अगर अभी तक आपने अपना ITR दाखिल नहीं किया है और इनकम टैक्‍स की वेबसाइट की दिक्‍कतों से परेशान हैं तो आपके लिए बड़ी राहत भरी खबर है। ITR फाइल करने वालों को सरकार ने एक बड़ी खुशखबरी दी है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई से बढ़ाकर 31 अगस्त, 2018 कर दी है। वित्त मंत्रालय की ओर से जारी नोटिफिकेशन में इस बात की पुष्टि की है।

ITR फाइल करने की अंतिम तारीख बढ़ी

यह भी पढ़ें:- ITR फाइल करने के ये 6 नियम इस बार बदल गए हैं, फटाफट जानिए

31 जुलाई के बाद ITR फाइल करने पर लगेगा जुर्माना-

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले शुल्क मुक्त ITR दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई थी। जिसे बदल कर 31 अगस्त कर दिया है। यानि 31 अगस्त के बाद ITR दाखिल करने वालों को 5,000 रुपए जुर्माना भरना पड़ेगा। आयकर अधिनियम की धारा 139 (1) के तहत आकलन वर्ष 2018-19 के दौरान रिटर्न दाखिल करने के लिए निर्धारित समय के भीतर आयकर रिटर्न दाखिल नहीं करने पर अधिनियम की धारा 234F के तहत विलंब शुल्क देना होगा।

यह भी पढ़ें:- ITR भरने में आ रही है दिक्कत, तो घर बैठे ऐसे लें आयकर विभाग की मदद

कुछ समूहों ने सरकार अंतिम तारीख आगे बढ़ाने का अनुरोध किया था। जिसके बाद यह फैसला लिया गया है। CBDT ने 2018-19 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न के फॉर्म 5 अप्रैल से लेने शुरू किए थे. CBDT ने कहा था जो भी अंतिम तिथि के बाद आईटीआर फाइल करेगा उसे उसकी इनकम के साथ हिसाब से पैनेल्टी देनी होगी।

यह भी पढ़ें:- इनकम टैक्स रिटर्न ऑनलाइन कैसे करें फाइल, 31 जुलाई है अंतिम तारीख

31 अगस्त के बाद ITR फाइल करने पर लगने वाला जुर्माना-

अगर किसी करदाता की कुल आय 5 लाख रुपए से अधिक है और वह 31 अगस्‍त 2018 के बाद और 31 दिसंबर, 2018 के पहले आयकर रिटर्न दाखिल करेगा तो उसे 5,000 रुपए विलंब शुल्क देना होगा। लेकिन अगर करदाता 31 दिसंबर, 2018 तक भी आयकर रिटर्न दाखिल नहीं करता है तो उसे 10,000 रुपए जुर्माना भरना पड़ेगा। अगर किसी करदाता की कुल आय पांच लाख रुपए से कम है तो उसे 31 अगस्‍त के बाद सिर्फ 1,000 रुपए विलंब शुल्क देना होगा।