एक बहुत प्रसिद्ध कहावत है, ‘ऋण लीजिए और घी पीजिए” मतलब लोन लेकर उसका सही इस्तेमाल न करना। यह कहावत उन लोगों पर सटीक बैठती है जो लोग लोन किसी और काम के लिए लेते है लेकिन उसका उपयोग किसी और कार्य के लिए करते है।

ऐसे में तय समय से लोन चुका नहीं पाते तो उनकी साख खराब हो जाती है। इसके फाइनेंसियल टर्म में सिबिल स्कोर या क्रेडिट स्कोर कहते है। जिन लोगों को सिबिल संस्था खराब क्रेडिट स्कोर की कैटेगरी में रख देती है उनको दुबारा लोन मिलने में बहुत अधिक दिक्कत होती है।

वित्तीय क्षेत्र में क्रेडिट स्कोर का बहुत महत्व होता है। अच्छा क्रेडिट स्कोर होने पर ही बैंक या एनबीएफसी कंपनियों से जल्दी और कम ब्याज दर पर बिजनेस लोन मिल जाता है।

अगर क्रेडिट स्कोर खराब हुआ तो बिजनेस लोन मिलना लगभग नामुमकिन हो जाता है। अगर आपको अपने बिजनेस का विस्तार करने के लिए बिजनेस लोन चाहिए तो आपको अपना सिबिल स्कोर ठीक रहना ही होगा।

सिबिल स्कोर इतना क्यों महत्वपूर्ण है

क्रेडिट स्कोर जिसका एक नाम सिबिल स्कोर भी है। यह 3 अंकों एक उत्कृष्ट संख्या होती है। यह वह संख्या होती है जिससे यह तय होता है कि लोन मिलेगा या नहीं।

क्रेडिट स्कोर के बारे में यह भी कह सकते है कि यह व्यक्ति की वित्तीय साख होती है। यानी क्रेडिट है। क्रेडिट स्कोर सिबिल संस्था द्वारा एक कार्ड के रुप में मिलती है।

सिबिल संस्था द्वारा मिलने वाले कार्ड पर लोन लेने वाले व्यक्ति या संस्था की पुराने लोन की पूरी हिस्ट्री दर्ज होती है। इस हिस्ट्री में दर्ज होता है कि व्यक्ति या कंपनी ने कब लोन लिया था? लोन वापस करने के लिए क्या तरीका अपनाया? इत्यादि।

क्रेडिट स्कोर के आधार पर ही लोन देने बैंक, एनबीएफसी कंपनियां या क्रेडिट कार्ड देने वाली संस्थाएं यह तय करते है की लोन या क्रेडिट कार्ड दिया जा सकता है या नहीं दिया जा सकता है।

इसे इस तरह भी कह सकते हैं कि यह तीन अंकों की संख्या यह डिसाइड कर देती है कि व्यक्ति या कंपनी लोन पाने लायक है या नहीं है। आपको बता दे कि सिबिल स्कोर 300 से 900 के बीच की संख्या होती है। 900 अंक उच्च अंक होता है।

900 अंक पर बिजनेस लोन या कोई भी लोन बिना कुछ सोचे मिल जाता है। बेहतर क्रेडिट स्कोर की बात करें तो यह 700 से 900 से बीच के स्कोर बेहतर माने जाते है।

300 स्कोर सबसे कम है और नेगेटिव है। तीन सौ क्रेडिट स्कोर होने पर लोन मिलने की संभावना नहीं होती है। क्रेडिट स्कोर के लिए एनबीएफसी कंपनियों कुछ हद तक लचीली होती है।

एनबीएफसी कंपनियों द्वारा खुद बनाए गए क्रेडिट स्कोर मैपिंग की प्रक्रिया का पालन होता है। इससे अधिक लोगों को लोन की सुविधा मिल जाती है।

क्रेडिट स्कोर के चरण को समझिए 

जैसे कि अभी तक आपको यह पता चल गया है कि क्रेडिट स्कोर 300 से 900 के बीच होता है। आइए अब क्रेडिट स्कोर के 300 से 900 के बीच के चरण को समझते है।

  • उत्कृष्ट क्रेडिट स्कोर (800 से ऊपर)
  • अच्छा क्रेडिट स्कोर (700-800)
  • औसत क्रेडिट स्कोर (500-700)
  • खराब क्रेडिट स्कोर (500 से नीचे)

उत्कृष्ट क्रेडिट स्कोर (800 से ऊपर) 

