भारत जैसे विशाल जनसँख्या वाले देश में किराना स्टोर चलाना मुनाफे वाला सौदा रहा है। यहां लगभग हर गली में एक, दो किराने की दुकान देखने को मिल जाती है। जनसँख्या बढ़ने के कारण दैनिक उपयोग की चीजों की मांग भी बढ़ती है। रोजमर्रे की जरूरतों को पूरी करते है किराना स्टोर। एक तरह से यह भी कह सकते है कि बिना किराने के दुकान के कालोनी या रेजिडेंटिसियल सोसाइटी की कल्पना भी नहीं की जा सकती।

किसी भी रिटेलर के लिए लक्ष्य यह है कि वह अधिक से अधिक बिक्री हासिल करे और किसी भी समय खरीदारी करने वाले ग्राहकों की संख्या बढ़ाए। यह हमेशा एक सरल कार्य नहीं है और इसे पूरा करने के लिए कुछ रचनात्मक सोच और डेटा विश्लेषण होगा। जिनसे आप अपनी दुकान की बिक्री बढ़ा सकते हैं।

यह स्वरोजगार के साथ ही साथ दुसरे लोगों को भी रोजगार प्रदान करने का माध्यम है। लेकिन क्या आप जानते है की किराने के स्टोर को विस्तार कर अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है! इस ब्लॉग में हम जानेंगे कि कैसे किराने के स्टोर का विस्तार किया जा सकता है। किराना स्टोर का विस्तार करने के लिए निम्नलिखित उपायों का पालन किया जाना चाहिए:

  1. किराना दुकान में वैरायटी बढ़ाएं
  2. ग्राहकों के जरूरत के अनुसार सामानों को रखे
  3. कस्टमर सर्विस अच्छी रखें
  4. अपने किराना स्टोर की ब्रांडिंग करें
  5. व्यवहार विनम्र होना चाहिए
  6. नई जगह की तलाश करें
  7. दुकान के आंतिरक डिज़ाइन का रखें खास ध्यान
  8. किराना स्टोर का विस्तार करने करने के लिए क्रेडिट सुविधा शुरु करें
  9. अपने किराना स्टोर का प्रचार करें
  10. दुकान का विस्तार करने के लिए ज्योतिष का सहारा लीजिए
  11. बिजनेस बढ़ाने के लिए कुछ टोटको का भी उपयोग करें
  12. पैसों का ऐसे करें इंतजाम

 

Table of Contents

किराना दुकान में वैरायटी बढ़ाएं 

किराने के स्टोर को फेमस और अधिक मुनाफा वाला बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण है स्टोर पर तमाम वैराइटी की सामानों को रखना। अगर आपके किराने के स्टोर में जितने अधिक से अधिक वैराइटी के सामान उपलब्ध रहेंगे आपके पास उतनी ही अधिक संख्या में ग्राहक आयेंगे। इस तरह बिक्री बढ़ती जाएगी और मुनाफा भी बढ़ता जायेगा।

अभी बिजनेस लोन पाए

इसे आपको उदाहारण के तौर पर बताते हैं। माना कि अभी किसी के किराना स्टोर पर लक्स ब्रांड का साबून बिकता है। लेकिन पतंजलि ब्रांड अपने नीम साबून की ब्रांडिंग और प्रचार बहुत जोर – शोर से कर रही है। जिससे लोगों को पतंजलि ब्रांड के नीम साबून के बारें में जानकारी मिल रही है।

इसे भी जानिए: बिजनेस में किस तरह की गलतियां नहीं करना चाहिए? जानिए

अब लोग पतंजलि ब्रांड के नीम साबून को खरीदने के लिए किराना स्टोर्स पर दौड़ेंगे। लेकिन जिस किराना स्टोर पर सिर्फ लक्स ब्रांड का साबून बिकेगा, वहां ग्राहक नहीं जायेंगे। क्योंकि ग्राहकों की जरूरत है- नीम ब्रांड का साबून। तो ऐसे में किराना स्टोर के मालिक को चाहिए कि वह लक्स ब्रांड के साबून के साथ – साथ पतंजलि ब्रांड के नीम ब्रांड का भी साबून रखें।

