प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 24 अप्रैल 2020 को सुबह 9 बजे देश को संबोधित किया गया। नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीतने के लिए हमें लॉकडाउन बढ़ाने की आवश्यकता है।

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा और कोई चारा नहीं है। इसी के साथ नई गाइडलाइन अगले दिन यानी 15 अप्रैल 2020 को जारी करने की बात कहा। अब नई गाइडलाइन जारी हो चुकी है। लॉकडाउन की नई गाइडलाइन में कुछ छूट देने की बात की गई है। आइये जानते हें कि नई गाइडलाइन क्या है?

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन

केन्द्र सरकार द्वारा दिनांक 15 अप्रैल 2020 को लॉकडाउन पार्ट 2 के लिए नई गाइडलाइन जारी हुई है। इस गाइडलाइन में कुछ कार्यों के लिए शर्तों के साथ छूट मिली है।

नई गाइडलाइन में यह भी कहा गया है कि उन स्थानों पर 20 अप्रैल 2020 के बाद लॉकडाउन कुछ शर्तों के साथ हटा दिया जायेगा, जिन स्थानों पर 20 अप्रैल 2020 तक कोई नया कोरोना मरीज नहीं मिलता है।

केन्द्र सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन कुल 9 पन्नों में है। आपको जानकारी के लिए यह भी बता दें कि गाइडलाइन अंग्रेजी भाषा में है। हम आपको लॉकडाउन पार्ट 2 के लिए जारी की गाइडलाइन की प्रमुख बातें हिंदी में भाषा में सरल तरीके से बताने जा रहे हैं।

See also  अमेज़न के जरिये अपने बिजनेस का विस्तार कैसे करें? जानिए

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: महत्वपूर्ण बातें

जीवन जीने के लिए जरूरी चीजों जैसे बिजली मैकेनिक, प्लंबर, कॉरपेंटर कृषि (एग्रीकल्चर), मनरेगा से जुड़े काम के साथ अतिरिक्त जरूरी सेवाएं शुरु कर सकते हैं। इसी के साथ और भी चीजों के लिए लॉकडाउन लागू नहीं रहेगा, जिसके बारे में हम आपको नीचे बतायेंगे।

इसे भी जानिए: लॉकडाउन पार्ट 2: जानिए प्रमुख बातें

आपको जानकारी के लिए बता दें कि गाइडलाइन में इस बात स्पष्ट तौर पर जिक्र किया गया है कि घर से बाहर निकलते वक्त मुंह को ढकना है, इसके लिए गमछा या मास्क का प्रयोग किया जा सकता है।

इसी के साथ सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से प्रतिबंध लगा दिया गया है। सार्वजनिक स्थानों पर थूकते हुए पकड़े जाने पर जेल की सजा या नगद जुर्मना या दोनों लगाया जा सकता है।

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: स्वास्थ्य सेवाएं जारी रहेंगी

स्वास्थ्य सेवाएं यानी मेडिकल फैसिलिटी लॉकडाउन पार्ट 1 में भी जारी थी लेकिन सीमित दायरे में। अब मेडिकल फैसिलिटी का दायरा बढ़ा दिया गया है। मेडिकल फैसिलिटी में जो सेवाएं जारी रहेंगी, उनमे निम्न शामिल हैं:

  • अस्पताल।
  • नर्सिग होम।
  • क्लीनिक।
  • टेलीमेडिसिन सुविधाएं।
  • डिस्पेंसरी।
  • केमिस्ट की दुकान।
  • फार्मेसियों और सभी प्रकार की दवा दुकानें।
  • पशु चिकित्सालय।
  • पशु औषधालय।
  • पैथोलॉजी लैब।
  • वैक्सीन और दवाओं की दुकानें।
  • फार्मास्यूटिकल्स।
  • चिकित्सा उपकरणों की दुकान।
  • चिकित्सीय ऑक्सीजन और उनके पैकेजिंग सामग्री की मैनुफैक्चरिंग फैक्ट्रियां।
  • दवाइयों की कच्चे माल की मैनुफैक्चरिंग फैक्ट्रियां।

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: कृषि एवं किसानों संबंधित कार्य

  • खेती संबंधी कार्यों का संचालन जैसे जोताई, बोवाई कटाई और थ्रेसरिंग इत्यादि।
  • कृषि उत्पादों की खरीद में लगी एजेंसियां काम करती रहेंगी।
  • कृषि उपज खरीद – बिक्री मंडिया चलती रहेंगी।
  • सब्जी मंडी चालू रहेगी।
  • मछली और झींगा का उत्पाद जारी रहेगा।
  • मछली बीज और चारा को लाने- ले जाने को अनुमति दी जाएगी और इन सभी गतिविधियों में शामिल कामगारों को काम करने की अनुमति होगी।
  • अधिकतम 50 फीसदी कामगारों के साथ चाय, कॉफी और रबर वृक्षारोपण की अनुमति होगी।
  • अधिकतम 50 प्रतिशत श्रमिकों के साथ चाय, कॉफी, रबर और काजू के प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, बिक्री और मार्केटिंग कर सकेगे।
  • डेयरी उत्पाद जैसे दूध, घी, छाछ, पनीर इत्यादि को बनाने, पैकिंग करने, बेचने और खरीदने की छूट प्राप्त होगी।
See also  टॉप ट्रेंडिंग बिजनेस 2019: पाइए कम लागत में अधिक मुनाफा

