एक प्रसिद्ध डायलाग है – कोई धंधा छोटा या बड़ा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता। ठीक यही किया गौतम अडानी ने। समय पर जो धंधा मिला उसे पूरे मन किया और आगे बढ़ते रहे। जमीन पर पड़ा कोई असफल व्यक्ति कभी नजर नहीं आता, हर कोई उगते सूरज को सलाम करता है। और कहीं वह दोपहर के सूरज की तरह तप रहा हो, सबकी आंखें चौंधिया देता है। ऐसी ही एक कामयाब शख्सियत का नाम है Gautam Adani. आज आपको इस ब्लॉग में मिलवाते हैं वर्तमान में सबसे सफल कारोबारी अडानी के संघर्षों और सफलताओं से।

गौतम अडानी

गौतम अडानी इनका जन्म गुजरात के अहमदबाद में 24 जून 1962 को हुआ था। अगर इनके परिवार की बात कर तो यह छह भाई-बहन थे। बहुत कम लोगो को यह पता होगा कि Adani का परिवार पहले आर्थिक रूप से बहुत कमजोर हुआ करता था। अपेक्षाकृत रूप से गरीब होने के कारण इनका परिवार अहमदाबाद के पोल इलाके के शेठ चॉल रहता था।

business loan

बात सन् 1980 के दशक की है। उस समय अडानी के पास खुद का स्कूटर भी नही हुआ करता था, बल्कि वह अपने बचपन के साथी मलय महादेविया के स्कूटर पर पीछे बैठे लोगों को दिख जाया करते थे। इस दोस्ती की एक खास वजह Adani कमजोर अंग्रेजी भी थी क्योंकि महादेविया की इंग्लिश अच्छी थी। बाद में महादेविया उनके बिजनेस पार्टनर हो गए। वर्तमान में Adani भारत के उन गिने-चुने कामयाब उद्योगपतियों में एक हैं।

परिवार के खर्च पूरा करने के लिए नौकरी किया

हर यूथ के तरह अडानी भी अपनी स्कूली पढ़ाई करने के बाद ग्रेजुएशन की पढ़ाई के गुजरात यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले लिए। ग्रेजुएशन के दिनों में उनके घर के सामने रोजी-रोटी का संकट आ खड़ा हुआ। चिंताजनक स्थितियों में पढ़ाई छूट गई। वह कॉलेज से मुंह मोड़कर पैसा कमाने के चुनौतीपूर्ण सफर पर निकल पड़े। अपना शहर छोड़कर मुंबई चले गए और वहां एक डॉयमंड कंपनी में बड़ी मामूली सी पगार पर नौकरी करने लगे। लेकिन, Adani मुंबई केवल नौकरी करने के लिए नही आये थे। वह आये थे व्यापार करने। उन्होंने कुछ समय बाद नौकरी छोड़ दिया।

See also  टाटा समूह ने कोरोना से निपटने के लिए कितना रकम दान में दिया है? जानिए

बिजनेस करने के लिए नौकरी छोड़ दिया

अडानी ने एक सपना देखा था, वह सपना था – अपने परिवार को गरीबी से निकालने का। यह नौकरी से संभव नही हो सकता था, क्योंकि एक बधी-बधाई सैलरी में परिवार के 8 लोगो का खर्च निकालना मुश्किल हो रहा था। अडानी ने नौकरी छोड़ दिया। फिर शुरु हुआ फर्श से अर्श पर पहुँचने के लिए कड़ी मेहनत का दौर।

महज 20 साल उम्र में कर दिया अपने बिजनेस की शुरुवात

Gautam Adani ने महज 20 साल की उम्र में ही हीरे का ब्रोकरेज आउटफिट खोल लिया। मेहनत करने का जज्बा तो था ही। उन्होंने एक साल जमकर अपने आउटलेट के लिए मेहनत किया।

कहते हैं कि मेहनत कभी बेकार नही जाती, अब अडानी की सफलता की शुरुवात हो चुकी थी। बिजनेस में किस्मत ने भी साथ दिया और अगले ही साल Adani के आउटलेट का टर्नओवर लाखो में में हो गया। अब फिर एक बदलाव की बारी थी। Adani अपने भाई मनसुखलाल के कहने पर अहमदाबाद की एक प्लास्टिक फैक्ट्री में काम करने लगे।

textile loan

अब आगे बढ़ने की बारी थी और पूरी तरह बिजनेस में घुसने की भी। अडानी ने प्लास्टिक कंपनी में जो कुछ भी ट्रेनिंग लिया था उसी के आधार पर शुरू किया पीवीसी पाइप्स के इंपोर्ट करने का सफल बिजनेस। Adani ने 1988 में एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट- कंपनी Adani इंटरप्राइजेज की स्थापना की।

कचरे के बिजनेस से कमाएं लाखों, मिलिए उनसे जिन्होंने कमाया करोड़ो

फिर कभी पीछे मुड़कर नही देखा

कहते हैं, सपना बड़ा देखना चाहिए। और अपने सपने को सफल बनाने के लिए जी-जान लगा देना चाहिए। ठीक यही किया Gautam Adani ने। कल्पना कीजिये एक समय में किसी इंसान को पैसों के दिक्कत के वजह से अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी हो और चलने के लिए दोस्त के स्कूटर का सहारा लेना पड़ा हो, वह इंसान आज अपनी खुद की प्राइवेट जेट से चलता हो, उसकी पत्नी देश के हजारों गरीब बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा देने के लिए एनजीओ चला रही हो, यह सब बिना कड़ी मेहनत और सफल होने के लिए जी-जान लगाने के बिना संभव नही हो पाता।