इसे भी जानिए: बिजनेस बढ़ाने में बिजनेस लोन का योगदान क्या है? जानिए 

सिर्फ पतंजलि ब्रांड का साबून ही क्यों बल्कि जितने ब्रांड के साबून का प्रचार टीवी पर, इंटरनेट पर चल रहा हो, उन सभी ब्रांड के साबून अपने किराना स्टोर पर रखना शुरु कर देना चाहिए। इससे यह होगा कि ग्राहक चाहे जिस भी ब्रांड का साबून खरीदने आएगा तो उसके मनपंसद ब्रांड का साबून मिल जायेगा। बदले में किराना स्टोर के मालिक को मुनाफा हो जायेगा।

बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करें

इस तरीके से सिर्फ मुनाफा ही हासिल नहीं होता है, बल्कि बिजनेस का विस्तार भी होता है। क्योंकि जिस व्यक्ति को अमुख किराना स्टोर पर उसके जरूरत की सभी चीजें आसानी से मिल जाती है, तो वह अन्य लोगों से भी इस बात का प्रचार करता है। इस तरह यह एक चेन बन जाता है। और किराना स्टोर का विस्तार अपने – आप होता चला जाता है।

ग्राहकों के जरूरत के अनुसार सामानों को रखे

माना किसी व्यक्ति को भूख लगी हो। वह भूखा व्यक्ति किसी होटल पर जाकर खाने का ऑर्डर करता है। लेकिन होटल वाला बताता है कि उसके यहां पका खाना नहीं मिलता, बल्कि ताज़ी हरी सब्जियां मिलती हैं। जिन्हें ग्राहक को अपने घर पर लेकर पकाना होता है। अब आप सोच सकते हैं कि उस ग्राहक की मनोदशा क्या रहेगी। क्या वह ग्राहक उस होटल पर दोबारा कभी जाना पसंद करेगा? कभी नहीं जायेगा। ठीक यही शर्त किराना स्टोर पर भी लागू होती है।

इसे भी जानिए: बिजनेस में सफलता के लिए बिजनेसमैन में होने चाहिए ये गुण और क्षमताए

किसी भी किराना स्टोर पर अगर ग्राहक के मनमुताबिक सामान उपलब्ध होती है तो, ग्राहक उस दुकान पर बार – बार जाना पसंद करता है। यहां दुकानदार को यह ध्यान रखना चाहिए की एक रजिस्टर अपने पास हमेशा रखे। रजिस्टर में उन सामानों के नाम लिखे जिसे ग्राहक मांगे और आपके पास उपलब्ध न हो।

उस सामान का नाम लिखकर रख लीजिए और समय मिलते ही उस सामान को मंगवा लीजिए, इससे आपके दुकान के ऊपर लोगों की विश्वसनीयता बढ़ती जाएगी। जब ग्राहकों की विश्वसनीयता किसी किराना स्टोर के प्रति बढ़ जाती है तो ग्राहक उस किराना स्टोर से ही खरीदारी करना पसंद करते हैं।

MSME लोन के लिए अप्लाई करें

कस्टमर सर्विस अच्छी रखें

एक बार फिर से एक उदाहारण आपके सम्मुख रख रहा हूं। माना कोई ग्राहक किसी किराना स्टोर पर 10 रुपये का बिस्किट खरीदने के लिए जाता है। किराना स्टोर के मालिक को जब पता चलता है कि सामने वाला ग्राहक सिर्फ 10 रुपये की खरीदारी करने आया है। इसके चलते वह दूकानदार बहुत खराब तरीके से उस ग्राहक से बात करते हुए कह देता है कि उसके किराना स्टोर में 10 रुपये का कोई बिस्किट नहीं है।

अब आप सोचिये कि जब उस ग्राहक को 1000 रुपये का सामान खरीदना होगा तो क्या वह ग्राहक फिर से उस किराना स्टोर पपर जाना पसंद करेगा? बिल्कुल भी नहीं। इस तरह उस किराना स्टोर का मालिक अपना एक ग्राहक हमेशा के लिए गवां देता है।

इसे भी जानिए: बिजनेस का विस्तार करने के लिए क्या करना चाहिए? जानिए 5 उपाय

चूंकि किराना स्टोर का बिजनेस सीधे – सीधे ग्राहकों से जुड़ा बिजनेस हैं। इस बिजनेस कस्टमर सीधे – सीधे दूकानदार से मुखातिब होते हैं। तो दुकानदार की यह जिम्मेदारी होती है कि वह ग्राहक के साथ प्रोफेशनल व्यवहार करे। कस्टमर सर्विस बढ़िया रखे।