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: बैंकिंग सेक्टर

बैंकिंग से जुड़े सभी कार्य बिना किसी गतिरोध के जारी रहेगा। बैंकिंग में निम्न संस्थाएं और कार्य संचालित रहेगें:

  • भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई)।
  • सभी बैंक खुला रहेगा।
  • सभी बैंक के सभी एटीएम खुला रहेगा।
  • भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) तथा आईआरडीएआई और बीमा कम्पनियां काम करती रहेंगी।

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: सामाजिक क्षेत्र

  • बच्चों, दिव्यांग, वरिष्ठ नागरिकों, निराश्रितों, महिलाओं, विधवाओं के आश्रयगृह आदि पहले की तरह ही खुले रहेंगे और चलते रहेंगे।
  • सरकार द्वारा मिलने वाली सामाजिक सुरक्षा पेंशनों का वितरण जैसे वृद्धावस्था, विधवा, स्वतंत्रता सेनानी पेंशन, पेंशन और भविष्य निधि इत्यादि चलती रहेंगी।
  • आंगनवाड़ियों का संचालन जारी रहेगा।

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: एजुकेशन सेक्टर

  • सभी स्कूल, कोचिंग और ट्रेनिंग सेंटर बंद रहेगा। अगर सभी संस्थान चाहें तो ऑनलाइन तरीके से शिक्षा देने का काम कर सकते हैं।
  • शिक्षा के क्षेत्र में प्रसार करने के लिए दूरदर्शन (डीडी) चैनल काम करेगा।

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: जरूरी पब्लिक सेवा चलती रहेगी

  • पेट्रोल, डीजल, केरोसिन, सीएनजी, एलपीजी, पीएनजी पंप कार्य करते रहेंगे।
  • घरेलू गैस की सप्लाई होती रहेगी।
  • सभी डाकघर खुले रहेंगे।
  • मोबाइल, टेलीफोन और इंटरनेट सर्विस चलती रहेगी।
  • माल ढोने वाले वाहनों को छूट प्राप्त है। इसी के साथ माल की लदाई, उतराई के लिए काम करने वाले कामगारों को काम करने की छूट प्राप्त होगी।
  • राष्ट्रीय राजमार्ग पर निर्धारित दूरी पर ढाबों की दुकानें खोलने की अनुमति है।
  • राशन की दुकानों (पीडीएस के तहत), किराने की दुकान (दैनिक उपयोग के लिए), स्वच्छता से संबंधित वस्तुएं, फल और सब्जियां, डेयरी और दूध बूथ, मुर्गी पालन, मांस और मछली, पशु चारा और चारा इत्यादि बेचने वाली दुकानें चलाने की अनुमति है। लेकिन यहां पर एक – दूसरे से उचित दूरी वाला नियम लागू रहेगा। नियम का सख्ती से पालन होना चाहिए।
See also  होर्डिंग बिजनेस कैसे शुरू करें और कितन होगा मुनाफा? जानिए

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: ये कम्पनियां काम कर सकती हैं

  • प्रिंट, वेब और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया।
  • डीटीएच और केबल सर्विस।
  • सरकारी सेवा देने वाली आईटी और आईटी सक्षम सेवाएं (50% कर्मियों के साथ काम कर सकती हैं।
  • ई-कॉमर्स कंपनियां।
  • कूरियर सेवाएं।
  • इलेक्ट्रिशियन, आईटी मरम्मत कर्मियों, प्लंबर, मोटर मैकेनिक और बढ़ई।

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: इन लोगों को आने – जाने की अनुमति होगी

  • मेडिकल ट्रीटमेंट के जाने वाले मरीज और उसके सहायक को। यहां यह ध्यान देने वाली बात है कि मरीज अगर कार में जा रहा है, तो उसके साथ सिर्फ एक डाइवर ही जा सकता है।
  • जरूरी कार्यों वाले कर्मियों को बाइक पर सिंगल जाने की अनुमति है।

लॉकडाउन पार्ट 2 गाइडलाइन: 20 अप्रैल को ये स्थान खुल जायेंगे

गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा – निर्देश के अनुसार 20 अप्रैल को कुछ स्थानों को शर्तों के साथ खोलने की बात की है। लेकिन यहां यह महत्वपूर्ण बात है कि 20 अप्रैल को उन्हीं स्थानों को खोला जायेगा, जहां पर 14 अप्रैल से 20 अप्रैल के बीच एक भी कोरोना वायरस का मरीज नहीं पाया जाता है।

लॉकडाउन गाइडलाइन देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें: 15.04.2020 Revised Consolidated Guidelines

सोर्स: गृह मंत्रालय की वेबसाइट