क्या आप जानते हैं कि कोई 3 अंकों की संख्या से यह डिसाइड हो जाता है कि आपको लोन मिलेगा या नही। जी हां सिर्फ 3 अंकों की संख्या से सरकारी बैंक और नॉन बैंकिग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) द्वारा यह डिसाइड हो जाता है कि लोन दिया जायेगा या नही दिया जायेगा। यह 3 अंकों की संख्या होती है – सिबिल स्कोर जिसे क्रेडिट स्कोर के नाम से जाना जाता है।

दरअसल बैंक और लोन देने वाली कंपनियों के सामने ग्राहक की फाइनेंशियल कंडीशन जांचने का कोई सोर्स नही होता है, लेकिन लोन देने का कार्य करना होता है। इस परिस्थित में बैंक और लोन कम्पनियां ग्राहकों की फाइनेंशियल साख जांचने के लिए उनका सिबिल रिकार्ड मांगते हैं और उसी के आधार पर लोन देने का निर्णय किया जाता है।

सिबिल स्कोर क्या होता है?

आपको बता दें कि सिबिल क्रेडिट स्कोर 3 अंकों की होती है। यह 300 से शुरु होती है और 900 तक इसकी अंतिम सीमा होती है। अब सवाल उठाना स्वाभाविक है कि कितने सिबिल क्रेडिट स्कोर को बेहतर माना जाता है? इस सवाल का जवाब है – 700 से अधिक सिबिल क्रेडिट स्कोर को बेहतरीन माना जाता है। 700 से अधिक क्रेडिट स्कोर होने पर लोन मिलने में कठिनाई नही होती है।

जानकारी: सिबिल स्कोर के बारे में

700 से अधिक क्रेडिट स्कोर होने पर लोन पर मार्केट रेट से कम ब्याज दर का भी ऑफर मिलता है। वहीं 500 से 700 के बीच क्रेडिट स्कोर होने पर लोन मिलने की संभावना तो होती है लेकिन ब्याज दर यानी इंटरेस्ट रेट अपेक्षाकृत अधिक होने की संभवना होती है। आपको बता दें कि 500 से कम सिबिल क्रेडिट स्कोर होने पर लोन मिलने की संभवना बेहद कम हो जाती है।

क्रेडिट सिबिल स्कोर का महत्व

इसे हम अपने आसपास के माहौल के हिसाब से समझते हैं। जैसे किसी को कोई दोस्त होता है या पड़ोसी होता है। एक दोस्त या पड़ोसी दूसरे को तबतक पैसा उधार नही देता है जबतक उसको दूसरे के बारे पूरी तरह मालूम न चल जाता है।

वह यह भी जानना चाहता है कि जिसको वह उधार देने वाला है उसकी फाइनेंशियल कंडीशन क्या है? उसको पहले जब किसी ने उधार दिया था तो वह उस रकम को वापस कैसे किया? इत्यादि बातों को जानने के बाद और पूरी तरह निश्चित होने के बाद ही वह दूसरे दोस्त या पड़ोसी को पैसा उधार देता है।

फाइनेंशियल कंडीशन से जुडी सभी जानकारियां जानने का मकसद यह होता है कि उसके द्वारा दिया गया पैसा कहीं डूब तो नही जायेगा न। इसको ग्राहक की साख जांचना कहते हैं। ठीक इसी तरह लोन देने वाली कम्पनियां भी करती है। आइये सिबिल क्रेडिट स्कोर के महत्व के बारें में समझते हैं।

  • ग्राहक के वित्तीय स्थिति का आकलन होना: ग्राहक की वित्तीय स्थिति का आकलन लोन देने वाले संस्थाओं के लिए बेहद महत्वपूर्ण होता है। जब आप बिजनेस लोन, कार लोन, पर्सनल लोन या एजुकेशन लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो सबसे पहले आपके वित्तीय इतिहास यानी फाइनेंशियल हिस्ट्री की जाँच की जाती है। इससे पहले आपनेलोन कब लिया था? जो लोन लिया था उसको कैसे चुकाया इत्यादि। ये सब जानकारियां सिबिल क्रेडिट स्कोर के माध्यम से बहुत आसानी से पता चल जाती हैं।
  • लोन चुकाने की क्षमता का आकलन होना: जब किसी व्यक्ति की सिबिल रिपोर्ट जेनरेट होती है तो उस रिपोर्ट पर उसके द्वारा लिए गये पिछले लोन का विवरण दर्ज होता है। जैसे इनकम कितनी है? EMI कितनी भरी जाती है? अगर लोन दिया जाये तो कितनी EMI और व्यक्ति भर सकता है इत्यादि। इसी के आधार पर लोन देने का निर्णय किया जाता है।
See also  क्रेडिट स्कोर क्या है और यह क्यों जरूरी होता है? - What Is A Credit Score & Why Is It Important?