कस्टमर सर्विस अच्छी रखने का यहां मतलब है की जब ग्राहक आपके दुकान पर किसी सामान खरीदने आता है तो उसे, जो सामान चाहिए होती है, उसे तुरंत मिलनी चाहिए, बेवजह किसी ग्राहक को इंतजार न करना पड़े। किराना स्टोर का विस्तार करने के लिए कस्टमर सर्विस अच्छी रखना एक अनिवार्य शर्त है।

अपने किराना स्टोर की ब्रांडिंग करें

किराना स्टोर की ब्रांडिंग करने से मतलब है की, अपने दुकान के बारे में अच्छी खबरे चलवाने का प्रयास करें। अब आपका सवाल होगा, यह कैसे हो सकता है? तो इसके लिए बहुत ही आसान तरीका यह है की समय – समय आप अपनी दुकान पर कुछ छूट का ऑफ़र देते रहे, जब दुकान पर ऑफर की घोषणा करे तो कुछ पम्पलेट छपवा ले, जब भी कोई ग्राहक आये उसे वह पम्पलेट देते रहे। इससे यह होगा की आपके दुकान के बारे लोगों की अच्छी राय बनेगी और अधिक लोन खरीदारी करने के लिए आएंगे।

महिलाओं के लिए बिजनेस लोन

व्यवहार विनम्र होना चाहिए

बिजनेस का एक वसूल होता है “ग्राहक भगवान होते है”, तो अगर आपको अपने किराने के स्टोर का विस्तार करना है तो ग्राहकों की सेवा मुस्कान से करना होगा। आपको इस बात को हमेशा याद रखना है कि मार्केट में और भी दुकानें हैं, जहां पर ग्राहक को उसका सामान मिल सकता है। आपका व्यवहार ही ग्राहक को आपकी दुकान आने के लिए विवश कर सकता है।

ट्रेडर्स के लिए बिज़नेस लोन

नई जगह की तलाश करें

किराने के स्टोर को विस्तार करने के सिलसिले में आप अपनी दुकान की नई ब्रांच खोलना चाहते है तो, सबसे पहला कार्य नई जगह की तलाश करने का कार्य करें। नई जगह ऐसी होनी चाहिए जहां पर लोग रहते हो और साधन क आने – जाने की अच्छी सुविधा मौजूद हो। अगर आने जाने की सुविधा अच्छी नहीं रहेगी तो सामान ले आने – ले जाने में दिक्कतों का सामना करना पद सकता है।

दुकान के आंतिरक डिज़ाइन का रखें खास ध्यान

कई बार ऐसा होता है कि लोग दुकान को फैंसी दिखाने के चक्कर में बहुत सी जगह बेकार कर देते है, फिर शिकायत रहती है की दुकान में जगह नही है। इसे आप रोक सकते है। जगह बचाने के लिए दुकान के अंदर की डिज़ाइन को इस तरह से बनवाए ताकि अधिक से अधिक जगह बच सके, जहां आप अधिक से अधिक सामान रख सके।

किराना स्टोर का विस्तार करने करने के लिए क्रेडिट सुविधा शुरु करें

आज बिजनेस में सफलता प्राप्त करने का और बिजनेस बढ़ाने का सबसे बेहतरीन उपायों में से एक है- क्रेडिट पर सामान बेचना। मतलब सामान का मूल्य किश्तों में लेना। वर्तमान समय में हर रोज नया प्रोडक्ट लांच हो रहा है। लेकिन लोगों की आमदनी सीमित है। लेकिन इक्षाओं पर किसी का जोर नहीं होता है। ग्राहक नई चीज तो खरीदना चाहता है लेकिन उसे उसका बटुआ अनुमति नहीं देता है।

इसे भी जानिए: किराना दुकान के लिए बिजनेस लोन: सिर्फ 5 स्टेप्स में

ऐसे में अगर कोई कारोबारी किसी ग्राहक के मनपसन्द चीज को आधे दाम पर दे देता है और ग्राहक को यह सुविधा देता है कि वह आधे दाम को महीने की किश्त के अनुसार देने के लिए स्वतंत्र हैं तो क्या ग्राहक वह सामान नहीं खरीदेगा? खरीदेगा। बिल्कुल खरीदेगा। बल्कि वह ग्राहक उस कारोबारी का मुरीद भी हो जायेगा। उसे जब भी किसी चीज आवश्यकता होगी, वह उसी कारोबारी के यहां जायेगा। इससे बिजनेस बढ़ता रहेगा यानी बिजनेस का विस्तार बहुत तेज गति से होता रहेगा।