यदि किसी व्यक्ति या संस्था का क्रेडिट स्कोर 800 से ऊपर है तो आपको बधाई। इतने क्रेडिट स्कोर पर लोन तुरंत मिल जाता है।

800 से ऊपर क्रेडिट स्कोर वाले लोगों को लोन देने वाली कंपनियां जिम्मेदार की कैटेगरी में रखती है और यह उम्मीद करती है यहां से लोन की रकम समय से वापस हो जाएगी।

800 से अधिक क्रेडिट स्कोर पर एनबीएफसी कंपनियां कम ब्याज दर लोन का ऑफर देती हैं।

अच्छा क्रेडिट स्कोर (700-800) 

700 से 800 के बीच क्रेडिट स्कोर होने पर बेहतर होता है। इतने क्रेडिट स्कोर होने पर लोन मिलने की संभावना 95 प्रतिशत होती है। ऐसे ग्राहकों को एनबीएफसी से बिजनेस लोन मिलने में प्राथमिकता मिलती है। 700 से 800 सिबिल स्कोर वाले व्यक्ति या संस्था को ठीक ब्याज दर पर बिजनेस लोन दिया जाता है।

अभी बिजनेस लोन पाए

औसत क्रेडिट स्कोर (500-700) 

500 से 700 के बीच के क्रेडिट स्कोर को औसत सिबिल कहा जाता है। औसत क्रेडिट स्कोर कहने का मतलब है कि ऐसे क्रेडिट स्कोर अधिकतर लोगों के होते है। 500 से 700 के बीच क्रेडिट स्कोर होने बिजनेस लोन मिलने की संभावना 60 से 70 प्रतिशत होती है। इतने क्रेडिट स्कोर वालों के लिए यह समझा जाता है कि यह लोग लोन चुकाते जरूर हैं लेकिन कुछ देर से। इतने क्रेडिट स्कोर पर सामान्य से कुछ अधिक ब्याज दर पर बिजनेस लोन मिलता है।

खराब क्रेडिट स्कोर (500 से नीचे) 

500 से कम क्रेडिट स्कोर होने पर यह समझा जाता है कि संबंधित व्यक्ति या संस्था लोन चुकाने के लिए सीरियस नहीं है। लोन चुकाने के प्रति गंभीर नहीं है। इसीलिए 500 से कम क्रेडिट स्कोर होने पर एनबीएफसी कंपनियां या कोई अन्य लोन देने वाली संस्था से बिजनेस लोन या किसी अन्य प्रकार का लोन नहीं दिया जाता है।

बिजनेस लोन पाने के लिए अच्छा सिबिल स्कोर क्या होता है? 

इस सवाल का उत्तर बहुत ही सिंपल है। 700 से अधिक सिबिल स्कोर को बेहतरीन क्रेडिट स्कोर कहा जाता है। लोन देने वाली कंपनियों का मानना होता है कि 700 से अधिक क्रेडिट स्कोर वाले लोग या संस्था लोन चुकाने के प्रति जिम्मेदार होते है। इसलिए बिजनेस लोन के लिए 700 से अधिक क्रेडिट स्कोर अच्छा होता है।

ZipLoan से मिलेगा 3 दिन में बिजनेस लोन

‘ZipLoan’ फिनटेक क्षेत्र की प्रमुख NBFC यानी नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी है। ‘कंपनी द्वारा सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम कारोबारियों को बिजनेस लोन दिया जाता है। कारोबार बढ़ाने के लिए बेहद कम शर्तों पर 1 से 5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जाता है।

ZipLoan से बिजनेस लोन पाने की शर्ते बहुत कम हैं

  • बिजनेस कम से कम 2 साल पुराना हो।
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर कम से कम 5 लाख से अधिक का होना चाहिए।
  • पिछले साल भरी गई ITR डेढ़ लाख रुपये की हो या इससे अधिक की होनी चाहिए।
  • घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर होना चाहिए।

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने के कई फायदे हैं

  • बिजनेस लोन की रकम अप्लाई करने के सिर्फ 3 दिन के भीतर मिल जाती है। (यह सुविधा जरुरी कागजी दस्तावेजों को उपलब्ध रहने पर मिलती है)
  • लोन घर बैठे ऑनलाइन अप्लाई किया जा सकता है।
  • बिजनेस लोन की रकम 6 महीने बाद प्री पेमेंट फ्री है।
  • लोन की रकम 12 से लेकर 24 महीने के बीच वापस कर सकते है।