फ्लेक्सी लोन तब लिया जाता है, जब कोई पैसों की अचानक आवश्यकता हो जाती है। मतलब जब पैसों की इमरजेंसी के तौर जरूरत होती है तो, जिस बैंक में खाता होता है, उसी बैंक से फ्लेक्सी लोन प्राप्त किया जा सकता है। जबकि, टर्म लोन फ्लेक्सी लोन के बिल्कुल अलग है। टर्म लोन एक समान्य तरह का लोन है।

टर्म लोन की खास बात यह है कि टर्म लोन बैंकों के आलावा नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) से भी मिलता है। टर्म लोन के तौर पर पर्सनल लोन, बिजनेस लोन, व्हीकल लोन, होम लोन इत्यादि दिया जाता है।

आपको जानकारी के लिए बता दें कि नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) ZipLoan द्वारा एमएसएमई कारोबारियों को 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रखे, सिर्फ 3 दिन* में प्रदान किया जाता है। आइये फ्लेक्सी लोन और टर्म लोन के बारें में विस्तार से समझते हैं।

फ्लेक्सी लोन क्या होता है?

यह न्यू एरा का फाइनेंशियल प्रोडक्ट है। फ्लेक्सी लोन को कस्टमर्स की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए डिजाइन किया गया है। इसे हम मोबाइल टॉप – अप रिचार्ज की तरह भी देख सकते हैं, जब किसी मोबाइल कस्टमर के वर्तमान रिचार्ज का बैलेंस समाप्त हो जाता है, तो वह कुछ पैसों का टॉप-अप करवा लेता है और बकाया वैधता का इस्तेमाल करता है।

इसे भी जानिए: नवॉइस फाइनेंसिंग क्या होता है? 

फ्लेक्सी लोन सिर्फ पर्सनल लोन के तौर पर मिलता है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि फ्लेक्सी लोन प्री अप्रूव्ड होता है। मतलब पहले से ही मंजूर किया गया लोग होता है। इसलिए इस लोन की डिसबर्सल प्रक्रिया बहुत तेज होती है। इस लोन को प्रपात करने के लिए लिए कस्टमर को कोई अतिरिक्त कागजात इत्यादि नहीं देना होता है, क्योंकि खाता खुलवाते समय ही सभी कागजात जम किये गये होते हैं।

फ्लेक्सी लोन की खासियत

ओवरड्राफ्ट की सुविधा प्राप्त होना 

फ्लेक्सी लोन के तौर बैंक से ग्राहक को एक क्रेडिट लिमिट दी जाती है। इस क्रेडिट लिमिट का इस्तेमाल ग्राहक इमरजेंसी में पड़ी पैसों की जरूरत के वक्त कर सकता है। मतलब जब ग्राहक को पैसों की तत्काल में जरूरत हो तो वह अपने क्रेडिट लिमिट के तहत धन निकाल सकता है। ग्राहक द्वारा निकाला गया धन ही फ्लेक्सी लोन के तौर पर जुड़ जाता है। मतलब ग्राहक को अलग से लोन के लिए आवेदन नहीं करना पड़ता है।

प्री पेमेंट चार्जेस की झंझट से छुटकारा

फ्लेक्सी लोन प्री पेमेंट चार्जेस फ्री होता है। मतलब ग्राहक जब चाहे तब फ्लेक्सी लोन के तौर पर ली गई रकम का भुगतान एक साथ कर सकता है। इसके लिए ग्राहक को किसी प्रकार का कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं देना होता है।

सिर्फ निकाली गई रकम पर ब्याज

फ्लेक्सी लोन की सबसे बेहतरीन सुविधा यह है कि ग्राहक क्रेडिट लिमिट में से धन निकालना है या उपयोग करता है, ग्राहक को सिर्फ उसी धन पर ब्याज देना होता है। उदाहरण के तौर देखिये: माना नरेंद्र की क्रेडिट लिमिट 7 लाख रुपये है। नरेंद्र ने अपनी आवश्यकतानुसार केवल 2 लाख रूपये ही खर्च किया। अब नरेंद्र को सिर्फ 2 लाख रुपये पर ही ब्याज चुकाना होगा। 5 लाख रुपये पर नहीं।

इसे भी जानिए: कैश क्रेडिट और ओवरड्राफ्ट क्या होता है? 

छोटे एवं मध्यम कारोबार को बढ़ाने के लिए लोन की जरूरत होती है। कारोबारी बिजनेस के लिए लोन लेते ही रहते है। कभी- कभी ऐसा हो जाता है की एक से अधिक लोन लेना पड़ जाता है तो इसके वजह से एक साथ कई EMI आ जाती है। कई EMI एक साथ भरना जरा मुश्किल हो जाता है। ऐसे में फ्लेक्सी लोन मिल जाए तो कारोबारियों को लोन की EMI चुकाने में काफी आसानी हो जाती है।

अगर आप भी फ्लेक्सी लोन लेना चाहते है तो आपके लिए ZipLoan बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है। कारोबारियों को ZipLoan द्वारा 1 से 7.5 लाख तक का फ्लेक्सी लोन सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जा रहा है।

अभी बिजनेस लोन पाए