अपने किराना स्टोर का प्रचार करें

एक बहुत प्रसिद्ध कहावत है कि ‘जो दिखता है वही बिकता है’। मतलब बिजनेस का विस्तार करने के लिए बिजनेस का लोगों के बीच दिखना अनिवार्य है। अब किराना स्टोर तो खुद अपने – आप से चलकर लोगों के पास तो जायेगा नहीं कि देखों मैं किराना स्टोर हूं, मेरा यह नाम है और मैं इस जगह पर स्थापित हूं, मेरे यहां फला – फला चीजे मिलती हैं।

इसे भी जानिए: बिजनेस का विस्तार करने के लिए क्या करना चाहिए? जानिए 5 उपाय

तो यहां पर कारोबारी का कर्तव्य बन जाता है कि वह बिजनेस का प्रचार करें। क्योंकि प्रचार ही एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा घर बैठे कारोबारी का बिजनेस हजारों लोगों तक बहुत आसानी से पहुंच सकता है। जब बिजनेस हजारों लोगों तक पहुंचेगा तो स्वभाविक तौर पर लोग बिजनेस के बारें में जानना चाहेंगे तो किराना स्टोर पर खींचे चले आएंगे। इससे किराना स्टोर का विस्तार करने में मदद प्राप्त होगी।

दुकान का विस्तार करने के लिए ज्योतिष का सहारा लीजिए

भारत में ज्योतिष विद्या की पहचान बहुत पुरानी है। प्राचीन समय से ही हम भारतवासी ज्योतिष विद्या को मानते आ रहे हैं और इसे बहुत सम्मान देते हैं। कारोबार बढ़ाने के लिए ज्योतिष का विद्या का उपयोग करना एक शानदार फैसला साबित हो सकता है।

ट्रैवल एजेंसी के लिए लोन

चूंकि ज्योतिष विद्या में पारंगत लोग गणना के आधार पर यह बता देते हैं कि बिजनेस का भविष्य क्या है और क्या उपाय करने से बिजनेस बढ़ने की संभवना है। तो कारोबारी वह ज्योतिष उपाय करके अपना बिजनेस बहुत आसानी से बढ़ा सकते हैं। यानी बिजनेस का विस्तार करने में ज्योतिष विद्या का उपयोग करना बहुत फलदाई साबित हो सकता है।

इसे भी जानिए: महिला कारोबारियों के लिए बिजनेस लोन योजना

हालांकि बिजनेस बढ़ाने के लिए ज्योतिष विद्या का ही उपयोग होना चाहिए, ज्योतिष की आड़ में घूम रहे पाखंडियों की सहायता लेना मुसीबत बन सकता है। ऐसे में जब कारोबारी किसी ज्योतिषी से संपर्क करें तो सबसे पहले उन ज्योतिषी के बारें में अच्छे जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है। फिर जैसे – जैसे ज्योतिषी कहें, उनके कहें अनुसार उपाय करते जाना चाहिए।

बिजनेस बढ़ाने का यह बहुत कारगर साबित होता है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि देश के लगभग सभी बड़े कारोबारी अपना बिजनेस बड़ा करने के लिए ज्योतिष का सहारा जरुर लेते हैं। लेकिन आपको ध्यान रखना है कि आप अपनी आर्थिक हैसियत के अनुसार ही ज्योतिषी से संपर्क करें।

बिजनेस बढ़ाने के लिए कुछ टोटको का भी उपयोग करें

किराना की दुकान बढ़ाने के लिए टोटके बहुत उपयोगी साबित होते हैं। बहुत बार ऐसा देखा गया है कि टोटके करने से किराने की दुकान में ग्राहकों की संख्या बढ़ती है। ग्राहकों की संख्या बढ़ने से बिक्री बढ़ती है। बिक्री बढ़ने से किराना स्टोर का मुनाफा बढ़ता है। जब मुनाफा बढ़ता है तो किराना स्टोर का विस्तार कारोबारी बहुत आसानी से कर सकते हैं।

