अगर आप कारोबारी हैं और आपका बिजनेस कोरोना वायरस के कारण धीमा पड़ गया है या माल डंप होने से बिजनेस का दैनिक खर्च निकालना मुश्किल हो रहा है तो आप बिजनेस लोन लेकर अपना कारोबार जारी रख सकते हैं।

आज की तारीख पूरी दुनिया एक शब्द से डर रही है। यह शब्द है – “कोरोना वायरस”। जी हां, वर्तमान में कोरोना वायरस एक महामारी का रुप ले चुका है।

कोरोना के कारण लोग एक – दूसरे से दूर हो रहे हैं। इलेक्ट्रानिक्स प्रोडक्ट खरीदने से पीछे हट रहे हैं। सार्वजनिक वाहनों में यात्रा करने से परहेज कर रहे हैं। इसी के साथ कई मायनों में बिजनेस भी प्रभावित हो रहा है। आइये समझते हैं कि कोरोना आखिर क्या है और इसका बिजनेस पर क्या प्रभाव पड़ा है?

कोरोना क्या है?

कोरोना एक वायरस का नाम है। कोरोना को Coronavirus disease – COVID-19 नाम दिया गया है। यह वायरस चीन के वुहान शहर में सबसे पहले लोगों को प्रभावित किया। अब धीरे – धीरे यह वायरस  170 देशों में फ़ैल गया है। (सोर्स- WHO))

coronavirus

2019 nCoV virion का चित्र द्वारा प्रदर्शन

कोरोना वायरस से अभी तक दुनिया भर में 1,98,348 लोग प्रभावित हैं। कोरोना से मरने वालों की संख्या 7,900 से अधिक हो चुकी है। यह संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। कोरोना वायरस से प्रभावित 67,000 लोग अभी तक ठीक हो चुके हैं।  विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) द्वारा कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया है।

भारत के संदर्भ में बात करें तो, अभी तक कोरोना से प्रभावित 322 से अधिक लोग सामने आये हैं। इसमें 39 विदेश नागरिक भी शामिल हैं। कोरोना से अबतक 23 लोग अब तक ठीक हो चुके हैं (सोर्स दैनिक जागरण)।

मुंबई में सबसे अधिक कोरोना प्रभावित लोगों की संख्या पाई गई है। मुंबई में अभी तक 64 ऐसे लोगों की पहचान की गई है, जिनमे कोरोना का लक्षण पाया गया है। केरल में 49 ऐसे लोग पहचाने गये हैं, जिनमे कोरोना का लक्षण पाया गया ह।

भारत में अभी तक कुल 4 मौते कोरोना वायरस से दर्ज की गई हैं। भारत में कोरोना से हुई मौतों में एक बेंगलुरु, एक पंजाब,  एक नोएडा और एक दिल्ली में हुई महिला की मौत शामिल है। (कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या का सोर्स – दैनिक जागरण, बीबीसी हिन्दी, NDTV और स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर प्रदर्शित आंकड़ों का आधार)

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट आंकड़ों के अनुसार देश में कोरोना के मामले इस प्रकार हैं:

राज्यकोरोना पॉजिटिव मामले कोरोना पॉजिटिव (विदेशी नागरिक) कोरोना से ठीक हुए लोगकोरोना से हुई मौत
दिल्ली26151
हरियाणा 171400
केरल 49700
राजस्थान 23230
तेलंगना 211110
उत्तर प्रदेश24390
लद्दाख 13000
जम्मू कश्मीर 4000
पंजाब 13001
कर्नाटक 20011
तमिलनाडु6010
महाराष्ट्र64301
आंध्र प्रदेश 3000
उत्तराखंड 3000
उड़ीसा 2000
बंगाल 3000
पांडिचेरी 1000
चंडीगढ़ 5000
छत्तीसगढ़ 1000
गुजरात 14000
हिमाचल प्रदेश 2000
मध्य प्रदेश 4000
बिहार 2001
कुल मामले 31541205

कोरोना से प्रभावित हुए लोगों का आंकडें स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट पर प्रदर्शित आकंड़ो पर आधारित है।

कोरोना फैलता कैसे है?

