प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नेतृत्व वाली सरकार स्वरोजगार को अधिक प्राथमिकता दे रही है। ऐसे में सरकार की तरफ से कई योजनाएं संचालित की जा रही हैं। प्रधानमंत्री योजना के तहत संचालित हो रही प्रधानमंत्री जन औषधि योजना भी एक स्वरोजगार को बढ़ावा देने वाली स्कीम है। इस योजना के तहत जन औषधि केंद्र (Jan Aushadhi Kendra) खोलने के लिए 2 लाख 50 हजार तक का बिजनेस लोन केन्द्रीय सरकार द्वारा दिया जाता है। इस स्कीम का लाभ उठाने के लिए हम आपको PMJAY के बारे में विस्तार से जानकारी दे रहे हैं ताकि आप भी खुद का स्वरोजगार शुरु कर सके और अच्छी इनकम प्राप्त कर सके।

प्रधानमंत्री योजना: क्या है PMJAY स्कीम

जन औषधि योजना की शुरुवात 2015 में हुई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मानना है कि दवा की पहुंच हर आदमी के पास होनी चाहिए। दवा का मूल्य इस तरह का होना चाहिए जिससे लोगों को दवा खरीदने में किसी भी तरह की कठिनाई का समाना न करना पड़े। इस सोच के तहत शुरु की गई प्रधानमंत्री जन औषधि योजना। इस योजना का उद्देश्य देश के दूर दराज इलाकों तक लोगों को सस्ती दवा पहुंचाना है। इस योजना के तहत प्रदान की जाने वाली दवाएं बाजार ई रेट से 90 प्रतिशत तक सस्ती मिलती हैं। दवाएं जेनरिक होती हैं।

See also  एनआरसी क्या है और देश में कारोबार पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा?

इस कार्य को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री योजना की तहत जन औषधि केंद्र खोलने की योजना चलाई जा रही है। औषधि केंद्र खोलने में सरकार वित्तीय मदद के तौर 2 लाख 50 हजार रुपये भी बतौर बिजनेस लोन दे रहो है। यानी आपका स्वरोजगार का रोजगार भी और सरकार की तरफ से मदद भी। आइए इस स्कीम का लाभ लेने के प्रोसेस के बारे में समझते हैं।

बिजनेस में कामयाबी चाहते है? तो छोड़ना पड़ेगा इन आदतों को

प्रधानमंत्री योजना: वर्तमान में 5500 जन औषधि केंद्र खुल चुके हैं

अभी तक देश में प्रधानमंत्री योजनान्तर्गत 5500 के करीब जन औषधि केंद्र (Jan Aushadhi Kendra) खुल चुके है। इन औषधि केन्द्रों का सबसे अधिक फायदा महिलाओं को प्राप्त हुआ। खुले मार्केट में चार सैनिटरी नैपकीन (Sanitary Napkin) पैड के पैक की कीमत 10 रुपये है वही जन औषधि केंद्र पर सिर्फ 4 रुपये कीमत है। ऐसे में एक सैनिटरी नैपकीन (Sanitary Napkin) 1 रुपये की मामूली कीमत पर बिक रही है। इस तरह अभी तक जिन महिलाओं की पहुंच से बाहर था सैनिटरी नैपकीन (Sanitary Napkin) का इस्तेमाल करना अब वह भी सैनिटरी नैपकीन (Sanitary Napkin) का इस्तेमाल कर सकेंगी।

जन औषधि केंद्र खोलने के लिए कौन पात्र है

प्रधानमंत्री योजना के तहत खुल रहे जन औषधि केंद्र खोलने के लिए ऐसी कोई विशेष शर्त नहीं है जिससे किसी विशेष को ही अनुमति हो। इस योजना के तहत कोई भी व्यक्ति या कारोबारी जन औषधि केंद्र खोल सकता है। इसके अलावा निम्न कैटेगरी के तहत भी जन औषधि केंद्र के लिए आवेदन किया जा सकता है।

  • अस्पताल
  • गैर सरकारी संगठन (एनजीओ)
  • फार्मासिस्ट
  • डॉक्टर
  • मेडिकल प्रैक्टिशनर

घर बैठे कैसे प्राप्त करें बिजनेस लोन?

