हमारी पौराणिक कथाओं में भारत को एक महान देश बताया गया है। भारत के बारें में कहा गया है कि भारतवर्ष की भूमि पर मानव उपयोग लायक हर चीज उपलब्ध रही है। इसी के साथ यह भी कहा गया है कि भारत विश्व गुरु भी था। इतनी समृधि होने के बावजूद भारत सैकड़ों वर्ष तक गुलामी की जंजीर में क्यों बधा रहा? इसका सबसे बड़ा कारण है कि भारत एक व्यापारिक उद्देश्य से परिपूर्ण देश है। यहां पर व्यापार में सफलता की संभवना बहुत अधिक रहती है। हालांकि व्यापार के साथ एक चीज का विस्तार हुआ है। वह है सूद पर रुपये बाटने का चलन।

इसे भी जानिए: सबसे बेहतरीन बिजनेस लोन का चुनाव कैसे करें?

व्यापारियों को अपना कारोबार चलाने के लिए समय – समय पर धन की आवश्यकता होती है। व्यापार में ऐसा भी होता है कि माल बिक जाता है लेकिन धन का भुगतान अटक जाता है। जब धन अटक जाता है तो कारोबारी को अपने कारोबार का सतत् तरीके से संचालन करने में कठिनाई का सामना करना पड़ जाता है। इस स्थिति से निपटने के लिए कारोबारी को किसी भी हाल में धन चाहिए ही चाहिए होता है। इसी स्थिति का लाभ उठाते हैं- सूदखोर।

सूदखोर कौन होता है?

सूदखोर कोई व्यक्ति या कोई संस्था हो सकती है। सूदखोर का मतलब होता है- पैसे देकर उस पैसे पर मनमाना ब्याज लगाना। मतलब किसी व्यक्ति ने किसी कारोबारी को 10 हजार रुपये सूद पर दिया है। अब पैसे देने वाला व्यक्ति अपने मनमाना तरीके से 10 हजार रुपये पर ब्याज लगा देगा। उस ब्याज की रकम को कारोबारी को चाहते हुए या न चाहते हुए किसी भी स्थिति में चुकाना ही होता है। क्योंकि सूदखोर पैसों के न चुकाए जाने की स्थिति में कोई प्रॉपर्टी जबरदस्ती हड़प कर लेते हैं।

इसे भी पढ़ें: एमएसएमई लोन क्या होता है और किसे मिलता है?

पहले के जमाने में ऐसा बहुत होता था। क्योंकि बिजनेस लोन की उपलब्धता वर्तमान समय के अपेक्षा कम थी या नहीं के बराबर थी। लेकिन अब समय में काफी परिवर्तन आ गया है। पहले की अपेक्षा अब बैंकिंग सिस्टम में काफी सुधार हुआ है। सरकार भी अब कारोबारियों की आर्थिक समस्या को समझती है और बिजनेस लोन की योजना सरकार द्वारा समय – समय पर चलाई जाती है।

भारत में बिजनेस लोन कहाँ मिलता है?

बिजनेस लोन का टर्म भारत में अभी नया – नया आया है। पहले लोग पर्सनल लोन के जरिये ही अपने कारोबार की जरूरतों को पूरा करते थे। जहां तक बिजनेस लोन मिलने की बात है तो भारत भर में बिजनेस लोन बहुत सहजता के साथ उपलब्ध है। लेकिन, ऐसा नहीं है कि बनिया की दुकान पर भी बिजनेस लोन मिल जाता है।

इसे भी पढ़िये: महिला कारोबारियों के लिए बिजनेस लोन योजना

बिजनेस लोन की उपलब्धता सभी सरकारी-प्राइवेट बैंकों के साथ ही नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) है। तो अगर कोई कारोबारी बिजनेस लोन की तलाश में है तो उन्हें किसी बैंक की ब्रांच में या किसी एनबीएफसी कंपनी से संपर्क करना चाहिए। आपको जानकारी के लिए बता दें कि देश की प्रमुख एनबीएफसी ZipLoan द्वारा एमएसएमई कारोबारियों को 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रखे, सिर्फ 3 दिन में प्रदान किया जाता है।