इसे भी जानिए: बिजनेस लोन: जानिए पात्रता और अप्लाई करने का आसान तरीका

दुकान में टोटका करने के लिए आपको ज्योतिषी से संपर्क करना होगा। ज्योतिषी ही यह बतायेंगे कि किराना स्टोर का विस्तार करने के लिए क्या टोटका करना चाहिए। इसलिए अपने हिसाब से कोई टोटका करने से बेहतर है कि कारोबारी किसी अच्छे ज्योतिषी से संपर्क करें और उनसे बिजनेस का विस्तार करने से संबंधित टोटकों के बारें में जानकारी प्राप्त करें और जानकारी के अनुसार किराना स्टोर में टोटका करें। यह भी यह सधा हुआ उपाय है।

मार्केट रिसर्च करके जरुरत को समझे

किराना बिजनेस शुरु करने के लिए या दुकान की बिक्री बढ़ाने के लिए बाज़ार का रिसर्च करना सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है। मार्केट रिसर्च से यह पता चलता है कि जिस स्थान पर आपकी दुकान है, वहां पर लोग कैसे हैं और वहां के लोगों की जरूरत क्या है। इससे बड़ा फायदा यह होता है कि आपको स्थानिय लोगों की जरुरतों के संबंध में पता चलता है। जब लोगों की जरूरत का पता चलता है तभी यह समझ में आता है कि किराना बिजनेस में कौन – कौन सा प्रोडक्ट रखा जा सकता है। इस तरह कारोबार के बारे में समझ बढ़ती है और आपके बिजनेस का विस्तार होने के साथ ही बिक्री बढ़ती है।

बिजनेस की लोकेशन का भी फर्क पड़ता है

बिजनेस के मामले में लोकेशन बहुत महत्वपूर्ण होती है। फर्ज करें शाकाहारी लोगों के मुहल्ले में मांस की दुकान खोलना कितना उचित है और वह दूकान कितनी चलेगी। इसीलिए नया बिजनेस स्टार्ट करने से पहले के साथ – साथ पुराने बिजनेस के लोकेशन के संबंध में समय – समय पर जानकारी लेते रहना जरुरी होता है। क्योंकि लोगों की सोच समय – समय पर बदलती रहती है। बिजनेस की लोकेशन ऐसी होना चाहिए जहां तक लोगों की आसानी से पहुंच हो सकती हो और लोग वहां पर खरीददारी करने आते हों। बिजनेस लोकेशन पर लाइट इत्यादि का मुक्कमल ध्यान रखना चाहिए।

ग्राहको के लिए बेहतर इंतजाम करें

किराने की दुकान में प्रवेश करते समय कोई भी दुकानदार सबसे पहले एक ट्रॉली, गाड़ी या टोकरी उठाएगा। यह एक साधारण विकल्प की तरह लग सकता है, लेकिन यह एक रिटेलर को उन विकल्पों और खरीद के बारे में बहुत कुछ बताता है जो उपभोक्ताओं के लिए योजनाबद्ध होने से पहले ही गलियारों में पहुंच जाते हैं। यात्रा की लंबाई, सप्ताह के दिन और गुजरने की संख्या को ध्यान में रखते हुए और खरीदारी की शुरुआत के समय अपने द्वारा उठाए गए औजारों के आधार पर एक दुकानदार बनाता है, एक रिटेलर अलग-अलग टूल के प्लेसमेंट और वॉल्यूम की व्यवस्था कर सकता है बिक्री बढ़ाने के लिए कुछ निश्चित अवधि।

ऐसे मामले में जहां एक रिटेलर यह विश्लेषण करता है कि उसके ग्राहक सुबह 8 बजे से 11 बजे के बीच सप्ताहांत पर बड़ी मात्रा में उपज खरीदते हैं, लेकिन उस टाइमस्टैम्प पर दुकानदारों के लिए केवल छोटे बास्केट उपलब्ध हैं, बिक्री में कमी होना तय है। इसलिए एक रिटेलर को प्रत्येक व्यक्तिगत अवधि के लिए ग्राहक की अपेक्षित मात्रा के प्रति हमेशा सचेत रहना चाहिए और खरीदारी के सही साधन उपलब्ध कराने चाहिए। सही विश्लेषिकी डेटा के साथ, यह कार्य जल्दी और कुशलता से किया जा सकता है। लेकिन इसका एक दूसरा पक्ष यह है कि खुदरा विक्रेता कृत्रिम रूप से कुछ उपकरणों की संख्या बढ़ाने और दूसरों को कम करने के लिए ग्राहकों को अधिक खरीदने के लिए प्रेरित कर सकते हैं। हालांकि, इसे मॉडरेशन में किया जाना चाहिए ताकि दुकानदारों के असंतोष को उकसाया न जा सके।

