बिजनेस लोन कैसे चुकाए? karz mukti ke upay क्या हैं? यह अपने आप बड़ा सवाल। यह जग जाहिर है की कारोबार बढ़ाने के लिए बिजनेस लोन की जरूरत पड़ती है। कारोबारी बिजनेस की जरूरत की हिसाब से बिजनेस लोन लेते है। लोन लेने से साथ ही बिजनेस लोन कैसे चुकाए की रणनीति बनाना फायदे का सौदा होता है। लोन व्यापारी की साख से जुड़ा होता है. अगर किसी कारण लोन की रकम समय से नहीं चुकाई गई तो फिर दोबारा लोन मिलना मुश्किल हो सकता है।

बिजनेस लोन की अहमियत

स्वाभाविक तौर पर कारोबार में बिजनेस लोन की अहमियत है। लोन की रकम बिजनेस के विस्तार करने में उपयोग होती है। कारोबारी को अधिक प्रोडक्ट बेचने में आसानी होती है। इस बात का भी ध्यान देना जरूरी होता है कि जैसे कारोबारी अपनी दुकान पर ‘आज नकद कल उधार’ का साइन बोर्ड लगाते हैं ठीक वैसे ही लोन की रकम वापसी करने में भी कमिटमेंट होना चाहिए।

बिजनेस लोन न चुकाने वालों के चलते बढ़ी मुसीबत-karz mukti ke upay

पिछले दिनों अपने देश में लोन डिफाल्टर की संख्या में काफी इजाफा हुआ। कई उद्योगपति सरकारी बैंकों का हजारों करोड़ रुपये लेकर किसी और देश भाग गए। ऐसे में बैंक और लोन प्रदान करने वाली कंपनियां लोन देने से कई बार सोचने लगी हैं। इससे परेशानी छोटे एवं मध्यम क्षेत्र के कारोबारियों (MSME) को है जिनका कारोबार बिना बिजनेस लोन की सहायता से नहीं चल सकता।

बिजनेस लोन एग्रीमेंट पर साइन करने से पहले आपको पता होनी चाहिए ये जानकारियां

कारोबार का विस्तार करने के लिए या कोई नई मशीनरी खरीदने के लिए बिजनेस लोन की रकम सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग क्षेत्र (MSME) के कारोबारियों के लिए संजीवनी की तरह कार्य करता है। लेकिन, लोन की रकम तय समय पर वापस नहीं करने पर उन्हें डिफाल्टर घोषित कर ब्लैक लिस्ट कर ‍दिया जाता है। ऐसे में आगे के सभी रास्ते बंद हो जाते हैं। इस ब्लॉग में आइए बिजनेस लोन कैसे चुकाए के बारे में समझते हैं।

आसानी से बिजनेस लोन कैसे चुकाए-karz mukti ke upay

बेहतर मैनेजमेंट है बेहतर बिजनेस लोन कैसे चुकाए का बेहतरीन तरीका

कारोबार में बेहतर मैनेजमेंट होना सफलता की पहली कड़ी होती है। बेहतर मैनेजमेंट वह कड़ी है जिससे कम संसाधन में भी बेहतरीन प्रोडक्टविटी बनाई जा सकती है। बिजनेस लोन कैसे चुकाए में मैनेजमेंट की भूमिका उस गृहिणी की तरह होती है जो कम भोजन होने पर भी घर के किसी सदस्य को भूखा नही सोने देती है।

See also  One Person Company का रजिस्ट्रेशन कैसे होता है? जानिए

EMI के लिए रकम सुरक्षित करना होता है फायदेमंद-karz mukti ke upay

मैनेजमेंट बिजनेस लोन की EMI के बराबर रकम हर महीने सुरक्षित कर सकता है। सुरक्षित रकम को सिर्फ लोन की EMI भरने के उपयोग में लाया जा सकता है। इस प्रक्रिया से यह होगा किसी महीने में लोन की EMI के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा या भागदौड़ नहीं करना होगा। समय पर EMI जाती रहेगी और बिजनेस को कोई नुकसान भी नहीं होगा। यह बिजनेस लोन कैसे चुकाए का महत्वपूर्ण सुझाव है।

घर बैठे कैसे प्राप्त करें बिजनेस लोन?

