बिजनेस लोन के लिए कैसे अप्लाई करते हैं? जानिए तरीका – How To Apply For A Small Business Loan?

बिजनेस लोन के लिए कैसे अप्लाई करते हैं? जानिए तरीका

पिछले कुछ समय से वैश्विक आर्थिक मंदी छाई हुई है। आर्थिक मंदी की वजह से कारोबार पर सीधा असर हुआ है। भारत के संदर्भ देखे तो आर्थिक मंदी की वजह से ऑटो इंडस्ट्री, टेक्सटाइल इंडस्ट्री के साथ ही खुदरा मार्केट पर इसका बहुत नकारात्मक प्रभाव पड़ा है।

वित्तीय संकट की वजह से वैश्विक अर्थव्यवस्था अभी भी स्वस्थ विकास दर के लिए कठिनाई का सामना कर रही है। भारत की जीडीपी में ग्रोथ होने में अभी भी वक्त लगने की बात कही जा रही है।

मतलब देश की जीडीपी में सुधार होने में अभी समय लगने वाला है। हाल ही में, मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने भारत की जीडीपी में 6.2 प्रतिशत की कमी का अनुमान लगाया गया है।

रिपोर्ट में इस बात को भी बताया गया है कि सुस्त अर्थव्यवस्था होने के चलते भारत में पर्याप्त निवेश (इन्वेस्ट) होने की गति कम है, जिसके वजह से बड़ी कंपनियों को बुस्ट नही मिल पा रहा है।

बड़ी मैनुफैक्चरिंग कंपनियों जैसे – महिंद्रा, टाटा और पर्लेजी इत्यादि जैसी कंपनियों से लोगों को या तो नौकरी से निकाला जा रहा है या तो उनको कुछ दिनों के लिए बिना सैलरी छुट्टी दे दी गई है।

इनसब के बीच अगर कोई इंडस्ट्री अपनी सतत रफ़्तार से चल रही है तो वह है – सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग यानी एमएसएमई सेक्टर (MSME)।

आपकों बता दें कि अभी तक ऐसी कोई खबर नही आई है जिसमे यह बताया गया हो कि कोई लघु मध्यम कारोबार बंद हो गया हो या वहां से लोगों की नौकरी से निकाला गया हो।

जबकि सूक्ष्म लघु और मध्यम यानी एमएसएमई सेक्टर के कारोबार भारत की जीडीपी में अहम योगदान देते हैं और बड़ी संख्या में रोजगार भी प्रदान करते हैं। क्या आपको पता है कि भारत में कुल उपलब्ध रोजगार में 106 मिलियन रोजगार एमएसएमई क्षेत्र से प्राप्त होते हैं। इस तरह देखा जाये तो भारत में विकास और रोजागर में एमएसएमई सेक्टर का महत्वपूर्ण योगदान है।

एमएसएमई क्या है? What is MSMEs?

सूक्ष्म, लघु और मध्यम श्रेणी के कारोबार को एमएसएमई कहते हैं। 7 अप्रैल, 2018 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट कमेटी की बैठक में एमएसएमई के लिए नई परिभाषा निर्धारित की गई। नई परिभाषा के अनुसार एमएसएमई सेक्टर निम्न हैं:

मैनुफैक्चरिंग सेक्टर का एमएसएमई

सूक्ष्म उद्योग – Micro Business:- जिन मैनुफैक्चरिंग उद्योग का सालना टर्न ओवर सालाना 5 करोड़ से कम है वह सभी सूक्ष्म उद्योग/कुटीर उद्योग- Micro Business के अंतर्गत आते हैं।

लघु उद्योग – Small Business: जिन मैनुफैक्चरिंग उद्योग में सालाना टर्न ओवर 5 करोड़ से 75 करोड़ के बीच होता है उसे लघु उद्योग- Small Business कहा जाता है।

मध्यम उद्योग – Medium Size Business जिन कारोबार में सालाना टर्न ओवर 75 करोड़ से 250 करोड़ के बीच होता है उन्हें मध्यम उद्योग- Medium Size Business कहा जाता है।

सर्विस सेक्टर का एमएसएमई

सूक्ष्म उद्योग  Micro Business: जिन सर्विस बिजनेस का सालना टर्न ओवर सालाना 5 करोड़ से कम है वह सभी सूक्ष्म उद्योग/कुटीर उद्योग- Micro Business के अंतर्गत आते हैं।

सूक्ष्म उद्योग – Small Business: जिन सर्विस उद्योग में सालाना टर्न ओवर 5 करोड़ से 75 करोड़ के बीच होता है उसे लघु उद्योग- Small Business कहा जाता है।

मध्यम उद्योग – Medium Size Business: जिन कारोबार में सालाना टर्न ओवर 75 करोड़ से 250 करोड़ के बीच होता है उन्हें मध्यम उद्योग – Medium Size Business कहा जाता है।

