किसी भी छोटे बिजनेस के लिए बिजनेस लोन काफी मददगार साबित होते हैं। बिजनेस लोन से कारोबारी अपने कारोबार की जरूरतों को तत्काल पूरा कर सकते हैं। यही कारण है कि कारोबारी को बिजनेस की जरूरतों को पूरा करने के लिए बिजनेस लोन की जरूरत पड़ती है।

आपको जानकारी के लिए बता दें कि देश की प्रमुख एनबीफसी ZipLoan से एमएसएमई कारोबारियों को 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रखे सिर्फ 3 दिन* में मिलता है। आइए इस आर्टिकल में समझते हैं कि किसी कारोबार के लिए बिजनेस लोन कैसे साहायक होता है।

अभी बिजनेस लोन पाए

कारोबार में बिजनेस लोन कैसे होते है फायदेमंद? समझिए

कारोबारियों के लिए बिजनेस लोन लेना हमेशा ही फायदेमंद होता है, क्योंकि यह बिजनेस को बढ़ाने में पैसों संबंधी सारी समस्याओं का समाधान करता है।

बिजनेस लोन की मदद से छोटे कारोबारियों की बिजनेस विस्तार से संबंधित पैसों की जो भी जरूरत होती है, वह आसानी से पूरी हो जाती है। जिसके वजह से छोटे कारोबारी अपने बिजनेस को आसानी से बढ़ा सकते हैं।

बिजनेस लोन के कुछ फायदों निम्न हैं:

  • वर्किंग कैपिटल (कार्यशील पूंजी) में बढ़ोत्तरी
  • बिजनेस के लिए बड़ी जगह किराए पर लेने में मदद
  • बिजनेस में इन्वेंटरी बढ़ाने में सहायक
  • नयी तकनीक वाली मशीने खरीदने या पुरानी मशीने अपग्रेड करने में सहायक
  • कुशल लोगों को नौकरी पर रखने में सहायक
  • कच्चे माल खरीदने में सहायक
  • दुकान की ब्रांच खोलने में सहायक

वर्किंग कैपिटल (कार्यशील पूंजी) में बढ़ोत्तरी

किसी भी बिजनेस को चलाने के लिए निरंतर धन की जरुरत होती है। बिजनेस में जो दैनिक रुप में रकम खर्च होती है, उस रकम को वर्किंग कैपिटल यानी कार्यशील पूंजी कहा जाता है।

कई बिजनेस का वर्किग कैपिटल कब खत्म हो जाता है, यह पता ही नहीं चलता है। कारोबारी को इसकी भनक तब लगती जब बिजनेस का संचालन करने में पैसों की दिक्कत आना शुरु हो जाती है।

इसे भी जानिएः बिजनेस चलाने में वर्किंग कैपिटल लोन का होता है महत्वपूर्ण योगदान! जानिए कैसे

इस समस्या का समाधान बिजनेस लोन के रुप में वर्किग कैपिटल लोन लेकर किया जा सकता है। वर्किंग कैपिटल लोन वर्तमान में आसानी के साथ मिल जाता है।

बिजनेस के लिए बड़ी जगह किराए पर लेने में मदद

कारोबार की विस्तार करने का मतलब होता है कि बिजनेस की जगह बड़ी करना और बिजनेस में प्रोडक्ट की वैरीइटी बढ़ाना। और बिजनेस प्लेस का बड़ा करना।

बिजनेस के लिए बड़ी जगह किराया पर लेने के लिए कुछ सिक्योरिटी मनी देना होता है। और महीना का किराया भी अधिक देना होता है। ऐसे में बिजनेस लोन बहुत कारगर साबित हो सकता है।

बिजनेस की इन्वेंटरी बढ़ाने में सहायक

कारोबार का विस्तार होगा तो जाहिर सी बात है कि बिजनेस के लिए जरुरी इन्वेंटरी (जरुरी उपकरण) की मांग भी होगी। जरुरी उपकरण जैसे- कम्पूटर, मशीन, प्रिंटर, गाड़ी इत्यादि।

इन सभी जरुरतों को पूरा करने के लिए टर्म बिजनेस लोन बहुत ही महत्वपर्ण भूमिका निभाता है। बिजनेस लोन की साहायत से जरुरी उपकरणों की आवश्यकता भी पूरी हो जाती है और कारोबारी के ऊपर बोझ भी नहीं पड़ता है।

नयी तकनीक वाली मशीने खरीदने या पुरानी मशीने अपग्रेड करने में सहायक

वर्तमान दौर टक्नोलॉजी का दौर है। इस दौर में लगभग हर रोज कोई न कोई तकनीकी आ रही है। टेक्नोलॉजी का असर बिजनेस पर भी खूब हो रहा है। उन्नत टेक्नोलॉजी के चलते कम समय में अधिक प्रोडक्शन हो रहा है।