आइटम कैटेगरी के अनुसार रखे

प्रत्येक श्रेणी स्वयं का एक ब्रह्मांड है, जिसे इस तरह से प्रबंधित किया जाना है, कि यह न केवल अन्य श्रेणियों को पहले और बाद में माना जाता है, बल्कि इसके भीतर वस्तुओं का प्रबंधन और व्यवस्था भी है। इसलिए न केवल प्रत्येक श्रेणी को प्रत्येक आइटम पर अधिकतम बिक्री के बारे में चिंतित किया जाता है, बल्कि उपलब्ध विकल्पों की विविधता और उनके साथ ग्राहकों के व्यवहार पर भी संतुलन रखा जाता है। इसलिए, श्रेणी प्रबंधन किसी भी दुकान की बिक्री योजना का एक अभिन्न अंग है और आपकी दुकान की बिक्री बढ़ाने के लिए एक मास्टर पीस है।

चार श्रेणी भूमिकाएँ हैं कि कोई उपभोक्ता उनके प्रति कैसा व्यवहार करता है: गंतव्य, दिनचर्या, मौसमी, या सुविधा। आधुनिक विश्लेषणात्मक उपकरणों और व्यापार खुफिया अनुप्रयोगों का उपयोग करते हुए, इन पर डेटा का विश्लेषण और एक्सट्रपॉलिट किया जाता है, जिससे एक खुदरा विक्रेता को इष्टतम बिक्री के लिए प्रत्येक श्रेणी को फाइन-ट्यून करने की अनुमति मिलती है।

लोगो को सही जगह काम पर तैनात करें

सबसे लचीले संसाधनों में से एक जो एक दुकान के निपटान में है, वह है इसके कर्मचारी सदस्य। सही समय और अंतराल पर श्रमिकों की सही संख्या और प्लेसमेंट होने से एक स्टोर के लिए आश्चर्यजनक रूप से उच्च रिटर्न मिल सकता है। यह न केवल दुकानदारों की सहायता करने या आइटम चेकआउट की गति को तेज करने के लिए किया जाता है, बल्कि कुछ ब्रांडों और श्रेणियों पर ध्यान आकर्षित करने के लिए भी किया जाता है।

अधिक उन्नत शेड्यूलिंग प्रबंधन सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके, स्टोर को भविष्य की ग्राहक यात्राओं की भविष्यवाणी करने की क्षमता प्रदान की जाती है, स्टोर पर कर्मचारी संरचना के लिए इष्टतम आकार की गणना करें, और प्रत्येक कर्मचारी के लिए अधिक पर्याप्त शेड्यूल की पहचान करें जो पूरी तरह से व्यवसाय और कर्मचारी की आवश्यकताओं के अनुरूप हो। लेकिन एक बुरा स्टाफ शेड्यूलिंग अक्षमता और छिपी लागत उत्पन्न करेगा जिसे अनदेखा नहीं किया जा सकता है। शॉपपरमोशन ग्राहकों को जारी किए गए रीयल-टाइम अलर्ट की अनुमति देता है जब स्टोर पर कुछ क्षेत्रों में उच्च ट्रैफ़िक वॉल्यूम का पता लगाया जाता है।

अपनी क्रॉस-सेलिंग रणनीति को परिभाषित करें

स्थान, दृश्यता और स्टॉक प्रबंधन जैसे कारकों को लेते हुए, एक स्टोर के भीतर सभी वस्तुओं के सहसंबंधी मैट्रिक्स होने से प्रबंधन अधिक प्रभावी क्रॉस-सेलिंग रणनीति बनाने की अनुमति देगा। एक बार जब कोई स्टोर अपने द्वारा प्रदान की जाने वाली विभिन्न वस्तुओं पर एक सहसंबंधी मैट्रिक्स उत्पन्न कर सकता है, तो क्रॉस-सेलिंग की सुविधा के लिए एक उच्च सहसंबंध कारक वाली वस्तुओं को एक दूसरे के बगल में या सुलभ पहुंच के भीतर रखा जा सकता है।

