अगर आपने फाइनेंशियल इयर 2017-18 (असेसमेंट इयर 2018-19) का इनकम टैक्स रिटर्न अभी तक नहीं भरा है, तो भर दीजिए क्योंकि रिटर्न फाइल करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई है। इसके लिए केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने टैक्स पेयर्स के लिए बहुप्रतिक्षित इनकम टैक्स फॉर्म 2 जो कि पहले पीडीएफ फॉर्मेट में था, अब उसे जावा फॉर्मेट में भी जारी कर दिया है। अगर आप 31 जुलाई तक रिटर्न फाइल नहीं करेगें, तो आपको भारी पेनल्टी भरनी पड़ सकती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आयकर विभाग ने सभी टैक्स पेयर्स के लिए फॉर्म 2 को भरना अनिवार्य कर दिया है। फॉर्म 2 दूसरा सबसे बड़ा फॉर्म है, जिसका टैक्सपेयर्स रिटर्न फाइल करने के लिए प्रयोग करते हैं। ITR फाइल करने से पहले इन जरूरी बातों के बारे में जान लें-

महत्वपूर्ण तारीखें-

सामान्य टैक्सपेयर के लिए आखिरी तारीख: 31 जुलाई 
ऑडिट वाले टैक्सपेयर (कंपनी और बिजनेसमैन) के लिए: 30 सितंबर 
बिजनेसमैन (टीपी रिपोर्ट): 30 नवंबर

आयकर विभाग ने जारी किए 8 आईटीआर फॉर्म-

आयकर विभाग ने अभी तक जो 8 फॉर्म जारी किए हैं, वे हैं- आईटीआर 1(सहज), आईटीआर 2, आईटीआर 3, आईटीआर 4, आईटीआर 4S (सुगम), आईटीआर 5, आईटीआर 6 और आईटीआर 7। इन फॉर्म्स को आप ऑनलाइन भर सकते हैं। आप सीधे  Income Tax Department की वेबसाइट पर जाकर भी अपना आईटीआर फाइल कर सकते हैं।

कैसे भरें ऑनलाइन-

आईटीआर रिटर्न प्रक्रिया को और आसान बनाने के लिए आयकर विभाग ने ई-आईटीआर की सुविधा भी शुरू की है। अब ऑनलाइन रिटर्न भरने के लिए एटीएम की मदद से भी वैलिडेशन किया जा सकेगा। इस सुविधा का लाभ आप बिना इंटरनेट के भी उठा सकते हैं। जिस बैंक में टैक्सपेयर्स का खाता होगा, वो बैंक उसे एटीएम के प्री-वैलिडेशन के बाद इलेक्ट्रानिक वेरिफिकेशन कोड (ईवीसी) देगा।

इनकम टैक्स किसे भरना है जरूरी-

अगर आपकी सालाना टैक्सेबल इनकम 2.50 लाख रुपये से ज्यादा है, तो आपको रिटर्न फाइल करना जरूरी है। इनकम टैक्स रिटर्न ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से फाइल किया जा सकता है। 5 लाख रुपये से ज्यादा आमदनी वालों के लिए ऑनलाइन ITR फाइल करना अनिवार्य है।