भारत में कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है। पीड़ितों  की संख्या एक लाख से अधिक हो गई है। हालांकि अच्छी खबर यह है कि मरीजों के ठीक होने की संख्या भी बढ़ रही है। अभी तक 39 हजार से अधिक मरीज कोरोना मुक्त हो चुके हैं।

देश में लॉकडाउन 4.0 को लागू कर दिया गया है। यह लॉकडाउन 31 मई 2020 तक लागू रहेगा। लेकिन यह लॉकडाउन पूर्ण लॉकडाउन नहीं बल्कि आंशिक लॉकडाउन है। लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइन के अनुसार रात 7 बजे से सुबह 7 बजे तक नाइट कर्फ़्यू जारी रहेगा।

इसे भी जानिए: कोरोना वायरस से भारतीय अर्थव्यवस्था कितना प्रभावित है?

सभी सार्वजनिक जगहों और दफ़्तरों में मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। साथ ही सार्वजनिक जगहों और कार्यालयों में थूकने पर जुर्माना लगाया गया है। इसी के साथ लॉकडाउन 4.0 में तमाम तरह की रियायत भी दी गई है। पीएम नरेंद्र मोदी जी ने अपने संबोधन में कहा कि “यह लड़ाई लंबी है लेकिन हम अधिक समय तक सब – कुछ बंद करके नहीं रख सकते हैं”।

पीएम मोदी का संकेत कारोबार और आर्थिक व्यवस्था की तरफ था। इसी को मध्य नजर रखते हुए लॉकडाउन 4.0 के लिए जारी की गई गाइडलाइन में कारोबार से संबंधित तमाम तरह की छूट दी गई है। आइये समझते हैं कि लॉकडाउन 4.0 में कारोबार कैसे करना है और कितनी छूट प्राप्त हुई है।

इसे भी जानिए: लॉकडाउन को देखते हुए उत्तर प्रदेश में शुरु हुई नर सेवा, नारायण सेवा योजना

पूर्ववर्ती लॉकडाउन में जिंदगी जीने के लिए जरूरी सेवाओं को छोड़कर बाकी सब कुछ बंद कर दिया था। लेकिन लॉकडाउन 4.0 में कारोबार के साथ कुछ और सेवाओं की भी अनुमति दी है है। सबसे पहले हम यह देख लेते हैं कि लॉकडाउन 4.0 में क्या – क्या पूर्ववर्ती लॉकडाउन की तरह बंद रहने वाला है।

लॉकडाउन 4.0: इन सेवाओं पर अब भी प्रतिबंध जारी रहेगा

  1. नेशनल और इंटरनेशन सभी उड़ानों को 31 मई 2020 तक के लिए रद्द कर दिया गया है। हालांकि देश में एयर एंबुलेंस चलाने के लिए अनुमति है। विशेष परिस्थितियों या सुरक्षा के लिहाज से घरेलू उड़ान शुरु हो सकती है लेकिन इसके लिए गृह मंत्रालय से अनुमति लेना होगा।
  2. भरतीय रेल 31 मई 2020 तक बंद है। हालांकि मालगाड़ी, विशेष ट्रेने और मजदूर स्पेशल ट्रेने चलती रहेंगी।
  3. सभी मेट्रों सेवा पूर्ववर्ती लॉकडाउन की तरह ही बंद रहेंगी।
  4. सभी स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी 31 मई 2020 तक बंद रहेंगे।
  5. पब्लिक के लिए होटल, रेस्टॉरेंट, और दूसरे हॉस्पिटेलिटी सेवाएं बंद रहेंगी। हालांकि आवश्यक सेवाओं में लगे लोगों या कहीं फंसे हुए लोगों के लिए इन सेवाओं का लाभ दिया जायेगा।
  6. सभी तरह के जिम 31 मई 2020 तक बंद रहेंगे।
  7. सभी तरह के सिनेमा हॉल, मॉल, तरण ताल (स्वीमिंग पूल) बंद रहेंगे।
  8. सभी सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक कार्यक्रम, प्रार्थना/धार्मिक स्थल 31 मई 2020 तक बंद रहेंगे।

इसे भी जानिए: राहत पैकेज पार्ट 1: “आत्मनिर्भर भारत” अभियान में एमएसएमई के लिए हुई सौगातों की बारिश