यह ध्यान देने योग्य है कि सहसंबंध मैट्रिक्स शायद ही कभी सममित है। यह इस तथ्य के कारण है कि प्रत्येक शॉपर यात्रा अलग है और इसलिए विभिन्न श्रेणियों को पार करती है और वे जिस क्रम में जाते हैं, अर्थात्, सब्जी की श्रेणी में आने वाले दुकानदारों की कुल संख्या और बेकरी की श्रेणी भी पीछे नहीं है। इसलिए, इन श्रेणियों को सहसंबंधित करने की संभावनाएं भिन्न होती हैं।

इन-स्टोर प्रचार के लिए सर्वश्रेष्ठ समय चुनें

उच्च ग्राहक मात्रा में इन-स्टोर प्रचार के लिए एक सुनहरा अवसर प्रस्तुत करता है और एक बार ग्राहक की मात्रा के डेटा का विश्लेषण करने के बाद, इन-स्टोर अभियानों को मैच के लिए व्यवस्थित किया जा सकता है। दिन के समय, दुकानदारों के प्रकार, मौसम और अन्य जैसे कारकों को ध्यान में रखते हुए, एक लक्षित अभियान स्टोर में न्यूनतम लागत के साथ प्रभावशाली बिक्री परिणाम प्राप्त कर सकता है। इसलिए यह जानकारी जानना मूल्यवान है कि सप्ताह के सर्वश्रेष्ठ क्षण इन-स्टोर लॉन्च करने के लिए क्या हैं: नए उत्पादों का परीक्षण, विज्ञापन, या पर्चे, ब्रोशर और प्रचार किटों का वितरण।

अपनी शक्ति गलियारे का अनुकूलन करें

आपके स्टोर के गलियारे का लेआउट ग्राहक के लिए एक महत्वपूर्ण संकेतक है जो स्टोर के भीतर उपलब्ध है, इसलिए इसकी एक उचित व्यवस्था से उच्च खरीद हो सकती है और यह आपके स्टोर की बिक्री बढ़ाने के लिए बाहर देखना मुख्य मीट्रिक में से एक है। शॉपपरमोशन द्वारा प्रदान किए गए विभिन्न विश्लेषणात्मक उपकरणों का उपयोग करते हुए, आप अपने दुकानदारों की व्यवहारगत विशेषताओं को एक्सट्रपलेशन कर सकते हैं और विभिन्न गलियारों पर उत्पादन की सबसे इष्टतम व्यवस्था हासिल कर सकते हैं और जिस क्रम में वे ग्राहकों को दिखना चाहिए, इसलिए जब यह आता है तो बिक्री को अधिकतम करना चाहिए। मुख्य गलियारा

अन्य स्थानों पर विस्तार करें

नए स्टोर खोलना कई खुदरा विक्रेताओं के लिए एक आम विस्तार की रणनीति है। अन्य स्थानों में दुकान स्थापित करने से आप अपने ब्रांड की उपस्थिति को व्यापक रूप से बढ़ा सकते हैं और नए ग्राहकों तक पहुँच सकते हैं।

यदि नई दुकानें खोलना आपके राडार पर है, तो मान लें कि आपके मल्टी-स्टोर ऑपरेशन की सफलता इस बात पर निर्भर करेगी कि आप दो चीजों को कितना संतुलित करते हैं: आपकी स्थानीय रणनीति और आपके व्यवसाय के मानकीकृत घटक।

आपकी स्थानीय रणनीति इस प्रकार होना चाहिए

नए स्थानों पर विस्तार करने का मतलब अपने मूल स्टोर की कार्बन प्रतियां बनाना नहीं है। जबकि आपकी अधिकांश ब्रांडिंग और प्रक्रियाएं समान रह सकती हैं, आपको प्रत्येक दुकान में एक स्थानीय स्वाद को भी इंजेक्ट करना चाहिए। यह आपको स्थानीय दुकानदारों के साथ जुड़ने और प्रक्रिया में अपना व्यवसाय प्राप्त करने में सक्षम करेगा।

पैसों का ऐसे करें इंतजाम

स्वाभाविक सी बात है कि अगर आप अपने किराना स्टोर का बड़ा करेंगे/विस्तार करेंगे तो उसके लिए पैसों की जरूरत पड़ेगी। इस जरूरत को पूरा करने के लिए आप बिजनेस लोन का सहारा ले सकते है। अगर आपका बिजनेस 2 साल से अधिक का है और आपके बिजनेस का टर्नओवर 10 लाख से अधिक है तो आप सिर्फ 3 दिनों* के अंदर बिजनेस लोन प्राप्त कर सकते है।

