कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के EPF अकाउंट में कभी – कभी समस्या आ जाती है। लोगों को सही जानकारी नहीं मिल पाती है। ईपीएफ से पैसा निकासी, ईपीएफ खाते के ट्रांसफर, केवाईसी को लेकर परेशान रहते हैं। ऐसे में अगर शिकायत दर्ज कराने का विकल्प मिल जाये तो सही समाधान हो जाता है।

कर्मचारियों की इसी तरह की समस्या देखते हुए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) द्वारा एक खास वेबसाइट ‘EPF I Grievance Management System’ निर्मित की गई है। इस वेबसाइट पर कर्मचारी अपनी समस्या से संबंधित शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

EPFO की इस वेबसाइट परकर्मचारी ईपीएफ खाता से पैसा निकासी, ईपीएफ खाते के ट्रांसफर, केवाईसी से जुड़े मसलों और इसी तरह की शिकायतों को दर्ज कर सकते हैं और समाधान प्राप्त कर सकते हैं। आपको जानकारी के लिए बता दें कि इस पोर्टल को ईपीएफ खाताधारक, ईपीएफ पेंशनर और कंपनियां इस्तेमाल कर सकती हैं।

EPFO की वेबसाइट पर शिकायत कराने की यह है शर्त

शिकायत दर्ज करने के लिए आपको अपना यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (UAN) संभालकर रखना होगा। पेंशन पेमेंट ऑर्डर (PPO) नंबर या कंपनी का इस्टैबलिशमेंट नंबर नहीं होने पर भी आप शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

आप एक ही यूएएन से जुड़े कई पीएफ नंबर से संबंधित शिकायत दर्ज कर सकते हैं। ईपीएस पेंशनर हैं तो पीपीओ नंबर देना पड़ता है। आइये समझते हैं कि EPF से जुडी शिकायत कैसे दर्ज कराई जा सकती है।

EPF से जुड़ी शिकायत ऐसे दर्ज होती है:

चरण1 : सबसे पहले http://www.epfigms.gov.in/ पर जाएं।

चरण 2 : शिकायत दर्ज करने के लिए ‘रजिस्टर ग्रीवांस’ पर क्लिक करें।

चरण 3 : आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर नया वेबपेज खुल जाएगा। उस स्टेटस को चुनें जिसमें शिकायत दर्ज कर रहे हैं। स्टेटस का मतलब पीएफ मेंबर, ईपीएस पेंशनर, इंप्लॉयर या अन्य से है। यहां पर यह ध्यान रखना है कि  ‘अन्य’ का विकल्प तभी चुनें अगर आपके पास यूएएन/पीपीओ नहीं है।

चरण 4 : पीएफ अकाउंट संबंधी शिकायत को निपटाने के लिए ‘पीएफ मेंबर’ के तौर पर स्टेटस चुनें। आपसे अपना यूएएन और सिक्योरिटी कोड दर्ज करने के लिए कहा जाएगा।

चरण 5 : सही यूएएन और सिक्योरिटी कोड दर्ज करने के बाद ‘गेट डीटेल्स’ पर क्लिक करें। यूएनएन से लिंक छुपी हुई (मास्क्ड) पर्सनल डिटेल आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखने लगेंगी।

चरण 6 : ‘गेट ओटीपी’ पर क्लिक करें। ईपीएफओ डेटाबेस में दर्ज मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी पर वन-टाइम पासवर्ड भेजा जाएगा।

चरण 8 : एक बार ओटीपी के सफलतापूर्वक वेरिफाई हो जाने पर आपसे पर्सनल डिटेल मांगी जाएगी।

चरण 9 : पर्सनल डिटेल दर्ज करने पर उस पीएफ नंबर पर क्लिक करें जिसके संबंध में आपको शिकायत दर्ज करनी है।

चरण 10 : आपकी स्क्रीन पर एक पॉप-अप दिखेगा। उस रेडियो बटन को चुनें जिससे आपकी शिकायत जुड़ी है।

चरण 11 : ग्रीवांस कैटेगरी को सेलेक्ट करें और अपनी शिकायत का ब्योरा लिखें। इसके पक्ष में यदि कोई सबूत हों तो उन्हें अपलोड कर सकते हैं।

चरण 12 : शिकायत दर्ज हो जाने पर ‘ऐड’ पर क्लिक करें।

चरण 13 : ‘सबमिट’ पर क्लिक करें।

सब्मिट पर क्लिक करने पर आपकी शिकायत जमा हो जाएगी और आपके रजिस्टर्ड ईमेल और मोबाइल पर कम्प्लेंट रजिस्ट्रेशन नंबर भेजा जाएगा। अपना कम्प्लेंट रजिस्ट्रेशन नंबर संभालकर रखिये।

EPF में की गई शिकायत का स्टेटस ऐसे करें चेक

शिकायत दर्ज करने के बाद आप EPF ग्रीवांस मैनेजमेंट सिस्टम पर इसका स्टेटस ट्रैक कर सकते हैं। अपनी शिकायत का स्टेटस चेक करने के लिए आपको ये स्टेप लेने होंगे।

चरण 1 : पहले https://epfigms.gov.in/ पर जाएं।

चरण 2 : ‘व्यू स्टेटस’ आप्शन को चुनें।

चरण 3 : रजिस्ट्रेशन नंबर या मोबाइल नंबर/ईमेल आईडी और सिक्योरिटी कोड दर्ज करें।

चरण 4 : सब्मिट पर क्लिक करें।

आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर आपकी शिकायत का स्टेटस दिखने लगेगा। स्टेटस यह भी दिखाएगा कि ईपीएफओ का कौन सा क्षेत्रीय कार्यालय आपकी शिकायत पर काम कर रहा है। शिकायत पर काम करने वाले अधिकारी का नाम भी आएगा।

यदि आप क्षेत्रीय ईपीएफओ के कार्यालय से संपर्क करना चाहते हैं, तो स्क्रीन पर ईमेल एड्रेस और फोन नंबर डिस्प्ले किया जाएगा।

शिकायत के बाद रिमाइंडर कैसे भेजें? यदि आपकी शिकायत को हल करने में बहुत अधिक समय लग रहा है तो आप एक रिमाइंडर भी भेज सकते हैं। रिमाइंडर भेजने का तरीका यह है:

चरण 1 : www.epfigms.gov.inपर जाएं।

चरण 2 : ‘सेंड रिमाइंडर’ ऑप्शन को चुनें।

चरण 3 : रजिस्ट्रेशन नंबर या मोबाइल नंबर/ईमेल आईडी और सिक्योरिटी कोड दर्ज करें।

चरण 4 : सबमिट पर क्लिक करें।

सबमिट बटन पर क्लिक करते ही आपकी शिकायत का रिमाइंडर ईपीएफओ ऑफिस को भेज दिया जाएगा।

सोर्स: इकोनामिक्स टाइम्स