प्राफिट का एक का एक हिस्सा सुरक्षित रखना होता फायदेमंद

कारोबारी बिजनेस लोन लेने के बाद रकम को बिजनेस म इन्वेस्ट कर देते है। बिजनेस लोन का शगल भी यही है। कुछ समय बाद जब कारोबार में मुनाफा होना शुरू हो जाता है तो व्यापारियों को चाहिए कि वह मुनाफा का एक हिस्सा निकाल कर अलग से रख दें। इससे  लोन की EMI समय से चुकाने में मदद मिलती है और व्यापार पर कोई फर्क भी नहीं पड़ता है।

गैर- जरूरी जरूरतों को कम किया जा सकता है-karz mukti ke upay

कारोबार में ऐसा नहीं होता की कोई जरूरत गैर- जरूरी हो यानी बिना जरूरत का कोई कार्य। फिर भी कुछ ऐसे खर्चे होते हैं जिनको कम करके या न करके भी पैसे बचाया जा सकता है। यह तरकीब बेहद कारगर होती है। यहां पिद्दी बैंक का उदाहरण दिया जा सकता है। जिस तरह से एक पिद्दी बैंक समय- समय पर कुछ रुपये डालने से एक समय बाद वह अच्छी खासी रकम बन जाती है। ठीक उसी तरह छोटी जरूरतों को कम करके पैसे बचाया जा सकता है।

अभी बिजनेस लोन पाए

समय पर बिजनेस लोन न चुकाने के होते है कई नुकसान-karz mukti ke upay

अगर समय पर बिजनेस लोन की रकम न चुकाई जाए तो कई नुकसान एक साथ होने का खतरा रहता है:

  • लोन कंपनियों द्वारा ब्लैक लिस्टेड होने का खतरा: समय पर लोन की EMI न जमा होने पर लोन देने वाली कंपनी या बैंक द्वारा ब्लैक लिस्ट कर दिए का खतरा रहता है। यह खतरा इसलिए भी गंभीर होता है क्योंकि ब्लैक लिस्ट में आने के बाद कोई कंपनी या बैंक दोबारा लोन नहीं देते।
  • सिबिल स्कोर खराब होने का खतरा: तय समय पर अगर लोन की EMI न जमा हुई तो सम्बन्धित व्यक्ति या कंपनी का सिबिल स्कोर खराब हो जाता है। इससे वह कंपनी दोबारा कभी लोन नहीं प्रदान करेगी। दूसरी जगह पर भी लोन के लिए अप्लाई करने पर खराब सिबिल स्कोर देखते ही लोन देने से मना कर दिया जाता है।
  • नीलामी होने का खतरा: जब लोन लेने वाले व्यक्ति या संस्था लोन की रकम वापस चुकाने में अक्षम हो जाती है तो लोन प्रदान करने वाली कंपनी या बैंक संबंधित व्यक्ति के खिलाफ नीलामी या संपति कुर्क करने की नोटिस भेज देती है। नीलामी या कुर्क करने का आदेश कोर्ट के द्वारा दिया जाता है। इसे कोई रोक भी नहीं सकता। इसमें लोन की रकम वसूल करने के लिए कंपनी संबंधित व्यक्ति के घर या ऐसी कोई संपति ई नीलामी करता है जिससे दिए गए लोन की रकम वापस वसूल की जा सके।
See also  PMEGP योजना क्या है? पाएं लोन किसी भी बिज़नेस के लिए

ZipLoan से मिलता बेहद आसान EMI पर बिजनेस लोन

फिनटेक क्षेत्र की प्रमुख NBFC कंपनी ‘ZipLoan द्वारा कारोबार के लिए लोन बेहद कम शर्तों पर प्रदान किया जाता है। ZipLoan कारोबारियों की समस्याओं को समझता है इसीलिए आसान EMI और 6 महीने बाद प्री पेमेंट फ्री, 1 से 7.5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन* में प्रदान करता है। अगर आपका कारोबार कम से कम 2 साल पुराना है, सालाना टर्नओवर 10 लाख रुपये से अधिक का होता है, पिछले साल कम से कम डेढ़ लाख की ITR भरी गई हो और घर या दुकान की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर हो तो आप ZipLoan कंपनी से प्राप्त कर सकते है 1 से 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन बिना किसी परेशानी।

