अगर आप अपने बिजनेस लोन लेने का सोच रहे हैं तो अपने क्रेडिट स्कोर पर जरूर ध्यान दें। बहुत सी चीजें हमारे क्रेडिट स्कोर पर असर डालती हैं। अगर आप इन्हें ठीक कर लेंगे तो आपका स्कोर सुधरेगा और लोन लेने में आसानी होगी।

आजकल बिजनेस लोन लेना बहुत ही आसान हो गया है। आप कभी भी इमरजेंसी के लिए या फिर टीवी, कार और छुट्टियों के लिए लोन ले सकते हैं। अगर आप बिजनेस लोन लेना चाहते हैं तो आपको अपने क्रेडिट स्कोर की पूरी जानकारी होनी चाहिए। बिजनेस में कई बार ऐसा होता है जब आप अपने दोस्‍तों या परिजनों से मदद लेने के बजाय लोन लेना ज्‍यादा पसंद करते हैं। इसके लिए आपको अपना क्रेडिट स्कोर हमेशा सुधारकर रखना होगा।

यदि आपका क्रेडिट स्कोर अच्‍छा है, तो आप बैंक, एनबीएफसी आदि जैसे बाहरी स्रोतों से कम ब्याज दरों पर आसानी से लोन और कार्ड प्राप्त कर सकते हैं। आपके किसी भी तरह के लोन लेने की प्रक्रिया में आपका क्रेडिट स्कोर बहुत ही अहम है। अगर आपका स्कोर कम है तो आपको आसानी से कोई भी बैंक लोन नहीं देगा। दूसरी तरफ अच्छा स्कोर होने पर आपको ब्याज दर में फायदा मिल सकता है। हम यहां उन छोटे कदमों के बारे में बता रहे हैं, ताकि आप अपने क्रेडिट स्कोर को बेहतर बना सकें और कम ब्याज दरों पर लोन प्राप्त कर सकें:

क्रेडिट स्कोर की जांच करें

आप साल में एक बार मुफ्त भी क्रेडिट स्कोर पा सकते हैं। जब तक आप लोन लेने का फैसला नहीं करते हैं, तब तक क्रेडिट स्कोर के महत्व से अनजान रहते हैं। आप 1200 रुपए देकर पूरे साल अपना क्रेडिट स्कोर जांच सकते हैं। इसके बाद, यदि आपके स्कोर में कोई भी गलती है, तो उसमें सुधार करें। हालांकि, ये वह दस्तावेज हैं, जिसका इस्तेमाल सभी कर्जदाता आपको लोन देने का फैसला करने और इसके लिए ब्याज दरें तय करने के लिए करते हैं।

अपनी क्रेडिट रिपोर्ट पर नजर रखें, इसे नियमित रूप से जांचें और यदि कोई गलती हो तो रिपोर्ट करें। गलतियां आपके स्कोर को बड़े पैमाने पर प्रभावित कर सकती हैं और आपकी असुविधा का कारण बन सकती हैं और लोन लेने की आपकी योग्यता पर असर डाल सकती हैं।

समय पर पेमेंट करें

अपने सारे बिलों का भुगतान समय पर करें। यह न सिर्फ आपके क्रेडिट कार्ड के लिए जरूरी है, बल्कि बिजली के बिल, फोन बिल जैसी यूटीलिटीज और यहां तक कि स्मॉल बिजनेस लोन के मामले में भी जरूरी है। सभी भुगतान रिकॉर्ड किए जाते हैं और जब आप समय पर भुगतान करते हैं, तो आप भावी कर्जदाताओं के लिए एक अच्छे क्रेडिट जोखिम के रूप में सामने आते हैं। अपने बैंक खाते से स्वचालित भुगतान शुरू करें, ताकि आप भुगतान से कभी भी न चूकें। बस, यह सुनिश्चित करें कि भुगतान के समय आपके खाते में हमेशा पर्याप्त धनराशि रहे।

क्रेडिट कार्ड का उपयोग करें 

आपका क्रेडिट बैलेंस कभी भी आपकी क्रेडिट सीमा के 30% से अधिक नहीं होना चाहिए, भले ही आप हर बार अपने बिल का पूरा भुगतान करते हों। क्रेडिट कार्ड कंपनियां आमतौर पर आपका स्टेटमेंट तैयार करते समय आपके बैलेंस के बारे में रिपोर्ट करती हैं, और तब आपका बैलेंस सबसे ऊंचे स्तर पर होना चाहिये। एक ऊंची बकाया राशि आपके क्रेडिट स्कोर को बुरे ढंग से दर्शाती है।

एक अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाए रखने के लिए अपने क्रेडिट कार्ड का उपयोग सीमित रखें। मान लें कि आप अपने क्रेडिट कार्ड का सीमित उपयोग कर रहे हैं, लेकिन तब भी आपका क्रेडिट स्कोर खराब है – तो गहराई में जाकर देखें। क्या आप समय पर बिल जमा कर रहे हैं?  यदि आप कर रहे हैं, तब भी शायद आपका समय पर भुगतान आपके टोटल का केवल 30-40% हो। संभवतः आपके क्रेडिट कार्ड का क्रेडिट सीमा और कर्ज अनुपात (डेट-टु-लिमिट रेशियो) बहुत अधिक है, और यह आपके स्कोर पर बुरा असर डालता है।

क्रेडिट कार्ड पर वसूलते हैं ज्यादा ब्याजबिजनेस लोन

अधिकांश क्रेडिट कार्ड कंपनियां आपसे पूरी बकाया राशि पर ब्याज की ऊंची मासिक दर वसूलती हैं – भले ही आपने 30-40% का भुगतान कर दिया हो! ब्याज की मासिक दर को सालाना में बदलकर देखें और आपको एहसास होगा कि आप क्रेडिट कार्ड बकाया पर 24-36% भुगतान कर रहे हैं। अपने क्रेडिट कार्ड के उपयोग में मितव्ययी होना और पूर्ण बकाया राशि का भुगतान करना बेहतर है।

यदि आपके मौजूदा लोन आपके मासिक कारोबारी बजट पर भारी रहे हैं और आप खुद को समय पर भुगतान करने के लिए जूझता हुआ पाते हैं, तो आप अपने ऋण को शिफ्ट करने के बारे में सोच सकते हैं। नया लोन कम ब्याज दरों पर लिया जा सकता है, या आप एक अलग भुगतान शेड्यूल बना सकते हैं।

नोट-