See also  बिजनेस लोन एप्लीकेशन भरते समय इन नियमों का रखें ध्यान

सरकार द्वारा तय की गई परिभाषा के अलावा हम दैनिक बोलचाल की भाषा में बात करें तो उन सभी कारोबार को एमएसएमई सेक्टर का कहा जाता है जो कम स्केल पर होता है। ग्रामीण इलाकों में स्थित होते हैं तथा जिन्सें घरेलू उपयोग की चीजों को मैनुफैक्चर किया जाता है या सर्विस प्रोवाइड किया जाता है।

खास बात यह कि सरकार द्वारा एमएसएमई के कारोबार का देश में योगदान को देखते हुए बिजनेस लोन की व्यवस्था की गई है। सरकार द्वारा MSME के लिए मुद्रा योजना और उद्योग आधार – आधार उद्योग लोन योजना की व्यवस्था की गई है।

लघु उद्योग के लिए लोन – Loan for MSMEs

देश के विकास में लघु उद्योगों का योगदान देखते हुए कई लोन योजना चलाई जा रही है। इसके साथ ही नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी – एनबीएफसी कंपनियों द्वारा बिजनेस लोन प्रदान किया जाता है। देश की प्रमुख एनबीएफसी कंपनी ZipLoan द्वारा एमएसएमई कारोबारियों को बिना कुछ गिरवी रखे 1 से 5 लाख तक बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जाता है।

एमएसएमई के लिए कितने प्रकार का बिजनेस लोन उपलब्ध है?

लघु कारोबारियों की जरूरत के अनुसार कई प्रकार का बिजनेस लोन उपलब्ध है:

  • टर्म लोन
  • वर्किंग कैपिटल लोन
  • कैपिटल गेन

लघु उद्योग के लिए लोन के लिए अप्लाई कैसे करते हैं

अभी बिजनेस लोन पाए
अक्सर अब भी कुछ लोगों को लगता है कि लोन प्राप्त करना बहुत मुश्किल कार्य है। जबकि अब बिजनेस के लिए लोन प्राप्त करना जरा भी मुश्किल कार्य नही है। टेक्नोलॉजी के इस दौर में लोन का सभी प्रोसेस ऑनलाइन हो चुका है।

अब वे दिन लद गयें जब लोगों को लोन के लिए बैंकों का चक्कर लगाना पड़ता था। तमाम कागजी दस्तावेज इक्कठा करना पड़ता था। अब जिन कारोबारियों को बिजनेस लोन की जरूरत होती है वह सीधे संबंधित कंपनी या बैंक की वेबसाइट पर जाते हैं और अप्लाई कर देते हैं।

See also  कर्ज कैसे चुकाए? अपनाएं ये तरीके

पहले की अपेक्षा अब प्रोसेसिंग चार्ज भी बहुत कम लगता है। बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करने से पहले कारोबारियों को सलाह दी जाती है कि वह अपनी पात्रता से संबंधित चीजों के बारे में तसल्ली से जांच कर लेना चाहिये। जैसे

सिबिल क्रेडिट स्कोर

बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन पाने के लिए बेहतर सिबिल क्रेडिट स्कोर का होना बेहद जरूरी होता है। लोन के लिए अप्लाई करने से पहले कारोबारियों को यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि उनका सिबिल क्रेडिट स्कोर बेहतरीन हो।

क्लिक कर जानिए लोन पाने के लिए कितना चाहिए होता है सिबिल क्रेडिट स्कोर?

बैंक स्टेटमेंट

बिजनेस लोन पाने के लिए कारोबारी के पास चालू बैंक खाता होना अनिवार्य होता है। यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि बचत खाता को बिजनेस लोन के लिए मान्य नही किया जाता है। दूसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि बैंक स्टेटमेंट में सालाना टर्नओवर 5 लाख से अधिक दिखना चाहिए।

ZipLoan से मिलता है सिर्फ 3 दिन में बिजनेस लोन

फिनटेक सेक्टर की प्रमुख एनबीएफसी कंपनी ZipLoan द्वारा 1 से 5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जाता है, ZipLoan से लोन लेने की खास बात यह है कि यहां से लोन लेने के लिए कुछ भी गिरवी नही रखना होता है।

क्लिक कर जानिए ZipLoan से बिजनेस लोन लेने के फायदे 

क्या आपको यह लेख पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। बिजनेस से जुड़ी कोई भी नई अपडेट या जानकारी पाने के लिए हमसे फेसबुकट्वीटर और लिंक्डन पर भी जुड़े।

 

Working Capital Loans: Important Aspects you must know
Previous article वर्किंग कैपिटल लोन: जानिए महत्वपूर्ण जानकारियां – Working Capital Loans: Important Aspects you must know
सिबिल स्कोर ठीक करने के लिए क्या क्रेडिट कार्ड का उपयोग कैसे करें? - How to use a Credit Card to Improve CIBIL Score?
Next article सिबिल स्कोर ठीक करने के लिए क्या क्रेडिट कार्ड का उपयोग कैसे करें? – How to use a Credit Card to Improve CIBIL Score?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close