MSME कारोबारियों के लिए यह दीवाली बेहद मंगलमय होने वाली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छोटे व्यापारियों को इस दिवाली बड़ी सौगात दी है। पीएम मोदी के इस फैसले ने करोड़ों छोटे कारोबारियों और कर्मचारियों की दिवाली रोशनी से भर दी है। इसका सीधा लाभ देश भर के MSME कारोबारियों और उनमें काम करने वोले श्रमिकों या कर्मियों को मिलेगा। इसके लिए एक स्पेशल पोर्टल भी लॉन्च किया गया है।

यह भी पढ़ें:- छोटे कारोबारियों की चांदी, पीएम मोदी करेंगें विशेष सुविधा पैकेज का ऐलान

59 मिनटों में 1 करोड़ तक का लोन-

कारोबारी स्पेशल पोर्टल से 59 मिनटों में 1 करोड़ रुपये तक का बिजनेस लोन प्राप्त कर सकते हैं। पीएम मोदी ने इन कदमों को ऐतिहासिक बताया। प्रधानमंत्री ने कहा कि माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत पंजीकृत एमएसएमई इकाइयां अब इस सुविधा के माध्यम से सिर्फ 59 मिनट में एक करोड़ रुपये तक का लोन हासिल कर सकती हैं। पीएम मोदी ने श्रम कानूनों में ढील, कंपनी कानून (Company Law) में बदलाव, पर्यावरण मानकों के लाइसेंस में नरमी सहित अन्य कदमों की भी घोषणा की। जिससे कारोबारियों को सुविधापूर्ण व्यापारिक माहौल मिल सके।

MSME कारोबारियों के लिए खुशखबरी

यह भी पढ़ें:- TIN नंबर क्‍या है यह कैसे काम करता है और क्या हैं इसके फायदे?

See also  TAN क्या है और आप इसके लिए कैसे रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं?

लोन के लिए क्या है जरूरी-

लोन लेने के लिए MSME कारोबारियों के पास MSME उद्योग का GST रजिस्ट्रेशन होना चाहिए। पीएम ने कहा कि पहली बार लोन लेने पर GST रजिस्टर्ड MSMEs पर ब्याज दर में 2 प्रतिशत की छूट दी जाएगी। पहली बार लोन लेने पर इसकी ब्याज दर 3 प्रतिशत होगी, इसके बाद यह 5 प्रतिशत हो जाएगा। केंद्र सरकार ने MSMEs को बूस्ट करने के लिए 12 अहम फैसले लिए हैं। इसके साथ ही यह भी जरूरी है, कि वो सभी कंपनियां जिनका टर्नओवर 500 करोड़ से ज्यादा है, वे TReDS प्लेटफॉर्म यानी व्यापार प्राप्तियां ई-छूट प्रणाली में शामिल हों। ताकि MSMEs को कैश फ्लो में कोई परेशानी ना उठानी पड़े।

MSME कारोबारियों को मिलेगा 1 करोड़ तक का लोन

MSME कारोबारियों को इंस्पेक्टर-राज से मुक्त-

पीएम मोदी ने कारोबारियों को इंस्पेक्टर-राज से मुक्ति दिलाने का ऐलान किया। इसके तहत नियमों में कई तरह के बदलाव किए गए हैं। कारोबारियों का शोषण नहीं होगा इसके लिए कारखानों के निरीक्षण की मंजूरी कंप्यूटर से बिना क्रम के चयन किया जाएगा। निरीक्षक को अपनी रिपोर्ट पोर्टल पर 48 घंटों के भीतर अपलोड करना होगा। इससे कोई भी निरीक्षक (इंस्पेक्टर) मनमुताबिक कहीं भी निरीक्षण नहीं कर सकेगा। उसे इसका उचित कारण बताना होगा। पीएम ने कहा, यह हमारे लिए गर्व की बात है, कि भारत ने इज ऑफ डूइंग बिजनेस में 77 वें नंबर पर अपनी जगह बना ली है। 4 साल पहले जब हमारी सरकार सत्ता में नहीं थी, तो हम 142 वें रैंक पर थे। वो दिन ज्यादा दूर नहीं जब हम अपनी जगह टॉप 50 में बना लेंगे।

See also  राजस्थान में सरकार ने खुद बनाया फूड प्रोसेसिंग मिशन का मजाक, उद्यमियों को हो रहा करोंड़ों का घाटा

अभी मौ​जूदा बिजनेस ही कर सकेंगे अप्लाई

सरकार की यह सुविधा इस वक्त मौजूदा बिजनेस के लिए काम कर रही है. लेकिन जल्द ही नए बिजनेस के लिए भी इसके जरिए लोन लिया जा सकेगा. लोन का अमांउट 8 कामकाजी दिनों के अंदर आपके अकाउंट में आ जाएगा.