उम्मीद है आपको karz mukti ke upay के सवाल का जवाब मिल गया होगा। और आप इन तरीकों का उपयोग करके अपने बिजनेस लोन को समय पर वापस करके karjamukti प्राप्त कर सकते हैं।

कर्ज मुक्ति के घरेलू उपाय

कर्ज मुक्ति के घरेलू उपाय के लिए यह विधान कर सकते हैं- विघ्नहर्ता श्री गणेश भगवान को प्रतिदिन मोदक का भोग लगाकर लक्ष्मी जी को गुड़हल का फूल चढ़ाएं। रविवार और मंगलवार को लाल मसूर की दाल अवश्य किसी गरीब को दान करें। शंकर जी के मंदिर जाकर तीन केले लेकर चढ़ाये और 11 या 21 बार ओम ऋण मुक्तेश्वर महादेवाए नमः का जाप करें। यह घरेलू उपाय करने से कर्ज से मुक्ति मिलने में आसानी हो जाती है।

See also  पैन कार्ड के जरिये अपना सिबिल स्कोर चेक करें - Find Your CIBIL Score With Your PAN Card
कर्ज मुक्ति से छुटकारा कैसे पाएं?

देखिए कर्ज से छुटकारा पाने का सबसे आसान उपाय यह है कि कर्ज ही न लिया जाय। लेकिन यह किसी भी दशा में संभव नहीं है। क्योंकि देश के सबसे बड़े उद्योगपति भी कर्ज लेकर ही व्यवसायिक कार्य करते हैं। जहां तक कर्ज से जल्दि छुटकारा पाने की बात है तो, उसके लिए कुछ घरेलू उपाय किया जा सकता है। जैसे प्रतिदिन लाल मसूर की दाल का दान करें और मंगलवार के दिन शिवलिंग पर मसूर की दाल और जल अर्पित करें। इसके बाद ओम ऋण मुक्तेश्वर महादेवाय नम: का जाप करें। इससे आपको कर्ज और लोन से धीरे-धीरे मुक्ति मिल जाएगी।

कर्ज क्यों चढ़ता है?

देखिए कर्ज क्यों चढ़ता है, इस बात को कोई सीधा जवाब नहीं है। क्योंकि सभी का कंडिशन अलग – अलग होता है। कर्ज कोई शौक से नहीं लेता है। उसे जब अति-आवश्यकता होता है, तभी कोई व्यक्ति कर्ज लेता है। व्यय भाव के मजबूत होने पर व्यक्ति सुख सुविधा के लिए कर्ज लेता है। आयु भाव के प्रभावशाली होने पर स्वास्थ्य की रक्षा के लिए कर्ज लेता है। कुंडली में अग्नि तत्व की मात्रा मजबूत होने पर भी कर्ज की संभावना बढ़ जाती है। मंगल का कमजोर होना भी कर्जों के लिए काफी हद तक जिम्मेदार होता है।

कर्ज कौन से दिन चुकाना चाहिए?

अब जमाना बदल गया है। ऑनलाइन के इस दौर में न तो कर्ज देने वाला दिन देखता है और न तो कर्ज चुकाने वाला कर्ज चुकाने के लिए दिन का इंंतजार करता है। हालांकि सोमवार- सोमवार को कर्ज के लेन-देन के हिसाब से काफी शुभ माना गया है। इस वार कि अधिष्ठाता साक्षात माता पार्वती को माना गया है। यह चर संज्ञक और शुभ वार है। इस वार को किसी भी प्रकार का कर्ज लेने-देने में हानि नहीं होती है।

कर्ज ज्यादा हो जाये तो क्या करे?

देखिए यह सदा ध्यान रखा जाना चाहिए कि कर्ज ज्यादा न हो पाये। इसके लिए यह जरुरी है कि कर्ज ज्यादा न लिया जाय। फिर भी किन्हीं कारणवश आपको आपको कर्ज लेना है तो आप बुधवार को दूसरे व्यक्ति से लें और मंगलवार को किसी भी व्यक्ति को उधार नहीं दें अगर आपने मंगलवार को कर्ज दिया तो हो सकता है की आपको भी कर्ज लेना पड़ जाए। – विघ्नहर्ता श्री गणेश भगवान को प्रतिदिन मोदक का भोग लगाकर लक्ष्मी जी को गुड़हल का फूल चढ़ाएं इससे कर्ज से मुक्ति मिलती है।