अगर कोइ व्यक्ति प्यासा हो तो आप उससे पुछें कि उसे क्या चाहिए? प्यासा व्यक्ति तुरंत बोल पड़ेगा कि उसे पानी की आवश्यकता है। ठिक उसी प्रकार किसी कारोबारी से सवाल करें कि उसे किस चीज की जरुरत है तो कारोबारी बिना किसी देर किये बोल पड़गा कि उसे बिजनेस बड़ा करने के लिए धन की जरुरत है। जब कहीं से धन नहीं मिलने की संम्भावना के बिच अगर कारोबारी को बिजनेस लोन मिल जाता है और कारोबारी का बिजनेस बढ़ाने का सपना साकार हो जाता है यानी बिजनेस बड़ा करने के लिए धन की आवश्यकता बिजनेस लोन के जरिये पूरी होती है। जब कारोबारी की आवश्यकता बिजनेस लोन से पुरी होती हो तो स्वभाविक है कि बिजनेस लोन सही है।

बिजनेस करना प्रथम प्राथमिकता

भारत में बिजनेस करना सदा से ही स्वर्णिम समझा गया है। भारत में नौकरी की प्राथमिकता भले दूसरी रही हो लेकिन व्यवसाय हमेशा प्रथम रहा है। सरकार भी कारोबारियों के लिए हर संभव सहायता उपलब्ध कराने का प्रयास कर रही है। केन्द्र सरकार देश के उद्यमियों की संख्या बढ़ाने के लिए बिजनेस लोन के लिए व्यापारियों को प्रोत्साहन प्रदान करने का काम कर रही है। सरकार द्वारा बिजनेस लोन देने के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना, स्टैंड अप इंडिया लोन योजना, जिला उद्योग योजना और ऐसी ही बहुत सी योजनाओं का संचालन हो रहा है।

कारोबारियों की प्रमुख समस्या

भारत के छोटे और मध्यम कारोबारियों की सबसे बड़ी समस्या फंड जुटाने को लेकर रही है। पहले के समय में कारोबारी साहूकारों को पैसा सूद पर उधार लेते थे। सूदखोर उनसे इतना पैसा ऐठ लेता था कि कारोबारी बेचारे सूद चुकाते – चुकाते परेशान हो जाते थे।

इसे भी जानिए: कैसे पायें साहूकारों से मुक्ति? जानिए तरीका

समय बदला और देश में टेक्नोलॉजी का दौर आया। यह दौर 90 के दशक में आया। 90 के दशक में देश में नई टेक्नोलॉजी आने लगी। टेक्नोलॉजी आने बाद चीजें बदलने लगी। इधर टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए फिनटेक क्षेत्र के नॉन बैंकिग फाइनेंशियल कंपनी – एनबीएफसी

लोन मार्केट में NBFC कंपनियों ने दस्तक दी है तब से कारोबारियों को काफी सहूलियत हो गई है। क्योंकि NBFC से बिजनेस लोन लेना बहुत आसान हो गया है। आइये इस आर्टिकल आपको बताते हैं कि बिजनेस लोन क्या है और क्या बिज़नेस लोन सही है?

बिजनेस लोन क्या है?

शाब्दिक अर्थ के तौर पर देखा जाए तो भी बिजनेस लोन का अर्थ समझ में आ जाता है कि जो लोन बिजनेस चलाने के लिए प्रदान किया जाता है उस लोन को बिजनेस लोन कहा जाता है। यानी जब कोई व्यक्ति कारोबार का विस्तार करने के लिए लोन लेता है तो उसे बिजनेस लोन कहा जाता है।

अभी बिजनेस लोन पाए

अब आप कह सकते हैं कि पर्सनल लोन लेकर भी बिजनेस का विस्ता कर सकते हैं लेकिन आपको जानकारी के लिए बता दें कि पर्सनल लोन पर किसी प्रकार से टैक्स में छूट नहीं मिलती है। जबकि बिजनेस लोन पर इनकम टैक्स रिर्टन फाइल करते वक्त टैक्स में छूट मिलने का प्रावधान किया गया है। बिजनेस लोन प्रमुख तौर से दो प्रकार का होता है।

  1. सिक्योर्ड बिजनेस लोन (प्रॉपर्टी के पेपर गिरवी रखकर मिलने वाला बिजनेस लोन)
  2. अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन (बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन)

सिक्योर्ड बिजनेस लोन यह होता है

यह अंग्रेजी भाषा का शब्द है। सिक्योर्ड शब्द का हिन्दी में अर्थ सुरक्षित होता है। अगर वित्तीय क्षेत्र में सिक्योर्ड शब्द अर्थ लगाना होता है तो हम उसे गिरवी कहते हैं। इस तरह देखें तो दोनों शब्द के अर्थ को समझने के लिए दोनों शब्दों का अर्थ अलग – अलग करके देखना पड़ता है।

सिक्योर्ड यानी गिरवी (सुरक्षित) लोन। यानी जब कोई बैंक या कंपनी लोन देती है तो लोन की रकम के बदले में बैंक/कंपनी को लोन की रकम के बराबर कुछ गिरवी चाहिए होता है। गिरवी में खेत की जमीन, घर, दुकान, जूलरी, फिक्स्ड डिपोजिट इत्यादि जमा किया जा सकता है।

इसे भी जानिए:सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन क्या अंतर होता है?