ZipLoan से प्राप्त करिये बिजनेस लोन 

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग यानी एमएसएमई सेक्टर देश के विकास में अहम योगदान देता है। देश के विकास की पहिया को चलाने में छोटे एवं मध्यम कारोबार का बहुत महत्वपूर्ण रोल है। हालांकि छोटे और मध्यम कारोबारियों की अपनी समस्याएं होती हैं। उन्हें समय पर भुगतान नहीं प्राप्त होता है। पेमेंट लटक जाता है। बिजनेस में नई मशीनरी चाहिए होती है। नये कर्मचारी काम पर रखना होता है। इन सभी कार्यों को पूरा करने के लिए आवश्यक धन की जरूरत होती है।

इसे भी जानिए: बिज़नेस लोन लेने से पहले याद रखें ये आवश्यक बातें

कई दफा छोटे और मध्यम कारोबारी के पास आवश्यक धन उपलब्ध नहीं होता है। जिसके कारण उनके बिजनेस का सरवाइव करना मुश्किल हो जाता है। या बिजनेस बढ़ाने में धन की कमी आड़े आने लगती है। ऐसे में कारोबारी हताश होने लगता है। इसी समस्या को दूर करने का विणा उठाया है ZipLoan कंपनी ने। ZipLoan कंपनी की तरफ से छोटे और मध्यम कारोबारियों को सिर्फ 3 दिन* में 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन मुहैया कराया जाता है।

ZipLoan से कहाँ – कहाँ बिजनेस लोन मिलता है?

नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी ZipLoan द्वारा देश के 16 से भी अधिक शहरों में बिजनेस लोन प्रदान किया जाता है। जिन – जिन शहरों में बिजनेस लोन प्रदान किया जाता है, उन शहरों के नाम निम्नलिखित हैं:

  1. दिल्ली
  2. नोएडा
  3. गाजियाबाद
  4. गुरुग्राम
  5. बाराबंकी
  6. बेगलुरु
  7. भोपाल
  8. हरिद्वार
  9. इंदौर
  10. जयपुर
  11. लखनऊ
  12. मुंबई
  13. नवीं मुंबई
  14. ऋषिकेश
  15. रुड़की
  16. सहारनपुर
  17. देहरादून

बिजनेस लोन की पात्रता क्या है?

ZipLoan कंपनी द्वारा इस बात का विशेष तौर पर ध्यान रखा जाता है की बिजनेस लोन के लिए आवेदन करने वाले लगभग सभी कारोबारियों को बिजनेस लोन प्रदान किया जाये। इसीलिए बिजनेस लोन की पात्रता बहुत ही बेसिक रखी गई है। बिजनेस लोन की पात्रता निम्नलिखित है:

  • बिजनेस दो साल से अधिक पुराना होना चाहिए।
  • कारोबार का सालाना टर्नओवर 10 लाख रुपये से अधिक का होना चाहिए।
  • पिछले वित्तीय वर्ष में इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) फाइल होनी चाहिए। फाइल की गई आईटीआर डेढ़ लाख रुपये से अधिक की होना चाहिए।
  • घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद कारोबारी के नाम पर या कारोबारी के किसी ब्लड रिलेटिव के नाम पर होना चाहिए।

बिजनेस लोन लेने के लिए कागजात क्या – क्या देना होगा?

किसी भी कारोबारी के लिए सबसे मुश्किल होता है- कागजातों का बंडल इक्कठा करना। कारोबारी कागजातों का बंडल इक्कठा करेंगे या अपने बिजनेस में अपना समय लगायेंगे, ताकि उनकी आमदनी बढ़ सके। इस बात का ZipLoan द्वारा खास ध्यान रखा जाता है कि कारोबारी को बिजनेस लोन लेने के लिए बहुत अधिक कागजात इक्कठा न करना पड़े। इसीलिए बहुत बेसिक कागजी दस्तावेजों पर ZipLoan द्वारा बिजनेस लोन मुहैया कराया जाता है। निम्नलिखित कागजातों की आवश्यकता होती है:

  • आधार कार्ड।
  • पैन कार्ड।
  • पिछले 9 महीने की बैंक स्टेटमेंट (करेंट बैंक अकाउंट की स्टेटमेंट होना चाहिए)। बैंक स्टेटमेंट में यह उल्लेख होना चाहिए कि कारोबार में सालाना टर्नओवर 10 लाख रुपये से अधिक का होता है।
  • पिछले फाइनेंशियल ईयर में फाइल की गई आईटीआर की कॉपी।
  • घर या बिजनेस ई जगह में से किसी एक मालिकाना हक का प्रूफ। मालिकाना हक का प्रूफ कारोबारी के नाम पर हो या कारोबारी के ब्लड रिलेटिव के नाम पर हो तो भी मान्य किया जाता है

अभी बिजनेस लोन पाए