COVID-19 एक ऐसा वायरस है जो संक्रमित व्यक्ति को छूने से फैलता है। कोरोना प्रभावित व्यक्ति के संपर्क में आने से फैलता है। कोरोना प्रभवित व्यक्ति से हाथ मिलाने पर फैलता है। कोरोना वायरस से संक्रमित कोई व्यक्ति खांसता या छींकता है तो उसके आसपास के लोगों में भी कोरोना फैलता है।

अगर आप किसी ऐसी जगह को छूते हैं, जहां कोरोना संक्रमित व्यक्ति पहले छु लिया है तो उसके बाद उसी हाथ से अपनी आंख, नाक या मुंह को छूते हैं तो ये कोरोना के कण आपके शरीर में पहुंचते हैं।

कोरोना से बचाव कैसे हो सकता है?

ऐसा कहा जा रहा है की, अभी तक कोरोना वायरस की कोई दवा नहीं बन पाई है। मतलब अभी तक ऐसा कोई स्थाई उपाय सामने नहीं आया है, जिससे कोरोना को समाप्त किया जा सके।

ऐसे कोरोना से बचाव करना ही एक एकमात्र उपाय है। COVID-19 वायरस से बचाव करना बहुत ही आसान है। कोरोना से बचने के लिए कुछ इस तरह के उपाय करना होता है:

  • अपना हाथ बार – बार साबून या डीटाल से धोते रहना है।
  • किसी से हाथ नहीं मिलाना है।
  • लोगों से कम से कम एक मीटर दूरी बनाकर रहना है।
  • हैण्ड सेनिटाईजर का प्रयोग करना है।
  • पब्लिक प्लेस पर जाने से बचना चाहिए।
  • बहुत ही जरूरी हो, तो ही यात्रा करना चाहिए।
  • साफ़ – सफाई का विशेष ध्यान रखे।

कोरोना से कैसे बचे

कोरोना का प्रभाव

विश्व के कई देशों में कोरोना को महामारी घोषित कर दिया गया है। आस्ट्रेलिया, ब्रिटेन जैसे देशों की सीमाएं सील कर दी गई हैं। भारत के संदर्भ में देखें तो कई राज्यों में स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है

कंपनियों के कर्मचारियों को घर से काम करने का विकल्प दे दिया गया है। सरकारी कार्यालयों में अभी इस बात पर विचार किया जा रहा है की, कर्मचारियों को छुट्टी दे दिया जाए।

आपको जानकारी के लिए बता दें कि कोरोना वायरस से भारत में बिजनेस बहुत अधिक प्रभावित हुआ है। लोगों ने घरों से निकलना बंद कर दिया दिया है, जिसके चलते कई मार्केट में मंदी छाने का बादल मंडरा रहा है। आइये समझते हैं कि किन बिजनेस पर कोरोना वायरस का असर हुआ है।

इलेक्ट्रानिक्स मार्केट

कोरोना वायरस से इलेक्ट्रानिक मार्केट को गहरा घक्का लगा है। चूंकि इलेक्ट्रानिक का अधिकतर प्रोडक्ट चीन से बनकर आता है। चीन में कोरोना महामारी विकराल रुप धारण किया है। ऐसे में लोग अब इलेक्ट्रानिक का प्रोडक्ट खरीदने से पीछे हटने लगे हैं।

लोगों के दिमाग में यह बात घर कर गई है कि इलेक्ट्रानिक का माल चीन से बनकर आया है, तो इसे छूने से कोरोना संक्रमण होने का खतरा बढ़ेगा।

गांधी विहार, दिल्ली में इलेक्रनिक्स सामान बेचने वाले मनोहर बताते हैं कि, उन्होंने पिछले दिनों 5 लाख तक माल मंगा लिया। अब लोग न तो मार्केट में आ रहे हैं और न ही प्रोडक्ट बिकने रहा है।

ट्रेवेल सेक्टर

भारत में अब कई पर्यटन वाली जगहों को बंद कर दिया गया है। ऐसे में ट्रेवेल एजेंसी चलाने वालों की कमर टूट रही हैं, क्योंकि भारी संख्या में पहले से बुक टिकट कैंसिल हो रहा है।

