MSME का फुल फॉर्म माइक्रो, स्माल एंड मीडियम एंटरप्राइज है। देशज भाषा में हम इसे छोटा और मध्यम स्तर का कारोबार कहते हैं। एमएसएमई की सबसे बड़ी खासियत है कि कम संसाधन में और कम जगह पर भी शुरु किया जा सकता है और बेहतर मुनाफा बनाया जा सकता है।

किसी भी विकासशील देश के विकास में उस देश का छोटे और मध्यम कारोबार का बहुत महत्वपूर्ण योगदान होता है। भारत के विकास में एमएसएमई का योगदान इसी तथ्य से समझाजा सकता है कि भारत के जीडीपी में एमएसएमई सेक्टर का अकेले 29% का योगदान होता है।

रोजगार की दृष्टि से भी भारत में एमएसएमई एक प्रमुख स्तम्भ का किरदार निभाने का काम कर रहे हैं। भारत में कुल 12 करोड़ लोगों को रोजगार सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग यानी एमएसएमई में मिला हुआ है। इस इस तरह देखा जाये तो एमएसएमई सेक्टर भारत के लिए बहुत बड़ा योगदान निभा रहा है।

इसे भी जानिए: स्टैंड अप इंडिया स्कीम क्या है?

2019 में तत्कालीन वित्त मंत्री स्वर्गीय अरुण जेटली जी ने वित्तीय बजट पेश करते हुए कहा था कि भारत को 2024 तक 5 ट्रिलियन डॉलर का अर्थव्यवस्था वाला देश बनाना है। इस उद्देश्य के पूर्ति के लिए उन्होंने एमएसएमई पर बहुत विश्वास जताया। साथ ही कहा कि अगले 3 वर्षों में जीडीपी में एमएसएमई की हिस्सेदारी 29% से बढ़ाकर 50% तक करना है।

देश के जीडीपी में एमएसएमई की हिस्सेदारी 50% तक होने का मतलब है कि एमएसएमई सेक्टर का बूम कर जाना। एमएसएमई सेक्टर को बूम करने के लिए इस सेक्टर में भारी मात्रा में निवेश का होना अतिआवश्यक है। हम सभी इस बात से परिचित हैं कि एमएसएमई सेक्टर लंबे समय से पूंजी की कमी से जूझ रहा है। हालांकि तत्कालीन वित्तमंत्री जी ने एमएसएमई सेक्टर को वित्तीय समस्याओं से निजात दिलाने के लिए एमएसएमई लोन योजना शुरु की गई है।

एमएसएमई लोन योजना क्या है?

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग यानी एमएसएमई सेक्टर की प्रमुख समस्या पर्याप्त धन उपलब्ध न होना है। जिसकी वजह से एमएसएमई सेक्टर लंबे समय से जूझ रहा है। पिछले कई वर्षों के दौरान बड़ी संख्या में एमएसएमई बंद भी हुई हैं। ऐसे में एमएसएमई लोन योजना एमएसएमई सेक्टर के लिए एक जीवामृत की तरह है। एमएसएमई लोन योजना एक ऐसी योजना है, जिसके तहत जरूरतमंद एमएसएमई को कम ब्याज दर पर, अधिक अवधि के लिए तथा बिना किसी गारंटी के बिजनेस लोन प्रदान करने की व्यवस्था केन्द्र सरकार द्वारा की गई है।

इसे भी जानिए: 5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन आसानी से कैसे प्राप्त करें? जानिए 

एमएसएमई लोन योजना के तहत कई बिजनेस लोन योजना चलाई जा रही हैं। सभी लोन योजनाओं का उद्देश्य एमएसएमई सेक्टर को धन की उपलब्धता को सुनिश्चित कराना है। निम्नलिखित एमएसएमई लोन योजना चल रही हैं:

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के बारें में पूरी जानकारी

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय, भारत सरकार के द्वारा 2015 में मुद्रा लोन योजना शुरु की गई है। इस योजना का मुख्य लक्ष्य छोटे और मध्यम स्तर के कारोबारियों की आर्थिक सहायता करके उनके कारोबारी को जीवित रखना है। मुद्रा लोन योजना के तहत छोटे और मध्यम कारोबारियों 3 कैटेगरी में 10 लाख रुपये तक का लोन गारंटी मुक्त दिया जाता है।

