अगर किसी सफल व्यापारी से यह पुछा जाये की आपको पैसों की जरूरत कब पड़ती है? तो उस व्यापारी का उत्तर संभवतः यही होगा कि ‘मुझे हर वक्त पैसों की जरूरत पड़ती है’। किसी भी कारोबारी के लिए पैसों का इंतजाम करना सबसे महत्वपूर्ण काम होता है।

ऐसे में जब कारोबारियों के लिए खुद से पैसों का इंतजाम करना मुश्किल हो जाता है, तब वह बिजनेस लोन का सहारा लेते हैं। बिजनेस लोन ही वह जरिया होता है, जिसके जरिये व्यापारी अपने बिजनेस को आगे बढ़ा सकते हैं, बिजनेस का विस्तार कर सकते हैं।

वहीं अगर कोई व्यक्ति नया बिजनेस शुरु करना चाहता है तो प्राथमिकता बदल जाती है। ऊपर आपने देखा कि एक सफल कारोबारी के लिए बिजनेस लोन की रकम बिजनेस को चलाने के लिए चाहिए होता है। लेकिन, नया बिजनेस शुरु करने के लिए बिजनेस लोन प्राप्त करने के लिए सर्वप्रथम बिजनेस आइडिया का होना अनिवार्य है।

बिजनेस आइडिया कितना भी बेहतरीन क्यों न हो लेकिन, उस बिजनेस आइडिया को इम्प्लीमेंट करने के लिए उपयुक्त धन ही नहीं रहेगा तो बिजनेस कभी शुरु ही नहीं हो सकता है। हम इसे इस तरह से भी समझ सकते हैं कि बिजनेस का विस्तार करने के लिए और बिजनेस शुरु करने के लिए उपयुक्त धन का होना एक अनिवार्य शर्त है।

इसे भी जानिए: एमएसएमई लोन: लोन देने वाले टॉप बैंक और टॉप एनबीएफसी

कई बार ऐसा भी होता है कि बहुत से लोग बिजनेस तो शुरु करना चाहते हैं, लेकिन आवश्यक धन न होने के चलते वह बिजनेस शुरु नहीं कर पाते हैं। कई ऐसे भी कारोबारी होते हैं, जो कम पूंजी में तो बिजनेस शुरु आकर देते हैं, लेकिन एक समय बाद उन्हें बिजनेस का विस्तार करने करने के लिए पैसों की कमी से जूझना पड़ता है।

तो वहीं कुछ ऐसे भी कारोबारी हैं, जिन्हें बिजनेस में वर्किंग कैपिटल की कमी महसूस होती है। ऐसी स्थिति में इस तरह के सभी कारोबारियों का सहारा बनता है – बिजनेस लोन। जी हां। बिजनेस लोन की मदद से कारोबारी बिजनेस आसानी से चला सकते हैं और नया बिजनेस भी स्थापित कर सकते हैं।

बिजनेस लोन कहां से मिलता है?

बहुत से कारोबारियों को लगता है कि बिजनेस लोन प्राप्त करना बहुत मुश्किल भरा कार्य है। लेकिन, आपको जानकरी के लिए बता दें कि जब से बैंकिंग सेक्टर में टेक्नोलॉजी ने दस्तक दिया है, तब से बिजनेस लोन प्राप्त करने की प्रक्रिया बहुत आसान बन गई है।

सैकड़ों नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) और सभी सरकारी – प्राइवेट बैंकों से बिजनेस लोन का ऑफर दिया जाता है। या यूं कह लें कि वित्तीय संस्थाएं इस बात के लिए लालियत रहती हैं कि कारोबारी उनके यहां से कोई बिजनेस लोन सुविधा का लाभ उठाए।

इसे भी जानिए: एमएसएमई लोन क्या होता है और किसे मिलता है?

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या किसी भी बैंक या एनबीएफसी से बिजनेस लोन ले लेना चाहिए? इस सवाल का उत्तर है – बिल्कुल भी नहीं। बिजनेस लोन चूंकि फाइनेंशियल प्रोडक्ट है और इस पर ब्याज लगता है इसलिए बिजनेस लोन उसी वित्तीय संस्था से लेना चाहिए, जिस वित्तीय संस्था की शर्ते ठीक हो।

सबसे बेहतरीन बिजनेस लोन का चुनाव कैसे करें?

बिजनेस लोन लेने से पहले निम्न बिन्दुओं पर विचार करना चाहिए:

ब्याज दर का महत्वपूर्ण भूमिका होती है

बिजनेस लोन फाइनेंशियल प्रोडक्ट है। लोन पर ब्याज लगता है। इसलिए ब्याज दर के बारें इ जानकारी होना अनिवर्य है। बिजनेस लोन की ब्याज इतनी ही होनी चाहिए कि कारोबारी उसे सहजता के साथ चुका सके। इसलिए बिजनेस लोन के अप्लाई करने से पहले ब्याज दर के बारें में जानकारी प्राप्त करना बहुत जरूरी है।

इसे भी जानिए: सिर्फ अपने शहर में बिजनेस का प्रचार कैसे करें ?