लॉकडाउन 4.0: इन सेवाओं पर से प्रतिबंध हटा दिया गया है

  1. होम डिलिवरी के लिए रेस्टॉरेंट को किचन चालू रखने की अनुमति दी गई है।
  2. ऑटो, कैब सर्विस को अनुमति प्रदान की गई है।
  3. इंटरस्टेट बसों परिचालन राज्यों के समन्वय पर किया जाना है। दोनों राज्य आपसी सामंजस से अंतर प्रादेशिक बस सर्विस शुरु कर सकते हैं। राज्यों को इसके लिए अधिकार दिया गया है।
  4. कोरोना प्रभावित जोन के निर्धारण करने के लिए राज्यों को अधिकार दिया गया है।
  5. सभी तरह का सामान ले जाने वाली गाड़ियों और ख़ाली ट्रकों को एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने की अनुमति दी गई है।
  6. विवाह समारोह के लिए अनुमति दी गई है लेकिन इसी इस शर्त के साथ कि विवाह समारोह में सिर्फ़ 50 लोग ही शामिल हो सकेंगे
  7. अंतिम संस्कार में सिर्फ़ 20 लोग शामिल हो सकेंगे।

इसे भी जानिए: आरबीआई से मिली 1.4 लाख एमएसएमई को राहत

लॉकडाउन 4.0: बिजनेस, दुकान और एमएसएमई के लिए क्या रियायत मिली है?

अपने भाषण में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “यह वैश्विक संकट का दौर है। इस संकट से पूरा विश्व जूझ रहा है। लेकिन भारत के पास चुनौती को अवसर में बदलने की क्षमता है। देश ने हमारे गरीब भाई-बहनों की संघर्ष-शक्ति, उनकी संयम-शक्ति का भी दर्शन किया है।

खासकर हमारे जो रेहड़ी वाले भाई-बहन हैं, ठेला लगाने वाले हैं, पटरी पर सामान बेचने वाले हैं, घरों में काम करने वाले भाई-बहन हैं, हमारे श्रमिक साथी हैं और एमएसएमई हैं। उन्होंने इस दौरान बहुत तपस्या की है, त्याग किया है। ऐसा कौन होगा जिसने उनकी अनुपस्थिति को महसूस नहीं किया।”

इसे भी जानिए: एमएसएमई लोन: लोन देने वाले टॉप बैंक और टॉप एनबीएफसी

इससे साफ़ है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी छोटे व्यापारियों की दशा से बखूबी वाक़िफ हैं। इसीलिए जब सरकार द्वारा नई गाइडलाइन जारी की गई तो उसके इस बात का जिक्र किया गया कि बिजनेस, दुकाने और एमएसएमई अपना काम पूरी सावधानी के साथ शुरु कर सकते हैं।

सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार व्यापार के तौर तरीक़ों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए हर अपना कारोबार चलाने के लिए कहा गया है। कारोबारियों को कोरोना के खिलाफ सभी तरह की सावधानी एवं दिशा निर्देश का पालन करने के लिए तत्पर रहना है।

इसे भी जानिए: लघु उद्योग के लिए बिजनेस लोन: जानिए फायदे

लॉकडाउन 4.0 में इन बिजनेस को चलाने की अनुमति दी गई है

करीब पिछले दो महीनें से देश में पूरी तरह से तालाबंदी है। ऐसे में देश की अर्थव्यवस्था का ध्वस्त होना कोई चौकाने वाली बात नहीं है। देश की अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए सरकार द्वारा कुछ अहम फैसले लिए गए हैं। नई गाइडलाइन में बिजनेस खोलने संबंधित निम्न छूट दी है:

  1. देशभर में शर्तों के साथ बाजार और दुकानें खुलेंगी।
  2. ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में सभी इंटस्ट्रीज को खोलने की अनुमति है।
  3. कृषि, बागवानी, पशुपालन जैसे कामकाज को भी इजाजत दी गई है।
  4. जो ऑनलाइन कंपनियां हैं वो अब सभी सामानों की डिलीवरी कर सकेंगे।
  5. पहले से कम कर्मचारियों को दुकान, फैक्ट्री में बुलाना है। बाकियों को नौकरी से निकालना नहीं है बल्कि कुछ समय बाद बुलाना है।
  6. निश्चित टाइम टेबल के साथ बाजार और दुकानें खुल सकेंगी। दुकानें सुबह 7 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक ही खुलेगी।
  7. एक दुकान में 5 से ज्यादा लोगों को एक साथ जानें की इजाजत नहीं दी गई है।
  8. सैलून सिर्फ बाल काटने के लिए खुलेंगे। सैलून के अंतर एक बार में सिर्फ एक ही ग्राहक जायेगा।
  9. शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में निर्माण कार्यों को बिना किसी पाबंदी के शुरू करने की इजाजत दे दी गई है।

अभी बिजनेस लोन पाए