See also  कल्पना सरोज Kalpana Saroj: बाल वधू से करोड़पति कारोबारी बनने तक का सफर

वर्तमान में अडानी

आज के समय की बात करें तो गौतम अडानी का कारोबार पूरी दुनिया में कोयला व्यापार, खनन, तेल एवं गैस वितरण, बंदरगाह, मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक, बिजली उत्पादन-प्रसारण क्षेत्रों में फैला हुआ है। इस वक्त अडानी करीबन दस अरब डॉलर की संपत्ति के मालिक है। उनके पास देश की सबसे बड़ी एक्सपोर्ट कंपनी है। यह सभी सफलताएँ Adani को पिछले 30 – 35 सालों के बीच हासिल हुई हैं। ऐसा भी कहा जाता है कि जिस Adani ने मारुति-800 से अपना व्यावसायिक सफर शुरू किया था और आज उनके पास बीएमडब्ल्यू गाड़ियों का झुंड है, फरारी है, तीन हेलिकॉप्टर, तीन बोम्बार्डियर, बीचक्राफ्ट विमान भी हैं।

अडानी की पत्नी का नाम प्रीति है। वह पेशे से दांतों की डॉक्टर हैं और Adani फाउंडेशन की मुख्य कर्ताधर्ता भी है। इनके दो पुत्र हैं, पुत्रों के नाम करण और जीत है।

एक सबसे सफल बिजनेसमैन के इस सफर में गौतम Adani को यह सफलता कोई आसानी से हासिल नहीं हुई है। बल्कि, इस सफलता के पीछे अडानी का त्याग, समपर्ण और काम के प्रति ईमानदारी का अहम योगदान है।

business loan on whatsapp

गौतम अडानी के बिजनेस लिस्ट

  • समूह कोयला व्यापार
  • कोयला खनन
  • तेल एवं गैस खोज
  • बंदरगाह
  • मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक
  • बिजली उत्पादन एवं पारेषण और गैस वितरण

गौतम अडानी के उद्योग का मुख्यालय कहां पर स्थित है?

गौतम अडानी के उद्योग का मुख्यालय मुम्बई में स्थित है।

गौतम अडानी फिर से चर्चा में क्यों हैं?

हाल ही में भारत के सबसे अधिक अमीरों की एक लिस्ट जारी की गई है, जिसमें गौतम अडाणी को भारत का सबसे अमीर उद्योगपति बताया गया है। चर्चा इसलिए हो रही है क्योंकि इस लिस्ट में पहले मुकेश अंबानी कई वर्षों से काबिज थे।

See also  कचरे के बिजनेस से कमाएं लाखों, मिलिए उनसे जिन्होंने कमाया करोड़ो

अडानी ने कितने एयरपोर्ट खरीदा है?

अडानी समूह ने अब तक कुल 7 एयरपोर्ट खरीदा है। अडानी समूह की सब्सिडियरी AAHL अब देश की सबसे बड़ी एयरपोर्ट कंपनी बन गई है। इसके साथ ही अडाणी समूह नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट का निर्माण शुरू कर दिया है।

अडानी और मोदी का क्या संबंध है?

जो संबंध भारत के प्रधानमंत्री और भारत के नागरिक का होता है, वहीं संबंध अडानी और मोदी का है। अडानी उद्योगपति हैं तो मोदी राजनेता। दोनों देश को विकसित बनाने का कार्य कर रहे हैं।

अडानी और किसान विवाद क्या है?

विवाद पहले था। अब नहीं है। केंद्र सरकार ने तीन कृषि कानून लागू किया था। उन काननों का पूरे भारत भर के किसान विरोध कर रहे थे। व्यापक तौर पर विरोध को देखते हुए सरकार ने तीनों कृषि कानून को वापस ले लिया है। इसी के साथ विवाद भी थम गया है।

अडाणी के बंदरगाह पर पकड़ी गई ड्रग्स में गौतम अडाणी का क्या रोल है?

जिस प्रकार से साईकिल स्टैंड, मोटरसाईकिल स्टैंड या कार स्टैंड होता है, जिसमें तमाम ग्राहक बिल का भुगतान करके अपने वाहन पार्क करते हैं। ठीक उसी प्रकार से गौतम अडाणी समून ने बंदरगाह खरीदा है। उस बंदरगाह पर तमाम जहाज आते हैं। जो निर्धारित फीस का भुगतान के बाद अपने जहाज पार्क करते हैं। उस जहाज में क्या लोड है, इसके बारे में कस्टम अधिकारी जांच करते हैं। इस पूरी प्रक्रिया में पोर्ट के टॉप प्रबंधन-तंत्र का कहीं पर किसी भी प्रकार हस्तक्षेप नहीं होता है। विवाद कारण एक जहाज पर लदा 350 किलो ड्रग्स का केस है। इस केस की जांच चल रही है। नतीजा कुछ समय बाद पता चल जाएगा। जहां तक अडाणी के बंदरगाह पर पकड़ी गई ड्रग्स में गौतम अडाणी के रोल का सवाल है तो यह सवाल बेबुनियाद है।

working capital loan

Related Posts

MSME Full FormMSME RegistrationCGTMSE
MSME LoanVAT RegistrationUdyog Aadhaar
GST RegistrationStand Up India SchemeCGTMSE Fee
Shop LoanWhat is CGSTDownload GST Certificate
PM SVAnidhi SchemeCancelled ChequeUPI Full Form
Business Loan EligibilityGST Full FormE-Way Bill Unblocking
CIN NumberGST LoginUAN Number