आपको जानकारी के लिए लिए बता दें मुद्रा स्कीम से लोन लेने के लिए सबसे पहले मुद्रा योजना की लिस्ट में शामिल बैंक और फाइनेंशियल कंपनी सलेक्ट करना होगा। इस योजना के तहत देश में 27 सरकारी बैंक, 17 प्राइवेट बैंक, 31 ग्रामीण बैंक, 4 सहकारी बैंक और 25 नॉन बैंकिग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) कंपनी से मुद्रा योजना से लोन देने के लिए अधिकृत की गई हैं। जिन तीन कैटेगरी में 10 लाख रुपये तक का लोन मिलता है, वह कैटेगरी निम्नलिखित हैं:

क्रम संख्यायोजनालोन की धनराशि
1शिशु लोन50 हजार रुपये तक का लोन
2किशोर लोन50 हजार से 5 लाख रुपये तक का लोन
3तरुण लोन5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये तक का लोन

मुद्रा योजना से लोन लेने के लिए जरूरी डोक्युमेन्ट्स

Mudra स्कीम के तहत लोन लेने के लिए कुछ कागज़ी दस्तावेज की जरूरत पड़ती है। जिन डोक्युमेन्ट्स की जरूरत पड़ती है उनकी लिस्ट निम्न है:

  • 2 फोटो
  • पहचान पत्र की फोटोकॉपी – कोई भी आईडी प्रूफ जिसे सरकार ने जारी किया हो, जैसे – आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर कार्ड, पासपोर्ट, बैंक पासबुक, ड्राइविंग लाइसेंस इत्यादि। यहां इस बात का ध्यान रखना होगा कि आप जो भी पहचान पत्र की फोटोकॉपी दे रहे हैं उसपर खुद का हस्ताक्षर करके ही देना होता है।
  • पता प्रमाण पत्र की फोटोकॉपी – कोई भी सरकार द्वारा जारी पता प्रमाण पत्र जिससे यह साबित होता है कि आप उस पते पर रहते हैं, जैसे- आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, बिजली बिल, पानी की बिल इत्यादि। इस कॉपी पर भी खुद का हस्ताक्षर करना होगा।
  • बैंक स्टेटमेंट की कॉपी – यह कम से कम 3 महीने की होनी चाहिए
  • जाति प्रमाण पत्र की कॉपी (अगर आप आरक्षित जाति से हैं और उसका लाभ उठाना चाहते हैं तब इसकी जरूरत पड़ेगी)
  • कारोबार के पता का प्रमाण पत्र – कारोबार का पहचान व पते का प्रमाण अपने कारोबार से संबंधित लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट या अन्य कोई दस्तावेज जमा करना होगा। यह इस बात का प्रमाण है कि आप उस बिजनेस के मालिक हैं।
  • अगर आप कारोबार में मशीनरी खरीदने के लिए मुद्रा लोन लेना चाहते हैं तो उस मशीनरी का जितना मूल्य हो उसकी कॉपी लगा सकते हैं। अगर आप मशीनरी की बिल की कॉपी लगा रहे हैं तो आपको मशीनरी देने वाले का नाम, मशीन आने से आपके बिजनेस में क्या सकारात्मक पड़ेगा उसकी रिपोर्ट और कितनी कच्चे माल की जरूरत पड़ेगी, इसका भी विवरण देना होगा।

इसे भी पढ़ें: जानिए मुद्रा लोन के लिए कैसे अप्लाई करते हैं?

क्रेडिट गारंटी लोन योजना फॉर माइक्रो एंड स्मॉल एंटरप्राइजेज (CGTMSE) के बारें में सम्पूर्ण जानकारी

केन्द्र सरकार द्वारा छोटे एवं मध्यम श्रेणी के कारोबारियों को सरकार की गारंटी पर लोन प्राप्त करने के लिए क्रेडिट गारंटी लोन योजना फॉर माइक्रो एंड स्मॉल एंटरप्राइजेज (CGTMSE) योजना शुरु की गई है। इस योजना के तहत एमएसएमई कारोबारियों को लोन प्राप्त करने के लिए किसी तीसरे पक्ष की आवश्यकता नहीं होती है।

इसे भी जानिए: पीएमजीईपी योजना क्या है? 

आपको जानकारी के लिए बता दें कि क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE) की स्थापना भारत सरकार के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय और भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (SIDBI) के संयुक्त उपक्रम के अंतगर्त की गई है। इस फंड की गारंटी पर नामांकित बैंक से माइक्रो, स्मॉल और मीडियम एंटरप्राइज़ को अधिकतम 2 करोड़ रु। तक का लोन प्राप्त हो सकता है।

इसे भी जानिए: CGTMSE की योग्यता क्या है? 

