सरकारी बैंकों की हालत की समीक्षा के लिए मंगलवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली बैठक करेंगे। इस बैठक में बैंकों के प्रमुखों से NPA के निपटारे की समीक्षा और साथ ही पूंजी की जरूरतों पर चर्चा होगी। बताया जा रहा है कि बैठक का उद्देश्य हाल ही में मर्ज हुए तीन बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, विजया बैंक और देना बैंक को ग्लोबल ऋणदाता बनाने का है।

सरकारी बैंकों की बैठक

यह भी पढ़ें:- जाानिए क्यों है आपका सिबिल स्कोर लो और कैसे करें इसमें सुधार

बढ़ सकती है ब्याज दर-

इसके अलावा, वित्त मंत्री क्रेडिट ग्रोथ और बैड लोन की स्थिति पर भी चर्चा करेंगे। न्यूज एजेंसी के अनुसार बैंकों की ओर से वसूली में तेजी लाने के लिए सरकार की ओर से उठाए गए विभिन्न उपायों पर भी चर्चा होगी। इसके साथ ही बैंकों की मौजूदा ब्याज दर को लेकर भी चर्चा होगी। बैंकों को हो रहे नुकसान को देखते हुए ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव भी रखा जा सकता है।

यह भी पढ़ें:- जानिए कैसे सत्यजीत सिंह ने IAS इंटरव्यू में फेल होने के बाद स्थापित किया 50 करोड़ का बिजनेस

सरकारी बैंकों की छवि सुधारने पर होगी चर्चा-

बैठक में सरकारी बैंकों की पूंजी की जरूरतों पर चर्चा होगी। बैठक में बैंकों के मर्जर पर भी चर्चा होने की संभावना है। इसके अलावा सरकारी बैंकों की छवि सुधारने के नए तरीकों, डिजिटल शाखाओं में हुई प्रगति और निजी बैंकों जैसी सुविधा देने के निर्देशों की भी समीक्षा की जाएगी।

See also  MSME लोन चाहिए तो यहां मिलेगा पैसा, जानिए कैसे

क्या कहते हैं आंकड़ें

गौरतलब है कि सरकारी बैंकों का ग्रॉस NPA मार्च 2018 तक करीब 12 फीसदी रहा है। RBI के मुताबिक मार्च 2015 तक NPA 3.23 लाख करोड़ रुपये था। जबकि मार्च 2018 में NPA का आंकड़ा 10.35 लाख करोड़ पहुंच गया। वहीं, बैंकों ने पहली तिमाही में 36551 करोड़ रुपए की कर्ज वसूली की। ये आंकड़ा पिछले साल की तिमाही के मुकाबले 49 फीसदी ज्यादा है। वहीं, पिछले साल बैंकों ने की कुल 74562 करोड़ रुपए की कर्ज वसूली की। साल 2017-18 में बैंकों का कुल घाटा 87357 करोड़ रुपए दर्ज हुआ। सरकारी बैंकों में सबसे ज्यादा घाटा पंजाब नेशनल बैंक को हुआ है। इंडियन और विजया बैंक को छोड़कर बाकी सभी 19 बैंकों को घाटा हुआ है।

यह भी पढ़ें:- जानिए कैसे छोटे कारोबारियों के लिए सिक्योर्ड बिजनेस लोन से बेहतर है अनसिक्योर्ड बिजनेस लोन

आपके लिए उपाय-

बैंकों की ब्याज दरों में होने वाले बदलाव से बचने के लिए आप Ziploan से बिजनेस लोन ले सकते हैं। Ziploan से आप आकर्षक ब्याज दरों पर बिजनेस लोन प्राप्त कर सकते हैं। इसके साथ ही आपको बिजनेस लोन के लिए कोई सिक्योरिटी भी नहीं जमा करनी होती है। इसके साथ ही आप इसे 12 से 24 महीने की आसान EMI में चुका भी सकते हैं।

See also  बिजनेस लोन लेने वाले कारोबारी की मौत हो जाने पर क्या बैंक लोन को माफ़ कर देती है?

Related Posts

MSME Full FormMSME RegistrationCGTMSE
MSME LoanVAT RegistrationUdyog Aadhaar
GST RegistrationStand Up India SchemeCGTMSE Fee
Shop LoanWhat is CGSTDownload GST Certificate
PM SVAnidhi SchemeCancelled ChequeUPI Full Form
Business Loan EligibilityGST Full FormE-Way Bill Unblocking
CIN NumberGST LoginUAN Number