जिस प्रकार किसी वाहन को चलाने के लिए ईधन के रुप में डीजल या पेट्रोल की जरूरत होती है। ठीक उसी प्रकार किसी भी बिजनेस को बेहतरीन तरीके से चलाने के लिए पर्याप्त धन की आवश्यकता होती है। इसे हम यह भी कह सकते हैं कि धन बिजनेस का पर्याय है। बिना पर्याप्त धन के बिजनेस चलाने में कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

लेकिन सच्चाई यह भी है कि हमारे देश में ऐसे हजारों और लाखों की संख्या में बिजनेसमैन हैं, जो अपना कारोबार तो छोटी पूंजी से शुरु कर दिए हैं, लेकिन समय के साथ उनका बिजनेस बड़ा नहीं हो पाता है। क्योंकि उनके उन कारोबारियों के पास पर्याप्त धन की व्यवस्था नहीं हो पाती है। जिसके वजह से दिक्कतों का सामना करना होता है।

इसे भी जानिए: बिजनेस बढ़ाने के लिए कहाँ से मिलेगा पैसा? जानिए 5 तरीके

ऐसे में समाधान क्या है? समाधान है। इस तरह की समस्या का समाधान है – “बिजनेस लोन” जी हां, बिजनेस लोन एक ऐसा फाइनेंशियल प्रोडक्ट है, जो कारोबार को वित्तीय पोषण प्रदान करता है। उन तमाम कारोबारियों की मददगार साबित होता है, जो कारोबारी अपना बिजनेस बढ़ाना चाहते हैं। इसके साथ ही बिजनेस लोन छोटे कारोबारियों के लिए बहुत सहायक होता है। आइये इस विषय पर विस्तार से समझते हैं।

वर्किंग कैपिटल मैनेज करने में बिजनेस लोन होता है सहायक

किसी भी कारोबार में महीने के खर्च के आलावा हर रोज के भी कुछ खर्च और देनदारी होती है। इस खर्च और देनदारी को पूरा करने वाली रकम को वर्किंग कैपिटल यानी कार्यशील पूंजी कहते हैं। वर्किंग कैपिटल की रकम से ही बिजनेस का दैनिक खर्च मेंटेन होता है।

वर्किंग कैपिटल के रुप में खर्च होता है वह कुछ इस प्रकार है: बिजनेस में कार्यरत दैनिक कर्मचारियों की दैनिक मजदूरी, अगर माल डिलीवर करने वाला कोई वाहन है, तो उस वाहन को चलाने में लगने वाला खर्च, चाय – नाश्ते में होने वाला खर्च और जिस जगह पर बिजनेस है, उस जगह का किराया इत्यादि के साथ कच्चा माल मंगाने के लिए दी जाने वाली एडवांस मनी भी वर्किंग कैपिटल में ही शामिल है।

इसे भी जानिए: वर्किंग कैपिटल की परिभाषा क्या है? जानिए सरल भाषा में 

ऐसे में देखा जाए तो किसी भी कारोबार के लिए वर्किंग कैपिटल यानी कार्यशील पूंजी बहुत महत्वपूर्ण होती है। इस रकम के बिना बिजनेस का संचालन सही ढंग से होना मुश्किल है। तो जिन कारोबारियों को अपने बिजनेस का वर्किंग कैपिटल मैनेज करने में दिक्कत आ रही हो, उन्हें बिजनेस लोन बिना कुछ सोचे लेना चाहिए। बिजनेस लोन की मदद से वर्किंग कैपिटल के रुप में खर्च होने वाली रकम को कवर किया जा सकता है। बिजनेस में जब धीरे – धीरे मुनाफा होने लगे तो बिजनेस लोन की रकम को वापस किया जा सकता है।

नये कर्मचारी काम पर रखने में सहायक

बहुत बार ऐसा होता है कि बिजनेस अच्छे से चल जाता है। जब बिजनेस सही से चल जाता है तो एक साथ कई लोगों की जरूरत पड़ती है। लेकिन कारोबारी के सामने यह समस्या होती है कि उनके पास नये कर्मचारी रखने के लिए फंड नहीं उपलब्ध होता है। लेकिन, काम करने के लिए कर्मचारियों की होती है।

