पीएफ अकाउंट में कर्मचारी की बेसिक सैलरी का 12 प्रतिशत जमा होता है और इतनी ही रकम यानी कर्मचारी के बेसिक सैलरी का 12% जहां वह नौकरी कर रहा है, उनके यहां से हर महीने जमा होता है।

कर्मचारी के बेसिक सैलरी का 12% कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) में पूरा जमा हो जाता है जबकि कंपनी/संस्थान  द्वारा किया गया 12% का योगदान में से केवल 3.67 % ही EPF में जमा होता है।

शेष 8.33% कर्मचारी पेंशन योजना  (Employee’s Pension Scheme-EPS)  में जमा हो जाता है। यह पैसा इक्कठा होते – होते रिटायर्मेंट के समय एक बड़ा अमाउंट बन जाता है।

चूंकि यह पैसा कर्मचारियों की सैलरी में कटता है, इसलिए कर्मचारी इस बात को जानना चाहते हैं कि उनके एम्प्लॉयी प्रोविडेंट फंड (EPF) अकाउंट में अब तक कितना पैसा जमा हो चुका है।

आइये आज इस आर्टिकल में इस बात को समझते हैं कि एम्प्लॉयी प्रोविडेंट फंड (EPF) में जमा पैसों को कैसे जाना जा सकता है।

एम्प्लॉयी प्रोविडेंट फंड (EPF) एक सतत चलाने वाला अकाउंट है। इस अकाउंट में कर्मचारी की सैलरी का एक हिस्सा जमा होता चला जाता है।

बेहतरीन बात यह है की जितना पैसा कर्मचारी की सैलरी से एम्प्लॉयी प्रोविडेंट फंड (EPF) के लिए कटता है, उतना ही हिस्सा कंपनी / संस्थान के यहां भी कर्मचारी के पीएफ अकाउंट में जमा किया जाता हैं।

अक्सर यह देखा जाता है की कर्मचारी एम्प्लॉयी प्रोविडेंट फंड (EPF) के रुप में कटने वाले पैसों के बारे में जानना चाहते हैं। वह जानना चाहते हैं कि उनके पीएफ अकाउंट में अभी तक कुल कितना पैसा जमा हो चुका है।

लेकिन, जानकारी के अभाव में उनको यह पता नहीं चल पाता है, जिसके चलते वह एम्प्लॉयी प्रोविडेंट फंड संस्थान (EPFO) के कार्यालय का चक्कर काटते हैं या EPFO की वेबसाइट से हेल्पलाइन नंबर निकालकर फोन करते करते हैं।

इसे भी पढ़े: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) क्या है?

इतने प्रयास के बाद हालांकि कर्मचारी को पीएफ अकाउंट में जमा पैसों के बारे में जानकारी तो मिल जाती है। लेकिन, अगले महीने उनको फिर से वही प्रक्रिया अपनाना पड़ता है। इन सब में कर्मचरियों का समय जाया होने के साथ – साथ पैसों की भी बर्बादी होती है।

जबकि पीएफ अकाउंट में जमा पैसों की डिटेल्स जानना अब बिल्कुल आसान बन गया है। सरकार का प्रयास है कि किसी भी कर्मचारी को ओने ही पीएफ अकाउंट का पैसा जानने के लिए परेशानी का सामना न करना पड़े, इसलिए पीएफ अकाउंट की डिटेल्स जानने की प्रक्रिया को बेहद आसान बना दिया गया है।

अब किसी भी कर्मचारी को एक एम्प्लॉयी और प्रोविडेंट फंड (PF) का सदस्य होने के रूप में साल की आखिरी में जारी होने वाली पीएफ स्टेटमेंट का इंतजार नहीं करना होता है। और न ही EPFO दफ्तर में फोन घनघना होता है।

EPFO – कर्मचारी भविष्य निधि संगठन द्वारा पीएफ अकाउंट में जमा पैसों को जानने के लिए 2 बहुत ही शानदार और बेहद आसान तरीका निकाला है।

इन 2 शानदार तरीकों से कर्मचारी बहुत ही आसानी से अपने पीएफ अकाउंट में जमा पैसों के बारे में जानकरी प्राप्त कर सकते हैं। यह जान सकते हैं कि उनके पीएफ अकाउंट में कितना पैसा जमा हो चुका है। आइये इन चारों तरीके के बारे में जानते हैं।