अभी बिजनेस लोन पाए

सिबिल स्कोर चेक करें पैन कार्ड के साथ

सिबिल क्रेडिट स्कोर जांच आप अपने पैन कार्ड नंबर से भी कर सकते हैं। बैंकिग सिस्टम जब से ऑनलाइन हुआ है तब से सभी बैंक खाताधारकों के अकाउंट से उनका पैन नंबर जोड़ दिया गया है। ऐसे में सिबिल क्रेडिट स्कोर जांचने के लिए आपको पैन नंबर की जरूरत पड़ती है।

सिबिल स्कोर चेक कैसे करते हैं ? आइये जानते हैं

क्रेडिट स्कोर चेक करने के लिए सबसे पहले आपको Cibil कंपनी की अधिकारिक वेबसाइट पर खुद को रजिस्टर्ड कराना होता है। Cibil वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए आपको अपने बैंक खाता और पैन की जानकारी देकर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। आपको बता दें कि Cibil वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए फीस देना होता है।

Cibil रिपोर्ट पाने के लिए जब भी आप रजिस्ट्रेशन करेंगे तो आपको ऑनलाइन फीस का भुगतान करना होगा। एक महीने के लिए 550 फ़ीस होती है, 6 महीने के लिए 800 रुपये और 12 महीने के लिए 1200 रुपये फीस देना होता है। आपको बता दें कि आपका रजिस्ट्रेशन निशुल्क होता है और पहली रिपोर्ट निशुल्क मिलती है यानी Cibil स्कोर चेक ऑनलाइन फ्री होता है। रजिस्ट्रेशन के लिए एक भी रुपया नही देना होता है।

सिबिल स्कोर चेक कैसे करें? जानने के लिए अपनाएं यह स्टेप

  • सिबिल की आधारिक वेबसाइट ओपन करें
  • मांगी गई सभी जरूरी जानकरी भरें
  • जिस पार्ट में पहचान पत्र भरने की मांग की गई हो वहां पैन कार्ड का ऑप्शन सलेक्ट करें
  • अपना पता, टेलीफोन नंबर और ईमेल पता दर्ज करें
  • इनकम सोर्स सलेक्ट करें
  • अब आप फॉर्म को सबमिट

सबमिट करते ही आपका  Cibil अकाउंट ओपन हो जायेगा और आप अपनी मुफ़्त क्रेडिट रिपोर्ट प्राप्त करेंगे (यह निशुल्क क्रेडिट रिपोर्ट सिमित जानकारी के साथ होती है)

यदि आपने वर्तमान वर्ष के लिए नि: शुल्क Cibil रिपोर्ट का चयन कर लिया है, तो आपको इन चरणों का पालन करने की आवश्यकता है होगी:

  • सिबिल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं
  • अपने सभी आवश्यक विवरण जैसे पैन नंबर, ईमेल पता, जन्म तिथि और लिंग दर्ज करें
  • उस आइटम का चयन करें जिसे आप सबस्क्राइब चाहते हैं (एक महीने के लिए, 6 महीने के लिए या 12 महीने के लिए)
  • अगली स्लाइड पर, आपको आगे की जानकारी जैसे कि पूरा नाम, पता और फोन नंबर भरने को कहा जाएगा। आगे बढ़ने पर लोन और क्रेडिट कार्ड से संबंधित कुछ प्रश्न पूछे जाते हैं। उनका ध्यान से उत्तर देना सुनिश्चित करें
  • अब आपकी CIBIL रिपोर्ट और स्कोर 24 घंटे के भीतर आपकी ईमेल आईडी पर भेज दिया जाएगा
See also  MSME व्यापार का देश की इकनॉमिक ग्रोथ में क्या है योगदान? जानिए

इस ब्लॉग आपने जाना- सिबिल स्कोर क्या होता है, सिबिल स्कोर के बारे में जानकारी, सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए, Cibil स्कोर चेक कैसे होता है, सिबिल स्कोर चेक ऑनलाइन फ्री होता है या नही?