लॉकडाउन के चलते स्थिर अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए वित्त मंत्री द्वारा राहत पैकेज की घोषणा की गई थी। उस घोषणा में यह भी शामिल है कि क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE) उन एमएसएमई के लिए भी लोन की सिफारिश करेगा, जो एमएसएमई आर्थिक तनाव की स्थिति में हैं। आर्थिक तनाव की स्थिति का सामना करने वाली एमएसएमई को 1 करोड़ रुपये तक का लोन मंजूर करने का प्रावधान किया गया है।

क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE) के संबंध में महत्वपूर्ण तथ्य

  • CGTMSE योजना का मूल लक्ष्य एमएसएमई को लोन प्रदान करने वाली वित्तीय संस्थाओं को लोन की गारंटी देना है। मतलब एमएसएमई को मिलने वाले लोन की गारंटी खुद क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE) लेता है।
  • जिन एमएसएमई द्वारा लोन का भुगतान तय समय के भीतर नहीं हो पाता है, उन एमएसएमई के लोन का कुछ हिस्सा भुगतान क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE) का किया जाता है। इससे नये कारोबारियों को लोन लेने में लगने वाला डर समाप्त हो जाता है।
  • क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE) द्वारा 5 लाख रुपये तक के लोन के लिए 85% धन की पुनर्भुगतान की गारंटी दी जाती है।
  • 50 लाख रुपये तक के लोन के लिए 75% या कुछ कुछ ममलों में 85% धन पर पुनर्भुगतान की गारंटी दी जाती है।
  • 50 लाख रुपये से अधिक और 100 लाख रुपये से कम के लोन पर अधिकतम 50% धन की पुनर्भुगतान की गारंटी दी जाती है।
  • महिला कारोबारी के नाम पर लोन हो या पूर्वोत्‍तर क्षेत्र (एनईआर) में लिया गया हो तो उस स्थिति में क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE) द्वारा लोन पर 80% अधिकतम 50% धन की पुनर्भुगतान की गारंटी दी जाती है।

ZipLoan एमएसएमई बिजनेस लोन योजना

देश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम यानी एमएसएमई बिजनेस को बिजनेस लोन प्रदान करने वाली ZipLoan प्रमुख कंपनी है। देश की प्रमुख नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी – एनबीएफसी ZipLoan द्वारा कारोबारियों को 7.5 लाख तक का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रखे, न्यूनतम कागजातों पर सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जाता हैं।

इसे भी जानिए: छोटे बिजनेस के लिए कितना सहायक है बिजनेस लोन? जानिए

ZipLoan से बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करना बहुत आसान है, क्योंकि ZipLoan से बिजनेस लोन अप्लाई करने की पूरी प्रक्रिया तरह से ऑनलाइन है। ऑनलाइन अप्लाई करने के बाद कंपनी के लोन अधिकारी ग्राहक से संपर्क करके बिजनेस लोन देने की प्रक्रिया कम्प्लीट कर देते हैं।

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने की पात्रता

  • बिजनेस 2 साल से अधिक पुराना हो
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर 5 लाख से अधिक हो
  • पिछले साल फाइल की गई आईटीआर डेढ़ लाख से अधिक की हो
  • घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर हो (यह माता – पिता, भाई – बहन, पति – पत्नी, पुत्र – पुत्री के नाम पर हो तो भी मान्य किया जाता है।)

ZipLoan से बिजनेस लोन के लिए जरूरी डाक्यूमेंट्स

  • आधार कार्ड की कॉपी
  • पैन कार्ड की कॉपी
  • बिजनेस रजिस्ट्रेशन प्रूफ
  • आईटीआर फाइल करने की कॉपी
  • घर या बिजनेस की जगह में से किसी एक का मालिकाना हक का प्रूफ (यह माता – पिता, भाई – बहन, पति – पत्नी, पुत्र – पुत्री के नाम पर हो तो भी मान्य किया जाता है।)

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने का फायदा

  • सिर्फ 3 दिन* में बिजनेस लोन: ZipLoan द्वारा कारोबारियों के लिए पैसों की जरूरत को समझा जाता है, इसीलिए बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन* में प्रदान किया जाता है।
  • बेहद कम शर्तो पर बिजनेस लोन
  • न्यूनतम कागजातों की जरूरत: बिजनेस लोन के लिए न्यूनतम कागजातों की जरूरत पड़ती है।
  • टॉप अप लोन की सुविधा: ZipLoan द्वारा यह समझा जाता है की कारोबारियों को अधिक पैसों की जरूरत पड़ती है, इसलिए 9 EMI ठीक समय पर जमा करने वाले ग्राहकों को पहले बिजनेस लोन की अपेक्षा कम ब्याज दर पर बिजनेस लोन दिया जाता है।

MSME लोन के लिए अप्लाई करें