ट्रेवेल रएजेंसी चलाने वाले नगीना कहते हैं कि “कोरोना के चलते अब तो बिजनेस का दैनिक खर्चा निकालना भी मुश्किल लग रहा है। ऐसे कहीं बिजनेस बंद न करना पड़े, यह बड़ी चुनौती है”।

एयरलाइन्स पर पड़ा है जबरदस्त प्रभाव

इटली, आस्ट्रेलिया जैसे कई देशों में लाकडाउन हो गया है। इस देशों में नागरिकों को बाहर निकलने की मनाही है। कोरोना के प्रभाव को देखते हुए 6 मार्च 2020 को 585 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को रद्द कर दिया गया।

भारत सरकार द्वारा सतर्कता बरतते हुए 12 मार्च 2020 से अगले एक महीने के लिए सभी वीजा निलंबित कर दिया है। कई इंटरनेशनल फ्लाईट को रद्द कर दिया है। वही बहुत से लोग अब फ्लाईट में यात्रा करने से हिचकिचाते हुए अपना पहले से बुक टिकट कैंसिल करा रहे हैं।

ऐसी संभवना जताई जा रही है कि आने वाले दिनों में और अधिक टिकट कैंसिल होंगे। ऐसे में तमाम एयरलाइन्स को घाटा उठाना पड़ेगा।

दवा कंपनियाँ

ये केवल फार्मा कंपनियों की आमदनी का मामला नहीं है। किसी भी बुरे प्रभाव की एक मानवीय क़ीमत भी होती है। मेडिकल स्टोर में दवाओं की कमी हो रही है। तमाम बड़े शहरों में केमिस्ट, सैनिटाइज़र और मास्क के ऑर्डर तो दे रहे हैं लेकिन उन्हें एक हफ़्ते से माल की डिलिवरी नहीं मिल पा रही है।

अब जब बहुत से भारतीय अपने यहां दवाएं, सैनिटाइज़र और मास्क जमा कर रहे हैं, तो ये सामान अधिकतम खुदरा मूल्य से भी अधिक दाम पर बिक रहे हैं।

कपड़ा उद्योग पर कोरोना का पड़ा है प्रभाव

चीन के साथ काम करने वाले कारोबारियों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि  हमारे देश में परिधान (कपड़ा) निर्यात का लगभग 30% ऑर्डर यूरोप से आते हैं।

अब जब कोरोना वायरस महामारी घोषित हो गई है और यूरोपीय देशों से माल माल और माल सप्लाई करना बंद कर दिया गया  है।

इसके आलावा भारत में सार्वजनिक जगह जैसे शॉपिंग माल इत्यादि बंद करने का आदेश हो गया है, तो इसका सीधा असर परिधान (कपड़ा) उद्योग पर पड़ा है।

कारोबारी को क्या करना चाहिए

सरकार की तरफ से अभी जो भी संवाद किया जा रहा है, उसमे यही कहा जा रहा है कि 31 मार्च तक ही बंद किया गया है। यानी सरकार अपनी तरफ से हरसंभव प्रयास कर रही है। हम ऐसी उम्मीद कर रहे हैं की स्थिति जल्दी सामान्य होगी।

ऐसे में अगर किसी कारोबारी ने माल का स्टाक मंगा लिया है, जिसके चलते कारोबारी की पूंजी फंस गई है। या बिजनेस की सभी बुकिंग कैंसिल हो जाने के कारण बिजनेस का दैनिक खर्च मैनेज करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, तो कारोबारी के लिए बिजनेस लोन लेकर बिजनेस को सस्टेन करना सबसे सही तरीका हो सकता है।

बिजनेस लोन के जरिये कारोबारी अपने बिजनेस का दैनिक खर्च मैनेज कर सकते हैं। और जब, स्थिति समान्य हो और माल बिकना शुरु हो जाए तो बिजनेस लोन को किश्तों में वापस कर सकते हैं।

आपको जानकारी के लिए बता दूं कि एनबीएफसी कंपनी ZipLoan द्वारा कारोबारियों को 5 लाख तक का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रखे, न्यूनतम कागजातों पर, सिर्फ 3 दिन* में प्रदान किया जाता है। बिजनेस लोन लेने के लिए अभी अप्लाई करें।

रेफरेंस:

 

अभी बिजनेस लोन पाए