अब आपका सवाल होगा की 3 दिन में कौन देगा लोन तो, इसका जवाब है “ZipLoan”. जी हां ZipLoan छोटे व्यापारियों की आर्थिक मदद करने के लिए सिर्फ 3 दिन में घर बैठे ऑनलाइन किराना स्टोर के लिए लोन अप्लाई  पर बिना कुछ गिरवी के 1 से 7.5 लाख तक बिजनेस लोन प्रदान कर रहा है।

बिना कोलैटरल बिजनेस लोन्स

 

इसे भी जानिए:

मुद्रा लोन मुद्रा लोन के लिए अप्लाई मुद्रा लोन पत्राता
मुद्रा लोन आवेदन पत्र बुटीक लोन टेक्सटाइल्स इंडस्ट्री के लिए लोन
ट्रेडर्स के लिए बिज़नेस लोन बिज़नेस लोन के फायदे ग्रोसरी स्टोर के लिए लोन

क्या दुकान खोलना एक फायदे का सौदा है?

दुकान खोलना एक अति फायदे का सौदा है। क्योंकि लोगों को रोज की जरुरत की चीजों को खरीदने के लिए एक दुकान पर जाना ही पड़ता है। इस लिहाज से देखा जाय तो दुकान के बिजनेस में कभी मंदी नहीं आती है।

किराना सामान रेट होलसेल 2020 कहां मिलता है?

किराना सामान रेट होलसेल 2020 दिल्ली में बहुत आसानी के साथ मिल जाता है। किराना सामान रेट होलसेल 2020 खरीदने के लिए आपको चांदनी चौक जाना होगा। वहां पर किराना सामान रेट होलसेल 2020 आसानी से मिल जाता है।

किराना दुकान प्रोजेक्ट क्या होता है?

जब भी कोई बिजनेस शुरु किया जाता है तो उसका एक प्रोजेक्ट बनाया जाता है। ठीक इसी तरह किराना दुकान प्रोजेक्ट भी बनाया जाता है। किराना दुकान प्रोजेक्ट में इस बात को बताया जाता है कि दुकान कितनी बड़ी होगी और दुकान का लोकेशन इत्यादि कहां होगा।
किराना दुकान प्रोजेक्ट बनाने से बिजनेस लोन मिलने में आसानी होता है।

परचून की दुकान का सामान कहां मिलता है?

परचून की दुकान का सामान हर जगह पर मिल जाता है। हालांकि थोक में लेने पर रेट थोड़ा सस्ता मिलता है। परचून की दुकान का सामान खरीदने के लिए आपको एक आड़ंतियां को तय करना होता है। यह आड़तिया आपके नजदीकी बाजार का हो सकता है। उसको तय करने के बाद आपके परचून की दुकान का सामान आसानी मिल जाएगा।

kirana wholesale business kaise kare?

किराना होलसेल का बिजनेस करना बहुत ही आसान काम है। इसके लिए आपको पहले उन कंपनियों से संपर्क करना होगा जो कंपनी डेली यूज प्रोडक्ट को मैन्यूफैक्चर करती हैं। या आप चाहें तो किसी होलसेल डीलर से संपर्क कर सकते हैं। डीलर से बड़ी मात्रा में आप सामान मंगवाएं और सामान को आप छोटे दुकानदारों को बेचें। हालांकि इसके लिए पहले अपने पास पर्याप्त पूंजी बनाकर रखना अनिवार्य होता है।

किराना दुकानों लाभ मार्जिन कितना हो जाता है?

किराना दुकानों लाभ मार्जिन की बात करें तो यह बहुत लाभ वाली बात है क्योंकि किराना प्रोडक्ट में सभी सामानो पर लगभग 30 से 40 प्रतिशत मार्जिन मिलता है। मतलब किराना दुकानों लाभ मार्जिन 40 टका तक है। अगर कोई सामान आप 100 रुपये की बेचते हैं तो आपको 40 रुपये तक का लाभ हो सकता है। लेकिन यह याद रखना चाहिए कि किसी – किसी सामान पर 10 से 15 प्रतिशत तक का मार्जिन लाभ मिलता है। इसलिए किराना दुकान में हर प्रकार का सामान रखना जरुरी होता है।