इन चीजों की होगी जरूरत

  • GST आइडेंटीफिकेशन नंबर (GSTIN), GST यूजर आईडी और पासवर्ड
  • इनकम टैक्स ई-फाइलिंग पासवर्ड, डेट आॅफ इनकॉर्पोरेशन या बर्थ या पिछले तीन सालों के आईटीआर XML फॉर्मेट में
  • करंट अकाउंट: नेटबैंकिंग में इस्तेमाल होने वाला यूजरनेम, पासवर्ड या पिछले 6 माह का बैंक स्टेटमेंट PDF
  • डायरेक्टर/पार्टनर/प्रोपराइटर डिटेल्स: बेसिक, पर्सनल, KYC, एजुकेशनल डिटेल्स और फर्म की ओनरशिप डिटेल्स
  • आवेदन मंजूर होने पर कन्वीनिएंस फीस 1000 रुपये+GST

क्या होगा इनका काम-

छोटे कारोबारियों को सपोर्ट के इस प्रोग्राम के तहत बैंक, EPFO, ESI, सिडबी, जिला उद्योग केंद्र, जिला प्रशासन के अधिकारियों की टीम का गठन किया जाएगा। जिस टीम को प्रभारी अफसर लीड करेंगे। यह टीम जिन छह तरीकों से कारोबारियों को फायदा पहुंचाएगी, वे इस प्रकार हैं-

  • आसानी से क्रेडिट (लोन) लेने में सहयोग करना
  • मार्केट तक कारोबारियों की पहुंच बढ़ाना
  • सेक्टर वाइज मिनिस्ट्री का इंटरवेंशन
  • कैश फ्लो आसान करना
  • कर्मचारियों को सोशल सिक्योरिटी बेनिफिट देना
  • क्वालिटी सर्टिफिकेशन

छोटे कारोबारियों के लिए बड़ा अवसर-

केन्द्र सरकार की इस स्कीम से निश्चित ही छोटे कारोबारियों को एक बड़ा सपोर्ट मिलेगा। छोटे कारोबारी इस प्रोग्राम का फायदा उठा कर अपने बिजनेस को चमका सकते हैं। देश के विस्तार में MSME सेक्टर का बेहद महत्वपूर्ण योगदान है। यही कारण है कि केन्द्र की मोदी सरकार MEME सेक्ट को एक नई उड़ान देने की सोच रही है।

See also  SBI यूथ फेलोशिप के साथ कमाएं 15,000 महीने, जानिए क्या है इसमें खास

 

कौन से हैं ये 80 शहर-

शहर का नाम                सेक्टर
विशाखा पट्‌टनम फूड प्रोसेसिंग
चित्तूर टेक्सटाइल्स
बारपेटा बम्बू
गया हैंडलूम
बोकारो स्टील एंसिलरी
उधम सिंह ऑटो कम्पोनेंट
खूंटी हैंडिक्राफ्ट
वेस्ट सिक्किम कार्डामोम
हरिद्वार इलेक्ट्रिक्ल इक्वीपमेंट
मुर्शिदाबाद हैंडलूम
नादिया हैंडलूम
साउथ कच्चर बम्बू
कामरूप हैंडलूम
मधुबनी हैंडिक्राफ्ट
पटना इलेक्ट्रॉनिक्स (LED)
भरूच कैमिकल
मानेसर आटो पार्ट्स
जमशेदपुर आटो कम्पोनेंट
भागलकोट हैंडलूम
धुले फूड प्रोसेसिंग
ईस्ट खासी हिल्स ऑर्गेनिक, फ्लोरीकल्चर
कटक जेम्स ज्वेलरी
लुधियाना अपरैल, इलेक्ट्रिकल इक्वीपमेंट
बारगढ़ हैंडलूम
वेस्ट त्रिपुरा बम्बू
वाराणसी हैंडिक्राफ्ट्स
उन्नाव हैंडिक्राफ्टस
कानपुर लैदर
नैनीताल फूड प्रोसेसिंग
पानीपत हैंडलूम
कांगड़ा हैंडिक्राफ्ट
ऊना वुड वर्क
नासिक स्टील फर्नीचर
रामनागरा टॉय इंडस्ट्री
होसकोट ऑटो कम्पोनेंट
औरंगाबाद फार्मा
पुणे ऑटो कम्पोनेंट, फार्मा
थाणे पावर लूम
जालंधर स्पोर्ट्स गुड्स
कपूरथला जनरल इंजीनियरिंग
मेरठ स्पोर्ट्स गुड्स
सहारनपुर वुड वर्क
इरोड पावर लूम
तिरुपुर अपरैल
गुंटुर पावर लूम
नरसापुर हैंडिक्राफ्ट
ईस्ट गोदावरी फूड प्रोसेसिंग
पपूमपरे हैंडलूम
नॉर्थ गोवा फूड प्रोसेसिंग
अहमदाबाद प्लास्टिक
कच्छ हैंडिक्राफ्ट
राजकोट फाउंड्री
वालसाड कैमिकल
सोमनाथ फूड प्रोसेसिंग
सुरेंद्र नगर सेनटरी वेयर
फरीदाबाद ऑटो कम्पोनेंट
बड्‌डी फार्मा
जम्मू फूड प्रोसेसिंग
बलारी अपरैल
मलूर ऑटो कम्पोनेंट
लडुकी फूड प्रोसेसिंग
कोटायम रबड़
इम्फाल ईस्ट हैंडिक्राफ्ट
सांगली फूड प्रोसेसिंग
नागपुर फूड प्रोसेसिंग
ओखला इलेक्ट्रिकल इक्वीपमेंट
पारादीप फूड प्रोसेसिंग
पुरी हैंडिक्राफ्ट
बरनाला एग्री इक्वीपमेंट
कोयम्बटूर इलेक्ट्रिकल एंड एग्री इक्वीपमेंट

 

Related Posts

MSME Full FormMSME RegistrationCGTMSE
MSME LoanVAT RegistrationUdyog Aadhaar
GST RegistrationStand Up India SchemeCGTMSE Fee
Shop LoanWhat is CGSTDownload GST Certificate
PM SVAnidhi SchemeCancelled ChequeUPI Full Form
Business Loan EligibilityGST Full FormE-Way Bill Unblocking
CIN NumberGST LoginUAN Number