Cibil क्रेडिट स्कोर के बारे में और अधिक जानकारी के लिए नीचें क्लिक करें:

सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए जानने के लिए क्लिक करें – सिबिल स्कोर के बारे में जानकारी – Cibil Score Ke Bare me Jankari

सिबिल स्कोर चेक कैसे होता है? जानने के लिए क्लिक करें – सिबिल स्कोर कैसे चेक करें? – Cibil Score Kaise Check Karte Hain?

सिबिल रिपोर्ट करेक्शन कैसे होता है जानने के लिए क्लिक करें

सिबिल स्कोर कैलकुलेशन कैसे होता है जानने के लिए क्लिक करें – सिबिल स्कोर कैलकुलेशन कैसे होता है? जानिए विस्तार से

सिबिल सत्यापन के बिना व्यक्तिगत ऋण मिलता है या नही जानने के लिए क्लिक करें –

क्रेडिट स्कोर कैसे बढ़ाये जानने के लिए क्लिक करें – सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाये? जानिए तरीका – How to Improve CIBIL Score?

डुप्लीकेट पैन कार्ड सरेंडर करने की प्रक्रिया

पैन (स्थायी खाता संख्या) कार्ड एक अद्वितीय संख्या है जिसमें 10 वर्ण होते हैं जो प्रत्येक कर दाता (टैक्स पेयर्स) को आवंटित किए जाते हैं। एक व्यक्ति अपने पूरे जीवनकाल में केवल एक ही पैन रख सकता है। एक समय ऐसा भी आ सकता है जब आपको अपना पैन कार्ड सरेंडर करना पड़ सकता है। यह दोहरेपन या अन्य कारणों से हो सकता है। यदि आप भी अपना पैन सरेंडर करना चाहते हैं, तो ऐसा करने की विस्तृत प्रक्रिया निम्नलिखित है:

डुप्लीकेट पैन कार्ड सरेंडर करें

यदि आपके पास डुप्लीकेट पैन है, तो आप उनमें से एक को निम्नलिखित दो तरीकों से सरेंडर कर सकते हैं:

  • डुप्लीकेट पैन कार्ड कैसे सरेंडर करें – ऑनलाइन
  • अपना पैन कार्ड ऑनलाइन सरेंडर करने के लिए इन चरणों का पालन करें:
  • एनएसडीएल की वेबसाइट पर जाएं।
  • “आवेदन प्रकार” ड्रॉप-डाउन से, “मौजूदा पैन डेटा में परिवर्तन या सुधार/पैन कार्ड का पुनर्मुद्रण (मौजूदा पैन डेटा में कोई परिवर्तन नहीं)” विकल्प चुनें।
  • फॉर्म को पूरी तरह से भरें और ‘सबमिट’ बटन पर क्लिक करें। फॉर्म जमा करने के बाद, आपका अनुरोध पंजीकृत हो जाएगा और एक टोकन नंबर जेनरेट किया जाएगा और ईमेल पते पर भेजा जाएगा, जिसका आपने आवेदन में उल्लेख किया है।
  • भविष्य के संदर्भ के लिए अपना टोकन नंबर नोट कर लें और इसके नीचे दिए गए “Continue with PAN Application Form” बटन पर क्लिक करके प्रक्रिया जारी रखें।
  • अब आपको एक नए वेबपेज पर निर्देशित किया जाएगा। नए वेबपेज के शीर्ष पर, “ई-साइन के माध्यम से स्कैन की गई छवियां सबमिट करें” विकल्प चुनें।
  • पेज के नीचे बाईं ओर, उस पैन नंबर का उल्लेख करें जिसे आप अपने पास रखना चाहते हैं।
  • इसके बाद, फॉर्म में अपना व्यक्तिगत विवरण, संपर्क और अन्य विवरण भरें।
  • अगले पृष्ठ के नीचे, उन अतिरिक्त पैन का उल्लेख करें जिन्हें आप सरेंडर करना चाहते हैं और फिर ‘अगला’ बटन पर क्लिक करें।
  • अगली स्क्रीन पर, पहचान, निवास और जन्म तिथि का प्रमाण चुनें जिसे आप जमा करना चाहते हैं।
  • अपनी तस्वीर, हस्ताक्षर और आवश्यक दस्तावेजों की स्कैन की गई छवियों को अपलोड करें। यदि कोई व्यक्ति पैन को सरेंडर करने का अनुरोध कर रहा है, तो उन्हें स्वयं पावती रसीद पर हस्ताक्षर करना चाहिए, अन्यथा उन्हें अधिकृत हस्ताक्षरकर्ताओं द्वारा हस्ताक्षरित होना चाहिए। उदाहरण के लिए, एक कंपनी के मामले में निदेशक और एक साझेदारी फर्म/एलएलपी के मामले में भागीदार।
  • अपना विवरण जमा करने के बाद, आपको अपने आवेदन पत्र का पूर्वावलोकन मिलेगा। अपने विवरण सत्यापित करें और जहां आवश्यक हो वहां आवश्यक संपादन करें या भुगतान करने के लिए आगे बढ़ें।
  • डिमांड ड्राफ्ट, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से आवश्यक भुगतान करें।
  • भुगतान सफल होने के बाद आपको एक डाउनलोड करने योग्य पावती दिखाई देगी। भविष्य के संदर्भ के लिए और भुगतान के प्रमाण के रूप में पावती को सहेजें और प्रिंट करें।
  • पावती की एक मुद्रित प्रति NSDL e-Gov को फिक्स दो तस्वीरों के साथ भेजें।
  • पावती भेजने से पहले, लिफाफे को ‘पैन रद्दीकरण के लिए आवेदन’ और पावती संख्या के साथ लेबल करें।
  • डिमांड ड्राफ्ट (यदि आवश्यक हो) और आवश्यक दस्तावेजों (मौजूदा पैन का प्रमाण (यदि कोई हो), प्रमाण (पहचान, पता और जन्म तिथि) के साथ हस्ताक्षरित पावती निम्नलिखित पते पर भेजें:
See also  बिजनेस लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर होना चाहिए? जानिए