इस तरह हम कह सकते हैं कि सिक्योर्ड बिजनेस लोन उस लोन को कहते हैं, जिसे प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को सिक्योरिटी के रूप में संपत्ति गिरवी रखनी पड़ती है। यह संपत्ति सोना, प्रॉपर्टी और गाड़ी इनमें से कुछ भी हो सकती है। प्रॉपर्टी गिरवी रखने के बदले मिलने वाले बिजनेस लोन पर ब्याज दर गिरवी रखी गई संपत्ति के मूल्य पर निर्भर करता है।

बिना कुछ गिरवी रखे यानी अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन यह होता है

अनसिक्योर्ड यानी असुरक्षित बिजनेस लोन। अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन पाने के लिए कोई संपत्ति गिरवी नही रखना होता है। भारत में ऐसे बहुत से कारोबारी हैं जो अपना खुद का बिजनेस चला रहे हैं। लेकिन उनकी पूंजी कम है। कम पूंजी होने के कारण वह अपने बिजनेस का विस्तार नही कर पाते हैं।

इन कारोबारियों के पास इतनी संपती नही होती है कि वह उसे गिरवी रखकर सिक्योर्ड बिजनेस लोन ले सकें। ऐसी स्थिति में ये कारोबारी क्या करेंगे? इन्हीं कारोबारियों के लिए बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थान (एनबीएफसी) अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन प्रदान करते हैं।

इसे भी जानिए: बिना कुछ गिरवी रखे कैसे पाएं बिजनेस लोन? जानिए तरीका

कारोबारी को अपना बिजनेस बढ़ाने के लिए अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन बिना कुछ गिरवी रखे दिया जाता है। अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन मूलतः इनकम या बिजनेस के टर्नओवर के ऊपर दिया जाता है। अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन की शर्तें बहुत आसान होती हैं। और लोन बहुत आसानी से मिल जाता है।

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमियों यानी एमएसएमई कारोबारियों के लिए अनसिक्योर्ड यानी बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन बहुत फायदे का सौदा है। कारोबारी जब चाहे तब अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन लेकर अपने बिजनेस का विस्तार कर सकते हैं। और लोन की रकम ईएमआई के रुप में वापस कर सकते हैं।

क्या बिज़नेस लोन सही है?

बिजनेस लोन बिल्कुल सही है क्योंकि जिस प्रकार जरूरत पर पानी की एक बूंद ही अमृत का कार्य करती है। ठीक उसी प्रकार किसी कारोबारी के लिये बिजनेस लोन कार्य करता है। कारोबारी को जब धन की जरुरत होती है तब बिजनेस लोन की मदद से अपना काम चलाता है। बिजनेस लोन की मदद से कारोबारी बिजनेस का निम्नलिखित कार्यों को बहुत असानी से कर सकते हैं।

  • इन्वेंट्री/कच्चे माल खरीदने के लिए
  • मशीनरी/उपकरण खरीदने के लिए
  • बिजनेस का इन्फ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने के लिए
  • एम्प्लाई हायर करने के लिए
  • मार्केटिंग और एडवर्टाइजिंग खर्च के लिए
  • बिजनेस की दैनिक जरूरतें पूरा करने के लिए

ZipLoan से बिजनेस लोन बिना कुछ गिरवी रखें प्राप्त करें

देश की प्रमुख एनबीएफसी ZipLoan द्वारा एमएसएमई कारोबारियों की वित्तीय जरूरतों का ख्याल रखते हुए 1 से 7.5 लाख तक का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रखे, सिर्फ 3* में प्रदान किया जाता है। ZipLoan द्वारा मिलने वाला बिजनेस लोन 6 महिने बाद प्री पेमेंट फ्री होता है।

बिजनेस लोन की पात्रता

  • बिजनेस 2 साल से अधिक पुराना हो
  • सालाना आईटीआर डेढ़ लाख से अधिक की फाइल होती हो
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर 5 लाख से अधिक हो
  • बिजनेस की जगह और घर की जगह अलग – अलग होना चाहिए।
  • घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर हो (यह माता – पिता, भाई – बहन, पति – पत्नी, पुत्र – पुत्री के नाम पर भी हो, तो भी मान्य किया जाता है)

बिजनेस लोन के लिए जरूरी डाक्यूमेंट्स

  1. आधार कार्ड
  2. पैन कार्ड
  3. पिछले 9 महीने का बैंक स्टेटमेंट
  4. फाइल की गई आईटीआर की कॉपी
  5. घर या बिजनेस की जगह में से किसी एक के मालिकाना हक़ का प्रूफ (यह माता – पिता, भाई – बहन, पति – पत्नी, पुत्र – पुत्री के नाम पर भी हो, तो भी मान्य किया जाता है)

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने के फायदे

  • बिजनेस लोन पाने के लिए कुछ गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं होती है।
  • सिर्फ 3 दिन में बिजनेस लोन मिलती है।
  • न्यूनतम कागजातों पर लोन मिलता है।
  • प्री-अप्रूव्ड टॉप-अप लोन सुविधा उपलब्ध है।
  • 6 महिने बाद प्री पेमेंट फ्री सुविधा है।

बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करें