इनकम टैक्स (ITR फाइल )हमेशा निर्धारित तिथि के अंदर भर देना चाहिए। अगर इसके बाद टैक्स फाइल होता है तो जुर्माना के साथ ही आयकर विभाग की नोटिस का समाना करना होता है। इस साल यानी 2018-19 में पहले आयकर भरने की सबसे पहले अंतिम तिथि 31 जुलाई थी। बाद में अंतिम तिथि को बढ़ाते हुए इसे 31 अगस्त कर दिया गया। लेकिन अब जो कारोबारी या वेतनभोगी 31 अगस्त तक भी इनकम टैक्स रिटर्न फाइल नहीं करते उन्हें पेनल्टी के साथ ही नोटिस का भी सामना करना पड़ेगा। ऐसे में समय रहते आयकर जमा करना बेहतर विकल्प साबित होगा।

ITR फाइल करने से संबंधित मुख्य जानकारी

  • वित्त वर्ष 2018-19 में आयकर भरने की अंतिम तिथि 31 अगस्त 2019 है।
  • 31 अगस्त तक आयकर न जमा करने वालों को जुर्माना देना होगा।
  • जुर्माने की रकम 1 हजार से लेकर 10 हजार के बीच हो सकती है।
  • इनकम टैक्स रिटर्न 60 दिनों के अंदर प्राप्त हो जायेगा।

31 अगस्त और 30 सितंबर दो हैं अंतिम तिथि

हमारे देश में इनकम टैक्स कई तरह के होते हैं। इन टैक्स को जमा करने की तिथि भी अलग- अलग होती है। इस बार भी बढ़ी हुई अंतिम तिथि दो हैं। एक 31 अगस्त है और दूसरी 30 सितंबर। आइए जानते है कि किनके लिए अंतिम डेट 31 अगस्त है और किनके लिए 30 सितंबर।

ITR 2019: इनके लिए है 31 अगस्त अंतिम डेट

आयकर रिटर्न फाइल करने के लिए व्यक्तिगत, हिंदू अविभाजित परिवारों (HUF) और जिन लोगों के खातों की ऑडिटिंग की जरूरत नहीं है, इन्हें 31 अगस्त 2019 तक रिटर्न फाइल करना है।

इनकम टैक्स रिटर्न 2019: फर्जी रसीद देने से हो सकती है मुसीबत, बरते ये सावधानियां

ITR 2019: इनके लिए 30 सितंबर है अंतिम डेट

कंपनियां,संस्थान, फर्म का वर्किंग पार्टनर, इंडिविजुअल या अन्य एंटिटी जिनके अकाउंट्स की ऑडिटिंग अनिवार्य है, उनके लिए आईटीआर फाइल करने की अंतिम तिथि 30 सितंबर है। वहीं ऐसे असेसीज जिन्हें सेक्शन 92ई के तहत रिपोर्ट देनी होती है, उनके लिए अंतिम तिथि 30 नवंबर है। सेक्शन 92ई के तहत वो टैक्सपेयर्स आते हैं जिन्होंने दूसरे देश में बिजनेस या लेनदेन किया हो।

अंतिम तिथि के बाद ITR फाइल करना कितना और कब देना होगा जुर्माना

इनकम टैक्स फाइलिंग की डेटजुर्माने की राशि
31 अगस्त से पहलेएक भी रुपये नही
31 अगस्त से लेकर 31 दिसंबर 2019 से पहलेपांच हजार रुपये
1 जनवरी से लेकर 31 मार्च, 2020 तक10 हजार रुपये

वार्षिक 5 लाख रुपये तक की कुल इनकम वाले छोटे टैक्सपेयर्स से अधिक-से-अधिक 1 हजार रुपये ही वसूल किये जा सकते हैं। यानी, ऐसे टैक्सपेयर्स 31 अगस्त, 2019 के बाद और 31 मार्च, 2020 के तक जब भी ITR फाइल करेंगे, उन्हें जुर्माने के तौर पर सिर्फ 1 हजार रुपये ही देने होंगे।

 

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट अब नहीं भेजेगा ‘धमकी भरा’ नोटिस! नियम में हुआ ये बदलाव

 

5 मिनट में इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के बारे में जानने के लिए क्लिक करें- कैसे करें इनकम टैक्स रिटर्न E– Filing? जानिए

आपको यह लेख पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। बिजनेस से जुड़ी कोई भी नई अपडेट या जानकारी पाने के लिए हमसे फेसबुकट्विटर और लिंक्डन पर भी जुड़े।