्ते जमा करना होता है। उतनी ही किश्त सरकार के तरफ से भी जमा की जाती है।

मानधन योजना का लाभ कौन उठा सकता है?

पीएम किसान मानधन योजना के तहत 18 से 40 की उम्र के बीच का कोई भी किसान/मजदूर पेंशन का लाभ उठा सकता है।

क्या अभी भी मानधन योजना में रजिस्ट्रेशन हो रहा है?

बिल्कुल। मानधन योजना में अभी भी रजिस्ट्रेशन हो रहा है।

श्रम योगी मानधन योजना क्या है?

असंगठित कामगारों के लिए प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना चलाई जा रही है। इस योजना के तहत कामगारों को उनकी 60 साल की उम्र के बाद 3 हजार रुपये तक पेंशन दिया जाना है।

असंगठित क्षेत्र में कौन-कौन से श्रमिक आते हैं

छोटे और सीमांत किसान
भूमिहीन खेतिहर मजदूर
हिस्सा साझा करने वाले
मछुआरे
पशुपालक
बीड़ी रोलिंग करनेवाले
ईंट भट्टों और पत्थर खदानों में लेबलिंग और पैकिंग करनेवाले
निर्माण और आधारभूत संरचनाओं में कार्यरत श्रमिक
चमड़े के कारीगर
बुनकर
कारीगर
नमक मजदूर
तेल मिलों आदि में कार्यरत
संलग्न खेतिहर मजदूर
बंधुआ मजदूर
प्रवासी मजदूर
अनुबंधी और दैनिक मजदूर
ताड़ी बनाने वाले
सफाईकर्मी
सिर पर भार ढ़ोने वाले
पशु चालित वाहन वाले श्रमिक
घरेलू कामगार
मछुआरे और महिलाएं
नाई
सब्जी और फल विक्रेता
न्यूज पेपर विक्रेता

आवेदन के लिए कौन से ऑफिस जाना होगा?

मानधन योजना में आवेदन करने के लिए ऑनलाइन औप ऑफलाइन दोनों ही विकल्प है।

Related Posts

MSME Full FormMSME RegistrationCGTMSE
MSME LoanVAT RegistrationUdyog Aadhaar
GST RegistrationStand Up India SchemeCGTMSE Fee
Shop LoanWhat is CGSTDownload GST Certificate
PM SVAnidhi SchemeCancelled ChequeUPI Full Form
Business Loan EligibilityGST Full FormE-Way Bill Unblocking
CIN NumberGST LoginUAN Number