जन औषधि केंद्र खोलने के प्रमुख लाभ

प्रधानमंत्री योजना योजनान्तर्गत जन औषधि केंद्र खोलने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसमें सरकार द्वारा 2 लाख 50 हजार तक का बिजनेस लोन मिलता है। साथ ही, एससी, एसटी (SC, ST) और दिव्यांग आवेदकों को 50 हजार रुपये अलग से औषधि यानी दवा खरीदने के लिए एडवांस में प्रदान किया जाता है। इस योजना की खास बात यह कि सरकार के बिजनेस लोन की मदद से खुलने वाली दुकान का नाम “प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र” रखना होता है।

See also  प्रधानमंत्री बिजनेस लोन योजना: मिलेगा सभी को लोन

प्रधानमंत्री योजना: जन औषधि केंद्र के लिए जरूरी दस्तावेज़

जन औषधि के केंद्र के लिए जरूरी कागजातों की सूची निम्न है:

  • आधार (Aadhar)
  • पैन कार्ड (Pan Card)
  • संस्था का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (फार्मासिस्ट, डॉक्टर, और मेडिकल प्रैक्टिशनर होने की स्थिति में)

एक अन्य शर्त है: औषधि केंद्र खोलने के लिए व्यक्ति के पास कम से कम 120 वर्गफीट की जगह होनी चाहिए (यह जगह खुद की हो या किराए पर भी होने पर मान्य होगी)

जन औषधि केंद्र खोलने का प्रमुख लाभ

  • दवा की प्रिंट कीमत पर 20 प्रतिशत का लाभ।
  • 2 लाख रुपये का बिजनेस लोन।
  • एक साल तक लगातार औषधि केंद्र चलाने पर 10 प्रतिशत का अतिरिक्त इंसेंटिव लाभ। इंसेंटिव लाभ 10 हजार महीने अधिकतम होगी।
  • उत्तर पूर्वी राज्य, नक्सल प्रभावित इलाके और आदिवासी इलाकों में इंसेंटिव लाभ 15 प्रतिशत तक हो सकता है। यह रकम 15 हजार रुपये अधिकतम होगी।

जन औषधि योजना के लिए कैसे अप्लाई करते हैं

प्रधानमंत्री योजना के तहत जन औषधि केंद्र खोलने के लिए आवेदन करने के 2 तरीके हैं। पहला ऑनलाइन, दूसरा ऑफलाइन। ऑफलाइन अप्लाई करने के लिए सबसे पहले आपको योजना की जन औषधि की वेबसाइट पर जाकर फॉर्म डाउनलोड करना होगा। फॉर्म डाउनलोड करने के बाद फॉर्म में मांगी गई जानकारी को पूरी तरह और पूरे ध्यान से भरकर ब्यूरो ऑफ फॉर्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया (BPPI) के जनरल मैनेजर (A&F) के नाम से भेजना होगा।

See also  भारतीय व्यवसायियों को इन 10 बातों में करना चाहिए सुधार

ऑनलाइन अप्लाई करने के लिए जन औषधि की वेबसाइट ओपन करके अप्लाई ऑनलाइन पर क्लिक करना होगा। ओपन पर क्लिक करने के बाद एक फॉर्म खुल कर आएगा, जिसे अच्छी तरह भरने के बाद सबमिट बटन पर क्लिक करना होता है।

ZipLoan से मिलता है मेडिकल स्टोर का विस्तार करने के लिए बिजनेस लोन
ZipLoan’ फिनटेक क्षेत्र की प्रमुख NBFC यानी नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी है। मेडिकल कारोबार बढ़ाने के लिए 1 से 5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जाता है।

ZipLoan से बिजनेस लोन पाने की शर्ते बहुत कम हैं 

  • बिजनेस कम से कम 2 साल पुराना हो।
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर कम से कम 5 लाख से अधिक का होना चाहिए।
  • पिछले साल भरी गई ITR डेढ़ लाख रुपये की हो या इससे अधिक की होनी चाहिए।
  • घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर होना चाहिए।

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने के कई फायदे है

  • बिजनेस लोन की रकम अप्लाई करने के सिर्फ 3 दिन के भीतर मिल जाती है। (यह सुविधा जरुरी कागजी दस्तावेजों को उपलब्ध रहने पर मिलती है)
  • लोन घर बैठे ऑनलाइन अप्लाई किया जा सकता है।
  • बिजनेस लोन की रकम 6 महीने बाद प्री पेमेंट फ्री है।
  • लोन की रकम 12 से लेकर 24 महीने के बीच वापस कर सकते है।

आपको यह लेख पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। बिजनेस से जुड़ी कोई भी नई अपडेट या जानकारी पाने के लिए हमसे फेसबुकट्विटर और लिंक्डन पर भी जुड़े।

Related Posts

MSME Full FormMSME RegistrationCGTMSE
MSME LoanVAT RegistrationUdyog Aadhaar
GST RegistrationStand Up India SchemeCGTMSE Fee
Shop LoanWhat is CGSTDownload GST Certificate
PM SVAnidhi SchemeCancelled ChequeUPI Full Form
Business Loan EligibilityGST Full FormE-Way Bill Unblocking
CIN NumberGST LoginUAN Number