एमएसएमई सेक्टर पर रिसर्च करने के लिए सरकार के निर्देश पर भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा सेबी के पूर्व चेयरमैन यूके सिन्हा के नेतृत्व में एक समिति का गठन किया गया था। समिति ने अपनी रिपोर्ट आरबीआई गर्वनर शक्ति कांत दास को सौंप दिया है। समिति ने यह सिफारिश की है कि मुद्रा लोन के तहत अभी तक जो 10 लाख का बिजनेस लोन बिना कुछ गिरवी रखे प्रदान किया जा रहा था उसे बढ़ाकर 20 लाख कर देना चाहिए।

समिति द्वारा सुझाई गई खास बातें

  • आरबीआई द्वारा गठित समिति ने मुद्रा लोन में प्रदान की जाने वाली रकम को भी दोगुना करने का सुझाव दिया है
  • 2018 -19 में कुल 6 करोड़ बिजनेस लोन दिया गया है मुद्रा योजना के तहत
  • छोटे कारोबारियों को 3 लख करोड़ की रकम बिजनेस लोन के रूप में दिया गया है

 मुद्रा लोन योजना

मुद्रा लोन योजना के तहत छोटे एवं मझोले कारोबारियों को आर्थिक सहायता के रूप में बिजनेस लोन देने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा चलाई जा रही है। इस योजना के तहत तीन प्रकार के बिजनेस लोन उपलब्ध कराए जाते है।

  • शिशु लोन
  • किशोर लोन
  • तरुण लोन

शिशु लोन- शिशु लोन के अंतर्गत 50 हजार तक बिजनेस लोन मिलता है।

किशोर लोन- किशोर लोन के योजना के अंर्तगत 50 हजार से 5 लाख तक का बिजनेस लोन उपलब्ध कराया जाता है।

तरुण लोन- तरुण लोन के अंतर्गत 5 लाख से 10 लाख तक का बिजनेस लोन उपलब्ध कराया जाता है।

MSME को मिलेगा अब 59 मिनट में 1 करोड़ तक का लोन! जानिए कैसे?

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा गठित समिति के अनुसार अब सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग के परिभाषा में भी बदलाव करने के लिए प्रयास हो रहा है। अगर परिभाषा बदती है तो वह इस तरह की होने की संभावना है:

  • 5 करोड़ रुपए तक के टर्नओवर वाले बिजनेस सूक्ष्म माइक्रो बिजनेस होंगे।
  • 75 करोड़ रुपए तक के टर्नओवर वाले उद्योग लघु यानी स्माल बिजनेस होंगे।
  • 250 करोड़ रुपए तक के टर्नओवर उद्योग मध्यम यानी मिडिल बिजनेस होंगे।

पहले इन उद्योगों की परिभाषा इस तरह के थी:

  • 25 लाख तक के टर्नओवर वाले बिजनेस सूक्ष्म उद्योग
  • 25 लाख से 5 करोड़ तक के उद्योग लघु उद्योग
  • 5 से 10 करोड़ तक के उद्योग मध्यम उद्योग की श्रेणी में आते हैं

अगर आरबीआई के सिफारिशों को केन्द्रीय बैंक लागू करता है तो उसे 2010 के अपने उन सर्कुलर में बदलाव करना होगा, जिसके द्वारा अभी तक छोटे एवं मझोले कारोबारियों को बिना गिरवी रखे 10 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन मिलता है। आरबीआई के एक आंकड़े के अनुसार छोटे एवं लघु कारोबारियों के मुद्रा योजना के तहत बिजनेस लोन लेने में 5 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है।

MSME loan

बढ़ जायेगा मुद्रा लोन का दायरा

एमएसएमई के लिए मुद्रा योजना के तहत दिए जाने वाले बिजनेस लोन के लिए जो यूके सिन्हा समिति के सिफारिशों को लागू होते ही, मुद्रा लोन दायरा बढ़ जायेगा। जहां पहले 10 लाख तक बिजनेस लोन बिना कुछ गिरवी रखे मिलता था, वही अब 20 लाख तक बिजनेस लोन बिना कुछ गिरवी रखे मिलना शुरू हो जायेगा।

दिवाली धमाका: इन कारोबार में बरसेगा धन! होगा बिजनेस में लाभ

एमएसएमई के लिए ZipLone से मिलता है बेहद कम शर्तों पर बिजनेस लोन

ZipLoan’ फिनटेक क्षेत्र की प्रमुख NBFC यानी नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी है। ‘कंपनी द्वारा सूक्ष्म, लघु उद्योग के लिए लोन दिया जाता है। कारोबार बढ़ाने के लिए बेहद कम शर्तों पर 1 से 5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जाता है।

ZipLoan से बिजनेस लोन पाने की शर्ते बहुत कम हैं 

  • बिजनेस कम से कम 2 साल पुराना हो।
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर कम से कम 5 लाख से अधिक का होना चाहिए।
  • पिछले साल भरी गई ITR डेढ़ लाख रुपये की हो या इससे अधिक की होनी चाहिए।
  • घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर होना चाहिए।

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने के कई फायदे है

  • बिजनेस लोनकीरकम अप्लाई करने के सिर्फ 3 दिन के भीतर मिल जाती है। (यह सुविधा जरुरी कागजी दस्तावेजों को उपलब्ध रहने पर मिलती है)
  • लोन घर बैठे ऑनलाइन अप्लाई किया जा सकता है।
  • बिजनेस लोन की रकम 6 महीने बाद प्री पेमेंट फ्री है।
  • लोन की रकम 12 से लेकर 24 महीने के बीच वापस कर सकते है।

आपको यह लेख पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। बिजनेस से जुड़ी कोई भी नई अपडेट या जानकारी पाने के लिए हमसे फेसबुकट्वीटर और लिंक्डन पर भी जुड़े।