आधिकारिक नंबर पर मिस्ड कॉल करके जानिए

जैसे फोन करना आसान होता है, वैसे ही पीएफ अकाउंट में जमा पैसों के बारे में जानने के लिए मिस्ड कॉल करना भी बेहद आसान है। मिस्ड कॉल करने से कर्मचारी के मोबाइल पर एक मैसेज आता है। इस मैसेज में कर्मचारी के पीएफ अकाउंट संबंधित सभी जानकारी होती है।

मैसेज में यह लिखा होता है कि, अकाउंट होल्डर का नाम क्या है, उसका पैन नंबर क्या है, उसका आधार नंबर क्या है और उसके पीएक अकाउंट कुल कितना पैसा जमा है। हालांकि इस सब कुछ के बारे में तभी जानकारी मिल पाती है, जब उसी मोबाइल नंबर से मिस्ड कॉल दिया गया हो, जो मोबाइल नंबर (UAN) पोर्टल पर रजिस्टर्ड हो।

इसे भी पढ़े: EPFO: PF या EPS से पैसा निकालने के लिए कैसे भरा जाता है कंपोजिट क्लेम फॉर्म? जानिए

पीएफ अकाउंट खुलवाने में जो मोबाइल नंबर दिया गया हो, उसी नंबर से मिस्ड कॉल देना होता है। कर्मचारी को मिस्ड कॉल के जरिये अपने पीएफ अकाउंट की डिटेल्स जानने के लिए 011-22901406 पर मिस्ड कॉल देना होता है।

ईपीएफओ (EPFO) ऐप के जरिये

कर्मचारी भविष्य निधि संस्थान द्वारा कर्मचारियों की सुविधा के लिए एक मोबाइल ऐप बनाया गया है। इस मोबाइल ऐप का नाम EPFO Member है। इस मोबाइल ऐप के जरिये भी कर्मचारी अपने पीएफ अकाउंट संबंधित डिटेल्स जान सकते हैं।

ईपीएफओ (EPFO) ऐप डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्कोर पर जाकर EPFO Member सर्च करना होता है। ऐप डाउनलोड करने के बाद, ऐप अपना UAN नंबर और पीएफ अकाउंट खोलते समय दिया गया मोबाइल नंबर दर्ज कर होता है।

ऐप ओपन होने के बाद आप बैलेंस/पासबुक सेक्शन में जाकर अपने पीएफ अकाउंट से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। EPFO Member ऐप का फायदा बहुत है। इस ऐप पर आप जब चाहें तब अपने पीएफ अकाउंट के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इस ऐप के जरिये आप अपने घर या दफ्तर, कहीं से भी मिनटों में अपना पीएफ (PF) बैलेंस चेक कर सकते हैं।

जानिए कर्मचारी भविष्य निधि संघठन – EPFO के बारे में

यह एक सरकारी संघठन है। EPFO की स्थापना 15 नवंबर 1951 को की गई थी। इस संघठन की स्थापना कर्मचारियों की हितों का रक्षा करने के लिए और उनके भविष्य को बेहतर बनाने का का उद्देश्य के साथ हुई है।

कर्मचारी भविष्य निधि की स्थापना कर्मचारी भविष्य निधि अधिनियम 1951 और उसके अन्दर बनी योजनाओं का क्रियान्वयन एक त्रिपक्षीय बोर्ड, केन्द्रीय न्यासी बोर्ड (Central Board of Trustee) द्वारा किया जाता है।

यह कानून जम्मू और कश्मीर को छोड़कर पूरे भारत में लागू है | इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि कर्मचारी भविष्य निधि में हर महीने कुछ रुपये जमा करके व्यक्ति अपने रिटायर्मेंट को सुखद बनाता है |

कमर्चारी भविष्य निधि ऑफिस में उन सभी कंपनी, सरकारी ऑफिस  और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग को रजिस्टर्ड करना पड़ता है जहां पर 20 से अधिक कर्मचारी काम करते हैं।

इस संस्था का मुख्य काम कर्मचारियों के भविष्य की आर्थिक प्लानिंग करना होता है। EPFO द्वारा कर्मचारियों का पीएफ अकाउंट खुलता है। पीएफ अकाउंट में कर्मचारी के बेसिक सैलरी का 12 प्रतिशत और इतनी ही रकम जहां वह कर्मचारी काम कर रहा है उनके यहां से हर महीने जमा की जाती है।

इसे भी पढ़े: EPFO: PF अकाउंट के लिए कैसे करें ई-नॉमिनेशन? जानिए पूरा प्रोसेस