एनएसडीएल ई-गवर्नेंस ‘इनकम टैक्स पैन सर्विसेज यूनिट’ में,

एनएसडीएल ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड,

5वीं मंजिल, मंत्री स्टर्लिंग,

प्लॉट नंबर 341, सर्वे नंबर 997/8,

मॉडल कॉलोनी, दीप बंगला चौक के पास,

पुणे – 411016।

डुप्लीकेट पैन कार्ड ऑफलाइन कैसे सरेंडर करें?

अपना पैन कार्ड ऑफ़लाइन सरेंडर करने के लिए, इन चरणों का पालन करें:

  • “नए पैन कार्ड के लिए अनुरोध या/और पैन डेटा में परिवर्तन या सुधार” फॉर्म भरें। फॉर्म डाउनलोड करने के लिए इस लिंक का अनुसरण करें: https://www.tin-nsdl.com/downloads/pan/download/PAN-CR-Form_NSDL%20e-Gov_01.06.16.pdf
  • आवश्यक दस्तावेजों की प्रतियों के साथ निकटतम एनएसडीएल संग्रह केंद्र में पैन फॉर्म जमा करें।
  • फॉर्म जमा करने के बाद, आपको एक पावती पर्ची मिलेगी, जिसे एनएसडीएल कार्यालय को भेजा जाना है। यह पत्र अनुरोध दायर करने के 15 दिनों के भीतर कार्यालय में पहुंच जाना चाहिए।
  • डुप्लीकेट पैन विवरण को सूचीबद्ध करने और उसे रद्द करने का अनुरोध करने वाले निर्धारण अधिकारी के पास एक पत्र भी दर्ज करें। निर्धारण अधिकारी यह कहते हुए एक हलफनामा मांग सकता है कि व्यक्ति के पास उपयोग में आने वाले पैन कार्ड के अलावा कोई अन्य पैन कार्ड नहीं है।

आप अपने अधिकार क्षेत्र के निकटतम आयकर निर्धारण अधिकारी से भी मिल सकते हैं और उन्हें एक पत्र प्रस्तुत कर सकते हैं जिसमें डुप्लिकेट पैन विवरण बताते हुए उसे रद्द करने का अनुरोध किया जा सकता है। फिर, पत्र को निकटतम कर कार्यालय को पोस्ट या सौंप दें और पावती संख्या को सहेजें।

Related Posts

MSME Full FormMSME RegistrationCGTMSE
MSME LoanVAT RegistrationUdyog Aadhaar
GST RegistrationStand Up India SchemeCGTMSE Fee
Shop LoanWhat is CGSTDownload GST Certificate
PM SVAnidhi SchemeCancelled ChequeUPI Full Form
Business Loan EligibilityGST Full FormE-Way Bill Unblocking
CIN NumberGST LoginUAN Number