मुद्रा लोन योजना की शुरुआत देश में एमएसएमई कारोबारियों की मदद करने के उद्देश्य को लेकर की गई है। Mudra Loan Yojana की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 8 अप्रैल 2015 हुई है। मुद्रा योजना में एमएसएमई कारोबारियों को तीन कैटेगरी में 10 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन मिलता है।

Mudra Loan Yojana क्या है?

मुद्रा लोन योजना एक ऐसी सरकारी लोन योजना है जिसमें कम ब्याज दर पर और सरकारी सब्सिडी पर एमएसएमई कारोबारियों को बिजनेस लोन प्रदान किया जाता है। मुद्रा लोन के तौर मिलने वाली रकम का उपयोग कारोबार शुरु करने के लिए और पहले से चल रहे कारोबार का विस्तार करने में किया जाता है।

MSME लोन के लिए अप्लाई करें

इसके अतिरिक्त मुद्रा लोन का उपयोग बिजनेस का वर्किंग कैपिटल मैनेज करने के लिए और बिजनेस की अन्य जरुरतों का पूरा करने के लिए किया जाता है। इस योजना का एक अन्य उद्देश्य है कि समाज के निचले तबके के लोग मुद्रा लोन का लाभ उठाकर स्वरोजगार अपनाएं और समाज की मुख्यधारा से जुड़ सकें।

मुद्रा योजना का पुरा नाम Micro Units Development and Refinance Agency Limited (MUDRA) है। यह एक गैर वित्तीय संस्थान यानी एनबीएफसी है, जिसका मुख्यालय मुंबई में है।

Mudra Loan Yojana में लोन कहां से मिलता है?

यह भी एक महत्वपुर्ण त्थय है कि मुद्रा लोन योजना को कई अलग – अलग नामों से जाना जाता है। मुद्रा लोन को सरकारी लोन, प्रधानमंत्री लोन जैसे नाम से भी जाना जाता है। हालांकि मुद्रा लोन का असल नाम प्रधानमंत्री मुद्रा योजना है।

बहुत से कारोबारी इस उलझन में रहते हैं कि मुद्रा लोन कहां से मिलता है और मुद्रा लोन लेने का प्रोसेस क्या है। सही जानकारी रखना बेहद जरुरी होता है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि मुद्रा लोन लेने के लिए किसी मुद्रा कंपनी की तलाश नहीं करना होता है।

इसे भी जानिए: महिलाओ के लिए मुद्रा लोन स्कीम

मुद्रा योजना के तहत बिजनेस लोन देने के लिए सरकार द्वारा देश में 27 सरकारी बैंक, 17 प्राइवेट सेक्टर, 31 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, 4 सहकारी बैंक, 36 माइक्रो फाइनेंस संस्थान और 25 गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFC) को अधिकृत किया गया है।

ऐसे में जिन्हें Mudra Loan Yojana के तहत मुद्रा लोन की आवश्यकता हो वह लोग अपने नजदीकी किसी ऐसे बैंक या गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFC) का पता लगायें जो मुद्रा लोन देने के लिए अधिकृत हो और उस बैंक या कंपनी से मुद्रा लोन के लिए आवेदन करें।

Mudra Loan Yojana में कितना लोन मिलता है?

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा मुद्रा योजना की शुरुआत देश में स्वरोजगार को बढ़ाने का लक्ष्य को लेकर की गई है। मुद्रा योजना के तहत कारोबार की शुरुआत करने के लिए और पुराने कारोबार का विस्तार करने के लिए 10 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन 3 कैटैगरी में प्रदान किया जाता है।

क्रम संख्यामुद्रा लोन की कैटेगरीमुद्रा लोन का अमॉनंट
1शिशु लोन50000 (पचास हजार रुपये)
2किशोर लोन500000 (पॉच लाख रुपये)
3तरुण लोन1000000 (दस लाख रुपये)

राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण कार्यालय (सांख्यिकी मंत्रालय ) के सर्वेक्षण-2018 के अनुसार, भारतीय अर्थव्यवस्था मे लगभग 5.77 करोड़ लघु व्यवसायिक इकाइयां (एसएमई) हैं, जिनमे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से 12 करोड़ से अधिक लोग कार्यरत हैं। इन लोगों को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से मदद मिल रही है।

mudra loan kitna milta hai

Mudra Loan Yojana में बिना गारंटी के लोन मिलता है

भारत में बेरोजगारी के आंकड़ों में दिन-प्रतिदिन बढ़ोतरी हो रही है। ऐसा नहीं है कि लोग खुद को कोई स्वरोजगार करके संबल नहीं बनना चहते है। लोग चाहते हैं कि वह खुद का को स्वरोजगार शुरु करें। लेकिन असल समस्या तब शुरु होती है जब स्वरोजगार करने के लिए धन उनके पास नहीं होता है।

इसे भी जानिए: बिना कुछ गिरवी रखे कैसे पाएं बिजनेस लोन? जानिए तरीका

लोग जब बैंक से लोन लेने के लिए जाते हैं तब उनसे लोन की गारंटी के तौर पर प्रॉपर्टी के पेपर या कोई अन्य संम्पति गिरवी रखने की मांग की जाती है। यही वह स्टेज होता है जहां अधिकतर लोगों के कदम पिछे हो जाते हैं, क्योंकि लोगों के पास कुछ ऐसा नहीं होता है जिसे गिरवी रखकर वह लोन ले सकें। ऐसे में उनके सामने बेरोजगार रहने के अलावा कोई और विकल्प होता है।

इसी समस्या को समाप्त करने के लिए मुद्रा लोन योजना का कार्य कर रही है। क्योंकि मुद्रा लोन लेने के लिए कुछ भी गारंटी यानी गिरवी नहीं रखना होता है। Mudra Loan Yojana के तहत बिना कुछ गिरवी रखें बिजनेस लोन मिलता है।

मुद्रा लोन किसे मिल सकता है?

