बिजनेस में लाभ कमाने का सबसे मुख्य सिंद्धांत होता है वस्तुसुचि प्रबंधन . यहां हम वस्तुसुचि प्रबंधन, नकदी प्रवाह और इसे कैसे मैनेज करना है उसके बारे में जानेंगे.

वस्तुसुचि प्रबंधन क्या है?

क्या आपने कभी किसी बिजनेस की बैलेंस शीट के बारे में पढ़ा है? मुख्य रूप से खुदरा, विनिर्माण या खाद्य उद्दयोग बिजनेस की बैलेंस शीट के बारे में .अगर हां, तो आप देखेंगे कि वस्तुसुचि प्रबंधन किसी भी बिजनेस की प्राथमिक संपत्ति होती है. वस्तुसुचि प्रबंधन के अन्तर्गत वस्तुओं की आपूर्ति (supply), भंडारण (storage) एवं उपलब्धता (accessibility) का इस प्रकार प्रबंधन किया जाता है कि वस्तुओं की न कमी हो और न ही भंडारण (storage).  इसलिए हर व्यवसाय के पास एक प्रभावी सूची प्रबंधन की योजना होनी चाहिए.

वस्तुसुचि प्रबंधन से ऐसे बचाएं नकदी प्रवाह

नकदी प्रवाह (cash flow) और वस्तुसुचि प्रबंधन (Inventory Management) के बीच बहुत गहरा संबंध है. ये सरल तकनीक आपको पैसे बचाने में मदद करेंगी.

नुकासन- खाद्य, फार्मास्यूटिकल और कॉस्मेटिक उद्योगों में आने वाले उत्पाद एक सीमीत अवधि (expiry date) के साथ आते हैं. अच्छा सूची प्रबंधन यह सुनिश्चित करता है कि आप इन उत्पादों अच्छी खराब होने से पहले किस तरह बेचते हैं.

 व्यर्थ सामान-  वस्त्र, इलेक्ट्रॉनिक्स और फर्नीचर बिजनेस ट्रेंड से बाहर होने वाली समस्या का सामना करते हैं. इन सारी चीजों को ट्रेंड के अनुसार ही बेचा जाता है. नतीजा यह होता है कि ट्रेंड से बाहर होने के बाद सामान का एक बड़ा सा स्टॉक बन जाता है. इस पर काबू पाने के लिए आपको एक उचित सूची की आवश्यकता है.

See also  महिलाओं कारोबारियों के लिए बिजनेस लोन: सही या गलत

 भंडारण- हर व्यवसाय को कुछ (inventory) सूची स्टोर करने की आवश्यकता है. एक उचित inventory management आपका कैशफ्लो कम करने में भी सुधार ला सकता है.

वस्तुसुचि प्रबंधन तकनीकी-  ये तकनीक आपके नकदी प्रवाह  को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में मदद करेगी.   

Source: Learning with Larry

इन-आउट प्रकिया – किसी भी बिजनेस को यह इन्वेंट्री प्रबंधन तकनीक जरूर आपनानी चाहिए. यह योजना अपनाने से आपको डेड स्टॉक और स्टोरेज जैसी समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है.

 इमरजेंसी के लिए तैयार रहें- किसी भी इमरजेंसी के लिए पहले से ही तैयार रहें. कोई भी स्टॉक जितनी जल्दी मारकेट में आता है, शायद ही उतनी जल्दी खत्म भी हो पाता है. ऐसे में स्टॉक का एक बड़ा सा जमाव हो जाता है. जिससे आपका सामान सुचि स्तरभी बिगड़ जाता है. इसलिए ऐसे में आपको अचानक होने वाला खर्च की योजना पहले से ही बनाकर रखनी चाहिए.

अपने स्टॉक का नियमित रूप से परिक्षण- स्टॉक का नियमित रूप से परिक्षण आपके इन्वेंट्री (सुचि) को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है.

 मारकेट ट्रेंड्स के बारे में समझ लें- अगर आपको मारकेट ट्रेंड्स के बारे में पता है तो ही आप इसे समझ पाएंगे. इसके लिए आपको अपनी इन्वेंट्री स्थिति और बाजार की मांग और पूर्ति के बारे में अच्छे से समझना होगा. अगर आप बाजार की मांग का अच्छी तरह अनुमान लगाने में सक्षम होते हैं तो ही आप अपने इन्वेंट्री को मैनेज कर पाएंगे.

See also  बिजनेस लोन: प्री-ईएमआई क्या होती है? – emi kya hota hai

निष्कर्ष- इन्वेंट्री प्रबंधन  हर व्यवसाय के लिए महत्वपूर्ण है. इन तकनीकों को अपनाकर आप अपने बिजनेस में लाभ कमा सकते हैं.

Related Posts

MSME Full FormMSME RegistrationCGTMSE
MSME LoanVAT RegistrationUdyog Aadhaar
GST RegistrationStand Up India SchemeCGTMSE Fee
Shop LoanWhat is CGSTDownload GST Certificate
PM SVAnidhi SchemeCancelled ChequeUPI Full Form
Business Loan EligibilityGST Full FormE-Way Bill Unblocking
CIN NumberGST LoginUAN Number