राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने 20 जून को संसद के दोनों सदनों को संबोधित किया। संबोधित करते हुए कहा कि भारत इज ऑफ़ डूईंग बिजनेस के क्षेत्र में सबसे तेजी से प्रगति कर है तथा स्टार्टअप दुनिया के सबसे अधिक स्टार्टअप वालें देशों में भी नाम शामिल हो गया है।

बिजनेस को लेकर पहले भारत में बहुत सी कठिनाइयां हुआ करती थीं, कई स्तर पर परमिशन और लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता था। लेकिन नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद बिजनेस के लिए और खासकर स्टार्टअप के लिए तरीके बहुत आसान बनाएं गए। इसीलिए अब अधिक से अधिक संख्या में लोग स्टार्टअप शुरू कर रहें हैं।

अगर आप भी खुद का कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो आपके लिए खुशखबरी है। सरकार ने नए बिजनेस खोलने के लिए नियम बहुत आसान कर दिए हैं। आइए जानते हैं कि बिजनेस शुरू करने के लिए कौन से नियम हुए हैं आसान।

नई सरकार ने नियम किया आसान

नरेन्द्र मोदी 2.0 सरकार ने न्य बिजनेस शुरू करने के नियमों को काफी आसान बना दिया है। स्टार्टअप को सहायता देने के लिए पहले से ही कई तरह की योजनाओं को चलाया जा रहा हैं। हालांकि अब सरकार ने नियम और भी आसान कर दिया है। अब परमिशन और अप्रूवल लेने की प्रक्रिया बहुत कम हो गई हैं।

अपने बिजनेस प्रोडक्ट को ऑनलाइन कैसे बेचे?

नियम में क्या हुआ बदलाव

पहले जहां किसी भी बिजनेस को शुरू करने के लिए कई तरह की जानकरियां देनी पड़ती थी, वहीँ अब केवल अपनी इनकम सोर्स यानी कमाई के जरिए को बताना होता है इसके साथ ही यह भी जानकारी देनी होती हैं की क्या आपने पहले से कोई लोन ले रखा है या नही। एक अन्य जानकरी अपने प्रॉपर्टी के बारे में देनी होती है यानी आपको यह भी बताना होगा कि आपकी कुल कितनी प्रॉपर्टी है।

कुछ नियमों को भी मानना पड़ेगा

कोई भी व्यक्ति अगर कोई नया बिजनेस शुरू करने जा रहा है तो उसे सरकार द्वारा बनाए गए कुछ नियमों का पालन भी करना होगा, जैसे:

  • GST से जुड़े सभी नियमों का पालन करना होगा।
  • सालाना कमाई के मुताबिक ITR यानी इनकम टैक्स रिटर्न भी भरना होगा।
  • ग्राहकों को पक्की बिल यानी सामान खरीदने के बाद पर्ची भी देना जरूरी होगा
  • बिजनेस चलाने के लिए लाइसेंस लेना जरूरी होगा।

यहां बता देना जरूरी हैं कि नई सरकार ने GST दाखिल करने, टैक्स रिटर्न भरने जैसे नियमों को भी बहुत आसान बना दिया है। अब स्टार्टअप कंपनियों को हर महीने नही बल्कि हर तीन महीने पर टैक्स रिटर्न भरना आसान बना दिया गया है। इस तरह देखा जाय तो टैक्स जमा करने और GST भरने में कारोबारियों का जो समय लगता था अब नए नियम के द्वारा बचाने का प्रयास किया है।

प्रधानमंत्री बिजनेस लोन स्कीम के जरिए इस तरह बढ़ाएं अपना बिजनेस

कारोबार के लिए लाइसेंस जरूरी

कारोबारियों को बिजनेस स्टार्ट करने के लिए लाइसेंस लेना जरूरी है। लेकिन इस प्रक्रिया को भी काफी आसान बनाया जा रहा है। उदाहारण के लिए, अगर आप कोई दवा का स्टोर खोलना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले वैट टैक्स रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके बाद दुकान के लिए लाइसेंस लेना भबी अनिवार्य होगा।

सरकार कर रही है सहायता

सरकार यह प्रयास कर रही है कि देश में अधिक से अधिक स्वरोजगार हो, इसके बिजनेस शुरू करने के नियमों में आसान बनाने का कार्य कर रही है। नए बिजनेस के लिए मुद्रा योजना, स्टार्टअप योजना के जरिए हर संभव मदद उपलब्ध कराने के प्रयास में हैं।