Mudra Loan Yojana के तहत जिसको बिजनेस लोन मिल सकता है, उनकी लिस्ट निम्नलिखित है:

  1. प्रोपराइटरशिप फर्म
  2. पार्टनरशिप फर्म
  3. छोटी निर्माण इकाई
  4. सर्विस सेक्टर की इकाई
  5. दुकानदार
  6. फल-सब्जी विक्रेता
  7. ट्रक/कार चालक
  8. होटल मालिक
  9. रिपेयर शॉप
  10. मशीन ऑपरेटर
  11. छोटे उद्योग खाद्य प्रसंस्करण इकाई
  12. ग्रामीण एवं शहरी इलाके के अन्य उद्योग

इसके अतिरिक्त वह लोग भ मुद्रा लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं जो छोटे स्तर को कोई स्वरोजगार करना चाहते हैं। हालांकि यह ध्यान देने वाली बात है कि कृषि कार्य के लिए Mudra Loan Yojana के तहत लोन नहीं दिया जाता है। मतलब कृषि कार्य को छोड़कर किसी भी बिजनेस के लिए मुद्रा लोन के लिए आवेदन किया जा सकता है।

मुद्रा योजना से लोन लेने के लिए जरूरी डाक्यूमेंट्स

  1. 2 फोटो
  2. पहचान पत्र की फोटोकॉपी – कोई भी आईडी प्रूफ जिसे सरकार ने जारी किया हो, जैसे – आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर कार्ड, पासपोर्ट, बैंक पासबुक, ड्राइविंग लाइसेंस इत्यादि। यहां इस बात का ध्यान रखना होगा कि आप जो भी पहचान पत्र की फोटोकॉपी दे रहे हैं उसपर खुद का हस्ताक्षर करके ही देना होता है।
  3. पता प्रमाण पत्र की फोटोकॉपी – कोई भी सरकार द्वारा जारी पता प्रमाण पत्र जिससे यह साबित होता है कि आप उस पते पर रहते हैं, जैसे- आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, बिजली बिल, पानी की बिल इत्यादि। इस कॉपी पर भी खुद का हस्ताक्षर करना होगा।
  4. बैंक स्टेटमेंट की कॉपी – यह कम से कम 3 महीने की होनी चाहिए
  5. जाति प्रमाण पत्र की कॉपी (अगर आप आरक्षित जाति से हैं और उसका लाभ उठाना चाहते हैं तब इसकी जरूरत पड़ेगी)
  6. कारोबार के पता का प्रमाण पत्र – कारोबार का पहचान व पते का प्रमाण अपने कारोबार से संबंधित लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट या अन्य कोई दस्तावेज जमा करना होगा। यह इस बात का प्रमाण है कि आप उस बिजनेस के मालिक हैं।

मुद्रा कैसे मिलता है- मुद्रा लोन लेने का प्रोसेस

मुद्रा लोन लेने के लिए प्रोसेस फॉलो करना होता है:

  1. सबसे पहले अपने नजदीकी उस बैंक या फाइनेंशियल कंपनी के बारे में पता लगाये जहां से मुद्रा लोन मिलता हो।
  2. जब बैंक या फाइनेंशियल कंपनी का चयन हो गया हो तो इसके कारोबारी की मुख्य जिम्मेदारी है कि वह उस बैंक या फाइनेंशियल कंपनी में जाये और ब्रांच मैनेजर से मिलकर मुद्रा लोन फॉर्म मांगे। मुद्रा लोन फॉर्म लेने के साथ ही लोन के लिए क्या जरूरी कागजात लगाये जाने हैं इसकी भी एक सूची बना लें।
  3. मुद्रा लोन के लिए जिन कागज़ी दस्तावेजों की जरूरत है उसको इक्कठा करें। कागजातों में अगर प्रोजेक्ट रिपोर्ट की मांग की गई हो तो कारोबारी से यह उम्मीद की जाती है कि वह एक बेहतर प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनवाए।
  4. अब बारी है मुद्रा लोन फॉर्म को ध्यान से भरने की। अब कारोबारी मुद्रा लोन फॉर्म को बहुत ध्यान से भरें।
  5. जब फॉर्म पूरी तरह से भर दिया जाये तो अब फॉर्म के साथ सभी जरूरी कागजात फॉर्म इ साथ अटैच करके उसे बैंक की ब्रांच या फाइनेंशियल कंपनी में ले जाकर जमा करना होता है।
  6. लोन फॉर्म जमा होने के बाद कारोबारी को रेगुलर तौर पर अपने मुद्रा लोन एप्लिएक्शन के बारे में जानकारी प्राप्त करते रहने होता है।

अभी बिजनेस लोन पाए