कई बार कारोबारी जानकारी के आभाव में ऊँचें ब्याज दर पर लोन ले लेते हैं और जब लोन चुकाने का समय आता है तो कारोबारियों को इसके बारे में जानकारी होती है। इसलिए बिजनेस लोन लेने की प्रक्रिया में सबसे महत्वपूर्ण ब्याज दर के बारे में जानकारी प्राप्त करना होता है। अगर ब्याज दर कारोबारी को ठीक लगे तभी लोन के लिए आगे बढ़ें, अन्यथा किसी और कंपनी या बैंक से लोन लेने के लिए अप्लाई करें।

बिजनेस लोन की समयावधि पर भी होना चाहिए ध्यान

अगर किसी व्यक्ति की सालाना इनकम 10 लाख रुपये और वह 10 लाख का लोन लेता है। जहां से वह व्यक्ति लोन लेता है, वहां से उस व्यक्ति को लोन चुकाने की समयावधि 12 महीने मिलती है। इस स्थिति में वह व्यक्ति 10 लाख रुपये कैसे चुकाएगा? उस व्यक्ति के लिए लोन जी का जंजाल बन जायेगा। इसीलिए बिजनेस लोन लेने से पहले लोन चुकाने की समयावधि का विशेषतौर पर ध्यान रखना चाहिए।

इसे भी जानिए: बिजनेस लोन लेना कितना है आसान और कितना है कठिन? जानिए क्या है सच्चाई

आपको जानकारी के लिए बता दें कि अगर लोन चुकाने की समय सीमा बहुत कम हो या बहुत अधिक होगी तो भी कारोबारी को दिक्कत हो सकती है। इसलिए लोन चुकाने की ऐसी समय सीमा तय करें जिससे लोन की रकम आसानी से चुकाई जा सके।

लोन ऐसा होना चाहिए जिसे समय पूर्व भी जमा किया जा सके

बहुत से कारोबारी लोन देने वाले बैंक/कंपनी की शर्तों के बारे में ध्यान से नहीं पढ़ते हैं। इसलिए इसका खमियाजा उन्हें बाद में चुकाना पड़ता है। अक्सर ऐसा होता है कि कारोबारीयों को तत्काल जरूरत पूरा करने के लिए पैसा होता है।

जब उन्हें लोन मिल जाता है और कुछ समय बाद उन्हें कारोबार में मुनाफा हो जाता है तो कारोबारी चाहते हैं कि वह लोन एक बार में चुका कर बाकी ब्याज से बच जाएं। लेकिन, एक बार में लोन चुकाने के लिए उन्हें प्री पेमेंट चार्ज देना पड़ जाता है।

इसे भी जानिए: बिज़नेस लोन लेने से पहले याद रखें ये आवश्यक बातें

प्री पेमेंट वह चार्ज होता है जो लोन की रकम तय समय से पहले लोन की रकम चुकाने पर चार्ज की जाती है। आप यह जरुर सुनिश्चित कर लें कि आप जहां से लोन लेना चाहतें हैं वहां पर लोन की रकम प्री पेमेंट चार्जेस फ्री हो।

लोन के लिए प्रॉपर्टी गिरवी रखना है या लोन बिना कुछ गिरवी रखे है

लोन दो तरह का मिलता है। प्रॉपर्टी गिरवी रखकर और बिना कुछ गिरवी रखे। प्रॉपर्टी गिरवी रखने के बदले मिलने वाले लोन को सिक्योर्ड लोन कहते हैं। बिना कुछ गिरवी रखे मिलने वाले लोन को अनसियोर्ड लोन कहते हैं। बिना कुछ गिरवी रखे लोन के लिए कोई भी प्रॉपर्टी गिरवी नही रखना होता है। हालांकि लोन देने वाली कंपनी की शर्तों को पूरा करना होता है।

इसे भी जानिए: दिल्ली में बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन पाने का जानिए तरीका

जहां तक बेहतरीन बिजनेस लोन की बात है तो बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन बेहतरीन होता है। इस लोन के लिए अपनी कोई भी प्रॉपर्टी गिरवी नहीं रखना होता है। तो इससे मानसिक संतुलन सही बना रहता है। कोशिश करना चाहिए कि बिजनेस लोन बिना प्रॉपट्री गिरवी रखे ही मिले।

ZipLoan से मिलता है बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन

देश की प्रमुख एनबीएफसी ZipLoan द्वारा एमएसएमई कारोबारियों को 7.5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन* में, बिना कुछ गिरवी रखे मिलता है। ZipLoan से मिलने वाला बिजनेस लोन, 6 महीने बाद प्री पेमेंट चार्जेस फ्री होता है।

अभी बिजनेस लोन पाए