इसे भी जानिएः बिजनेस लोन कैसे काम करता है? जानिए

ऐसे में अगर किसी कारोबारी के पास पुरानी मशीन होगी तो जाहिर सी बात है कि बिजनेस की प्रोडक्शन प्रभावित होगा। जब प्रोडक्शन प्रभावित होगा तो बिजनेस का मुनाफा प्रभावित होगा।

इससे बचने के लिए उन्नत मशीन ले लेना बेहतर होगा या पुरानी मशीन को आपग्रेड करवा लेना। इसके लिए जो धन की जरुरत हो, उसकी भरपाई बिजनेस लोन के जरिए की जा सकती है।

कुशल लोगों को नौकरी पर रखने में सहायक

बिजनेस का विस्तार करने के लिए कुछ ऐसो लोगो को नौकरी पर रखना होता है जो अपने काम कुशल होते हैं। हालांकि कुशल लोग सैलरी की मांग भी अपनी योग्यतानुसार करते हैं। कई बार योग्य लोगो सिर्फ इसलिए नहीं हायर किया जाता है, क्योंकि उनके लिए सैलरी का इंतजाम करना कठिन होता है।

इसे भी जानिएः सर्विस एंटरप्राइज़ के लिए बिज़नेस लोन

लेकिन बिजनेस लोन की साहायता से एक्सपर्ट लोगो को नौकरी पर रखना आसान हो जाता है। बिजनेस लोन की मदद से कर्मचारी की सैलरी का इंतजाम हो सकता है और बिजनेस लोन की रकम EMI के रुप में चुकाया जा सकता है।

कच्चे माल की खरीद करने में सहायक

बिजनेस को आगे बढ़ाने का मतलब होता है कि बिजनेस का प्रोडक्शन अधिक करना। और मल्टीपल प्रोडक्ट बिजनेस पर रखना। एमएसएमई कारोबारियों के लिए इन सभी पर एक साथ रकम खर्च करना थोड़ा मुश्किल लगने लगता है।

ऐसे में काम आता है बिजनेस लोन। बिजनेस लोन की मदद से मल्टपल प्रोडक्ट की खरीद की जा सकती है। अगर बिजनेस मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर का है तो बिजनेस लोन की मदद से कच्चे माल की खरीद की जा सकती है।

दुकान की ब्रांच खोलने में सहायक

अगर किसी कारोबारी की कोई एक दुकान बेहतर चल रही हो और लोग उस दूकान का नाम सुनकर आते हो तो यह सही समय है उसी नाम की दूकान की एक और ब्रांच खोलने का।

दूसरे लोकेशन पर पुरानी दूकान के नाम से एक नई दूकान शुरु किया जा सकता है। इस कार्य में होने वाला खर्च बिजनेस लोन की मदद से वहन किया जा सकता है.

छोटे कारोबारी बिजनेस लोन के लिए होते हैं परेशान

एक स्माल बिजनेस लोन किसी भी बिजनेस को बढ़ाने में बहुत मददगार साबित हो सकता हैं। यही कारण है कि छोटे कारोबारी अपने बिजनेस की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करते हैं।

इसे भी जानिएः क्या पहली बार बिज़नेस लोन लेना मुश्किल होता है?

मगर छोटे कारोबारियों को बिजनेस लोन पाने में काफी मशक्कत करनी पड़ती है। इसलिए बिजनेस लोन लेने से पहले यह जांच पड़ताल कर लेना चाहिए कि आपके जरुरतों के मुताबिक बिजनेस लोन कहां मिल रहा है। इसके बाद ही बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करना चाहिए।

कहां करें बिजनेस लोन के लिए अप्लाई

अब इन फायदों का लाभ उठाने के लिए सबसे बड़ा सवाल उठता है, कि आखिर अपने बिजनेस के लिए बिजनेस लोन के लिए अप्लाई कहां करें? बिजनेस लोन के लिए आप विभिन्न बैंकों में आवेदन कर सकते हैं।

हालांकि बैंको की लोन देने की प्रॉसेस थोड़ी लंबा-चौड़ी और थकाऊ होती है, लेकिन फिर भी काफी अधिक संख्या में लोग अभी भी बिजनेस लोन के लिए बैंकों पर ही निर्भर रहते हैं। बैंक लोन लेने का एक पारंपरिक साधन है। मगर बहुत कम बैंक हैं, जो आपको आसानी से बिजनेस लोन प्रदान कर दे।

इसे भी जानिएः बिज़नेस लोन के लिए कैसे अप्लाई करें

ऐसे में बैंकों की इस थकाऊ प्रॉसेस से बचने के लिए आप NBFC का सहारा ले सकते हैं। ऐसी बहुत सी एनबीएफसी हैं, जो छोटे कारोबारियों को कम कागजी कार्यवाई करके आसानी से एमएसएमई लोन के हर टाइप पर बिजनेस लोन प्रदान करती हैं।

बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करें