क्रेडिट स्कोर और सिबिल स्कोर के बीच फर्क को समझने के लिए आपको पहले यह जानना जरुरी है कि क्रेडिट स्कोर और सिबिल स्कोर होता क्या है? आईए पहले यह समझ लेते हैं कि क्रेडिट स्कोर और सिबिल स्कोर क्या होता है।

क्रेडिट स्कोर क्या होता है? – What is a credit score in Hindi?

एक लाइन में कहें तो तो क्रेडिट स्कोर लोनमिलने और लोन नहीं मिलने के बीच की रेखा होती है। क्रेडिट स्कोर से ही तय होता है की लोन मिलेगा या लोन नही मिलेगा। इसे हम इस तरह भी कह सकते हैं कि आपका सिबिल स्कोर के ऊपर ही आपके लोन की मजूरी निर्भर होती है।

क्रेडिट स्कोर 3 अंकों एक संख्या होती है जो 300 से 900 के बीच होती है। इन 300 और 900 के बीच ही यह तय होता है की लोन मिलेगा या नही मिलेगा। सिबिल स्कोर को क्रेडिट रिपोर्ट भी कहा जाता है।

क्रेडिट स्कोर जेनरेट करने का कार्य सिबिल नामक कंपनी – एजेंसी करती है। सिबिल एजेंसी का पूरा नाम ट्रांसयूनियन सिबिल लिमिटेड (पहले: क्रेडिट इन्फॉर्मेशन ब्यूरो (इंडिया) लिमिटेड) है।

जानिएः स्मॉल स्केल इंडस्ट्रीज़ लोन कैसे मिलता है?

सिबिल एजेंसी के कार्यों में शामिल होता है कि वह सभी बैंकों और फाइनेंशियल कंपनी के ग्राहकों के की क्रेडिट हिस्ट्री जाँच करें। सिबिल एजेंसी यह कार्य बैंकों और लोन देने वाली फाइनेंशियल कंपनियों के आग्रह पर करती है।

जब कोई व्यक्ति किसी बैंक या किसी फाइनेंशियल कंपनी से लोन के लिए एप्लीकेशन अप्लाई करता है तो वह बैंक या फाइनेंशियल कंपनी द्वारा सबसे पहले उस व्यक्ति का क्रेडिट स्कोर की जाँच किया जाता है।

बैंकों और फाइनेंशियल कमंनियों के अतिरिक्त ग्राहक खुद से भी क्रेडिट स्कोर चेक कर सकते हैं। सिबिल कंपनी की वेबसाइट पर यह सुविधा दी गई है। आपको बता दें कि पर्सनल रुप से सिबिल चेक करने के लिए कुछ सुविधाएँ सिबिल कंपनी द्वारा निशुल्क दी जाती हैं।

सिबिल स्कोर की नियमित जाँच करने के लिए सिबिल कंपनी को फीस देना होता है, फीस देकर ग्राहक जब चाहें तब अपना क्रेडिट स्कोर चेक कर सकते हैं। इससे ग्राहकों को अपना क्रेडिट स्कोर स्कोर ठीक रखने में मदद मिलती है।

इस तरह देखें तो क्रेडिट स्कोर लोन चाहने वाले लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। आपको बता दें कि सिबिल स्कोर आपके द्वारा पिछले लोन चुकाने के तौर तरीके पर तय किया जाता है।

सिबिल क्या है ? What is a cibil?

सिबिल एक साख मापक कंपनी है। सिबिल का पूरा नाम क्रेडिट इनफॉर्मेंशन ब्यूरौ ऑफ इंडिया है। Full form of cibil in hindi – Credit Information Bureau of India Limited. इस कंपनी को ट्रांसयूनियन सिबिल लिमिटेड भी कहा जाता है।

ट्रांसयूनियन सिबिल लिमिटेड भारत की पहली क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनी है। जिसे सामान्य रूप से क्रेडिट ब्यूरो भी कहा जाता है। सिबिल कंपनी द्वारा व्यक्तियों और गैर-व्यक्तियों (कमर्शियल कंपनी/उद्योग) के बिजनेस लोन और क्रेडिट कार्डस से संबंधित भुगतानों के रेकार्डस्‌ को जुटाया जाता है रखा जाता है।

इसे भी जानिएः बिज़नेस लोन आसानी से कैसे प्राप्त करें?

ये रिकार्डस्‌ बैंको और अन्य लेंडर्स द्वारा मासिक आधार पर सिबिल कंपनी के पास जमा किए जाते हैं। इस जानकारी का उपयोग करके क्रेडिट इन्फोर्मेशन रिपोर्ट (सीआईआर) तथा क्रेडिट स्कोर विकसित किया जाता है, जिनकी बदौलत लेंडर्स लोन आवेदनों का मूल्यांकन और स्वीकृत करते हैं।

क्रेडिट ब्यूरो को आरबीआई द्वारा अनुज्ञप्त किया जाता है और क्रेडिट इन्फोर्मेशन कंपनीज़ (रेगुलेशन) एक्ट ऑफ 2005 द्वारा अधिशासित किया गया है।

क्रेडिट स्‍कोर और सिबिल के बीच क्‍या फर्क है?

सिबिल और क्रेडिट में सबसे बड़ा फर्क यह है कि सिबिल एक कंपनी है और क्रेडिट स्कोर उस कंपनी का एक प्रोडक्ट है। क्रेडिट स्कोर के बदौलत लोन मिलना निर्धारित होता है। जबकि सिबिल कंपनी सिर्फ क्रेडिट स्कोर जेनरेट करने का काम करती है।

अभी बिजनेस लोन पाए

क्रेडिट स्कोर 3 अंकों की एक संख्या होती है। जबकि सिबिल एक संस्था का नाम है। इसके अलावा क्रेडिट स्कोर और सिबिल के बीच कोई अंतर नहीं है। क्योंकि दोनों अलग – अलग हैं। सिबिल जहां एक कंपनी है तो क्रेडिट स्कोर उस कंपनी का सिर्फ एक प्रोडक्ट है।

क्या सिबिल स्कोर और क्रेडिट स्कोर में कोई फर्क है?

बहुत से लोग सिबिल स्कोर और क्रेडिट स्कोर के बीच कंनफ्यूज हो जाते हैं। क्या आप भी इन दोनों के बीच असमंजस में पड़े है? अगर ऐसा हुआ है तो आज आपका कंनफ्यूजन दूर हो जाएगा।

सिबिल स्कोर में किसी ग्राहक का क्रेडिट हिस्ट्री का विस्तार से लेखा – जोखा दर्ज होता। इसमें व्यक्तिगत यानी पर्सनल जानकारियां, संपर्क यानी कॉन्टैक्ट नम्बर्स, प्रोफेशन यानी रोजगार की जानकारी, लोन की रकम, क्रेडिट का पूरा ब्योरा इत्यादि जैसी जानकारियां शामिल होती हैं।

इसे भा जानिएः कार्यशील पूंजी लोन और बिज़नेस टर्म लोन के बीच क्या अंतर है?

क्रेडिट स्कोर में भी ठीक यही जानकारियां दी गयी होती हैं। इस तरह आप देखते हैं कि सिबिल स्कोर और क्रेडिट स्कोर में किसी प्रकार का कोई अंतर नहीं है। इस तरह आप अब से यह कंफर्म रखिएगा कि सिबिल स्कोर और क्रेडिट स्कोर दोनों एक ही हैं। इनमें किसी प्राकार को कोई अंतर नहीं है।

बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करें