इसे भी जानिए: सफल बिजनेसमैन कैसे बने? जानिए 5 टिप्स

ऐसे में बिजनेस लोन बहुत सहायक साबित हो सकता है। बिजनेस लोन लेकर कारोबारी नये कर्मचारी हायर कर सकते हैं। धीरे – धीरे जब कारोबारी के पास पैसा आने लगे तो बिजनेस लोन के तौर पर ले गई रकम वापस की जा सकती है। इस कारोबारी का काम भी हो जायेगा और कुछ नये लोगों को रोजगार भी प्राप्त हो सकता है यानी एक पंथ दो काज।

नई मशीनरी या उपकरण खरीदने में सहायक

समय के साथ टेक्नोलॉजी बदल रही है। ऐसे में कारोबारी अगर नई टेक्नोलॉजी से बनी मशीनों का उपयोग नहीं करेंगे तो ऐसे में उन्हें मार्केट में पिछड़ने का डर बना रहेगा। लेकिन इसी के साथ सच्चाई यह भी है कि नई टेक्नोलॉजी युक्त मशीने काफी महंगी होती है।

अब कारोबारियों के सामने समस्या यह खड़ी हो जाती है कि वह अपना बिजनेस चलाने में पैसा लगाएं या नई मशीनरी खरीदने में पैसा लगाएं। यह स्थिति बहुत दुविधा वाली हो जाती है। इस दुविधा से निकलने का सबसे बेहतरीन तरीका होता है – बिजनेस लोन।

इसे जानिए: मशीनरी लोन लेने के लिए होने चाहिए ये कागजात

बिजनेस लोन की सहायता से कारोबारी नई टेक्नोलॉजी युक्त मशीने ले सकते हैं। जब नई मशीन से उत्पादन शुरु हो जाये और मुनाफा आना शुरु हो जाये तो बिजनेस लोन के तौर ली गई रकम को हर महीने की EMI के रुप में चुकाया जा सकता है।

ZipLoan से मिलता है सिर्फ 3 दिन* में बिजनेस लोन

नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) ZipLoan देश की प्रमुख वित्तीय कंपनी है। ZipLoan कंपनी का प्रमुख उद्देश्य सूक्ष्य, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई कारोबार) को सरल तरीके से वित्तीय मदद पहुंचना है। इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए एमएसएमई कारोबारियों को ZipLoan से मिलता है 7।5 लाख तक का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रख, 6 महीने बाद प्री पेमेंट चार्जेस फ्री, सिर्फ 3 दिन* में। ZipLoan द्वारा इस बात का ध्यान रखा जाता है कि कारोबारियों को बिजनेस लोन प्राप्त करने में बहुत अधिक दिक्कत न हो और न ही बहुत अधिक कागजी दस्तावेज इक्कठा करना पड़े। इसलिए बेसिक पात्रता पर बहुत कागजी  दस्तावेजों पर बिजनेस लोन उपलब्ध कराया जाता है।

ZipLoan से बिजनेस लोन के लिए पात्रता

  • बिजनेस 2 साल से अधिक पुराना।
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर 10 लाख रुपये से अधिक हो।
  • बिजनेस के लिए फाइल की गई आईटीआर डेढ़ लाख रुपये से अधिक हो।
  • बिजनेस की जगह या घर की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर या पति/पत्नी, माता/पिता, भाई/बहन, पुत्र/पुत्री के नाम पर होना चाहिए।

बिजनेस लोन के लिए निम्न कागजी दस्तावेजों की जरूरत होती है

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • पिछले 9 महीने का बैंक स्टेटमेंट
  • फाइल की गई आईटीआर की कॉपी
  • बिजनेस की जगह या घर की जगह का प्रूफ

अभी बिजनेस लोन पाए