बिजनेस बढ़ाने में बिजनेस लोन का महत्वपूर्ण योगदान होता है। अक्सर ऐसा देखा गया है कि छोटे एवं मध्यम उद्योग (छोटे बिजनेस) करने वालों की ‘पैसा’ सबसे बड़ी समस्या होती है। कारोबारी पैसों के इंतजाम की इंतजाम में हमेशा चिंतित रहते है। व्यवसाय चलाने में कई तरह के खर्चे होते है। व्यवसाय के खर्चों को मेंटेन करने के लिए बिजनेसमैन हमेशा पैसों की तलाश करता है, इस तलाश को बिजनेस लोन पूरा करता है। वैसे तो किसी भी सेक्टर के व्यवसाय के लिए लोन बहुत ही जरूरी होता है लेकिन MSME सेक्टर के लिए यह ऑक्सीजन का कम करता है। आइए समझते है कि कैसे लोन कारोबार के लिए कितना हो सकता है सहायक।

बिजनेस का विस्तार करने में सहायक

कारोबार के विस्तार करने के लिए सबसे पहली शर्त होती है “पैसा”। अगर कोई बिजनेसमैन अपने पुराने कारोबार को बढ़ाना चाहता है तो वह लोन का बहुत बेहतरीन उपयोग कर सकता है। लोन के धन को वह अपने कारोबार के विस्तार में लगने वाले खर्च के रूप में कर सकता है।

नई दुकान/ऑफिस खोलने में सहायक

अगर आपका पहले ही कोई कारोबार/दुकान है, जो अच्छी चल रही हो। अगर आप अपने दुकान की ब्रांच दुसरे जगहों पर भी खोलना चाहते है लेकिन पैसो की कमी हो रही है तो यहां आपकी मदद करेगा ‘बिजनेस लोन’। आप लोन की मदद से अपनी अपनी दुकान शुरू कर सकते है, फिर लोन की रकम वापस कर सकते है। अगर आपका कारोबार 2 साल से पुराना है और सालाना 10 तक का टर्नओवर है आप ZipLoan से बिना कुछ गिरवी रखे 1 से 5 लाख का लोन सिर्फ 3 दिन में प्राप्त कर सकते है।

बिजनेस के खर्चों में सहायक

व्यवसाय चलाने में हर रोज के कुछ खर्चे होते है। बिजनेस मालिक को रोज के खर्चों के लिए पैसे का इंतजाम करना कभी – कभी बहुत मुश्किल हो जाता है। कारोबार के रोजमर्रे के खर्चों को पूरा करने के लिए लोन बहुत उपयोगी हो सकता है। लेकिन यह ध्यान रखने वाली बात है कि इन खर्चों को पूरा करने के लिए लोन की रकम का सहारा जरुर लिया जाए लेकिन साथ ही साथ इन खर्चों के लिए एक निश्चित रकम को रिजर्व भी किया जाए। इससे आप जल्दी से लोन की रकम वापस करने में सक्षम हो सकेंगे और आपके पास एक निश्चित रकम भी बन जाएगी जो आपको आगे के लिए काम करेगी।

इनकम टैक्स से राहत दिलाने में सहायक

बिजनेस के लिए लिए जाने वाले लोन पर सरकार टैक्स में छूट प्रदान करती है। इनकम टैक्स भरने के छूट का फायदा इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करते समय उठाया जा सकता है।

सैलरी देने में सहायक

बहुत से ऐसे कारोबारी होते है जिनका व्यवसाय उधारी पर चलता है, उधारी पर चलने के कारण महीने के अंत में जब कर्मचारियों को सैलरी देने की बारी आती है तो देर होने लगती है। सैलरी देर से मिलने पर कर्मचारियों में असंतोष की भावना जागने लगती है, कभी-कभी तो कर्मचारी काम पर आना भी बंद कर देते है, इससे कारोबार पर असर पड़ने लगता है। कारोबार को बिना किसी समस्या के चलाने के लिए लोन के जरिए कर्मचारियों को सैलरी इत्यादि दी सकती है। जब उधारी का पैसा वापस आ जाए तो उससे लोन चुकाया जा सकता है।

इन्वेंट्री बढ़ाने में सहायक

बिजनेस लोन का सबसे अधिक कारोबारी अपने कारोबार के इन्वेंट्री समानों में करते है। लोन की रकम से नए कंप्यूटर, नए फर्नीचर, नए डेस्क, के साथ ही चाहे तो ग्राहकों की सुविधा के लिए कुछ सामान बढ़ा सकते है।

ऊपर बताई गई जानकारियां बिजनेस लोन के जरिए अपना कारोबार कर रहे लोगों से बात करने के बाद हासिल हुई है। अगर आप भी पैसो की कमी से जूझ रहें है तो लोन के जरिए अपने कारोबार का विस्तार कर सकते है।

यह भी पढ़ें:- बिजनेस लोन के लिए कैसे करें अप्लाई – चरण दर चरण प्रक्रिया

ZipLoan से मिलता है बिजनेस के लिए 3 दिन में बिजनेस लोन

ZipLoan’ फिनटेक क्षेत्र की प्रमुख NBFC यानी नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी है। ‘कंपनी द्वारा सूक्ष्म, लघु उद्योग के लिए लोन दिया जाता है। कारोबार बढ़ाने के लिए बेहद कम शर्तों पर 1 से 5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जाता है।

ZipLoan से बिजनेस लोन पाने की शर्ते बहुत कम हैं 

  • बिजनेस कम से कम 2 साल पुराना हो।
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर कम से कम 5 लाख से अधिक का होना चाहिए।
  • पिछले साल भरी गई ITR डेढ़ लाख रुपये की हो या इससे अधिक की होनी चाहिए।
  • घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर होना चाहिए।

ZipLoan से लोन लेने के कई फायदे है

  • बिजनेस लोन की रकम अप्लाई करने के सिर्फ 3 दिन के भीतर मिल जाती है। (यह सुविधा जरुरी कागजी दस्तावेजों को उपलब्ध रहने पर मिलती है)
  • लोन घर बैठे ऑनलाइन अप्लाई किया जा सकता है।
  • कारोबार लोन की रकम 6 महीने बाद प्री पेमेंट फ्री है।
  • लोन की रकम 12 से लेकर 24 महीने के बीच वापस कर सकते है।

आपको यह लेख पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। बिजनेस से जुड़ी कोई भी नई अपडेट या जानकारी पाने के लिए हमसे फेसबुकट्विटर और लिंक्डन पर भी जुड़े।