समय के साथ अब लोगों की मानसिकता में बदलाव देखने को मिल रहा है। आज से 10 – 15 साल पहले लोग नौकरी के पीछे भागते नजर आते थे। हालांकि यह स्थिति अब भी है। लेकिन अभी कुछ बदलाव देखने को मिल रहा है।

अब युवा नौकरी करने के बजाय खुद का बिजनेस करने में अधिक रूचि दिखाने लगे हैं। यह भी तक फैक्ट है कि जिन लोगों ने आज से 20 साल पहले बिजनेस लोन लेकर छोटे बिजनेस शुरु किया था, अब वही बिजनेस बड़ा बन चुका है। लोग बिजनेस में बेहतर मुनाफा कमा रहे हैं।

बिना कोलैटरल बिजनेस लोन्स

बिजनेस के बारे में यह पूरी तरह से सत्य बात है कि बिजनेस शुरु करने के लिए अधिक पूंजी की आवश्यकता होती है। लेकिन जिन लोगों के पास अधिक पूंजी नहीं होती है, उनके लिए भी बिजनेस लोन की व्यवस्था बैंकों और नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों द्वारा की गई है।

इसे भी जानिएः बिजनेस लोन प्रोजेक्ट कैसे बनाए

देश में कारोबार की संख्या बढ़ाने के लिए केन्द्र सरकार स्तर से भी प्रयास किया जा रहा है। केन्द्र सरकार की तरफ से कई ऐसी सरकारी योजना चलाई जा रही हैं, जिसमे लोगों को बिजनेस शुरु करने के लिए बिजनेस लोन बहुत आसानी से मिलता है। जिन सरकारी योजनाओं में बिजनेस लोन मिलता है, उनमें प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना, स्टैंड अप लोन योजना प्रमुख योजना है।

इसे भी जानिए: बिज़नेस लोन पर सब्सिडी  

हालांकि ऐसा नही है कि जिन लोगों के पास अधिक पूंजी न हो, वह अपना बिजनेस न शुरु करें, बल्कि उनको सलाह है कि वह कम पूंजी में ही अपना बिजनेस शुरु कर दें। जब कुछ समय बाद बिजनेस में मुनाफा हो, तो बिजनेस बढ़ाने के बारें में विचार कर सकते हैं। आइये जानते हैं कि बिजनेस कैसे बढ़ाया जा सकता है।

बिजनेस बढ़ाने का उपाय

  • खुद का खर्च कम करें।
  • बिजनेस में वैराइटी रखें।
  • बिजनेस का कम खर्च में प्रचार करें।
  • समय – समय पर ऑफर देते रहें।
  • कुछ चीजों को कॉम्बो पैक में बेचें।
  • दूसरे बिजनेसमैनों को पार्टनर के रुप में जोड़ें।
  • ग्राहकों के साथ दोस्ताना व्यवहार रखें।
  • ऑनलाइन माध्यम का उपयोग करें।
  • बिजनेस का विस्तार: बिजनेस लोन के जरिये।

बिजनेस बढ़ाना: खुद का खर्च कम रखें

एक बहुत पुरानी कहावत है “आमदनी अठ्ठनी और खर्चा रुपैया”। मतलब आमदनी से अधिक खर्च करना। यह कहावत आज भी उतनी ही प्रासंगिक है, जितनी पहले थी। कारोबारियों को मितव्ययी होना चाहिए। मितव्ययी का मतलब कम खर्चीला होता है।

बिजनेसमैन अगर मितव्ययी होगा तो स्वाभाविक है कि सिर्फ अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए ही पैसा खर्च करेगा। ढेर सारी शेखावटी चीजों पर पैसा खर्च नहीं करेगा। इससे पैसों की बचत होगी। जब पैसों की बचत होगी तो उन पैसों को बिजनेस में लगाया जा सकता है।

बिजनेस में अधिक प्रोडक्ट रखा जा सकता है, इससे ग्राहकों का विश्वास कारोबारी पर बनेगा और बिजनेस में बरक्कत होगी। जब बिजनेस में बरक्कत होगी तो बिजनेस अपने – आप बड़ा होता जायेगा।

बिजनेस बढ़ाना: बिजनेस में वैराइटी रखना

वर्तमान समय में अगर किसी व्यक्ति को कोई एक भी प्रोडक्ट खरीदना होता है तो वह कई प्रोडक्ट पहले देखता है, भाव पता करता है फिर जाकर खरीदारी करने का निर्णय करता है। ऐसे में अगर किसी बिजनेस में प्रोडक्ट की एक ही वैराइटी होगी तो ग्राहकों को बहकना संभव है।

इसीलिए बिजनेस को अगर बड़ा करना है तो बिजनेस में प्रोडक्ट की वेराइटी रखना बहुत आवश्यक है। प्रोडक्ट की वैराइटी होगी तो ग्राहक अपने मनमुताबिक प्रोडक्ट का चुनाव कर सकेगा।

इसे भी जानिए: बिजनेस का चयन कैसे करें?

जब अधिक से अधिक ग्राहक प्रोडक्ट की खरीदारी करेंगे तो स्वाभाविक सी बात है कि बिजनेस का मुनाफा बढ़ेगा। और जब बिजनेस में मुनाफा बढ़ेगा तो बिजनेस का विकास तो होगा ही।

बिजनेस का विकास: बिजनेस का कम खर्च में प्रचार करें

कारोबार के बारें में बहुत पुरानी कहावत है कि, “जो दिखता है वही बिकता है”। यह शत प्रतिशत सत्य बात है कि जो दिखता है उसी का दाम मिलता है। तो बिजनेस का प्रचार करना जरूरी ही नहीं बल्कि अनिवार्य भी है।

प्रसिद्ध विज्ञापन विद्वान हेलर तेन ने कहा था। “बिना प्रचार के कारोबार करना एक अँधेरे कमरे में किसी खूबसूरत लड़की को आंख मारने जैसा है। मतलब आप सभी बिजनेस में सभी प्रयास कर लें लेकिन उन प्रयास के बारें में या आपके बिजनेस के बारे में किसी को पता न चले तो क्या बिक्री होगी या बिक्री बढ़ेगी? उत्तर है – नहीं।

ऐसे में प्रचार ही एक तरीका है जिससे अधिक से अधिक लोगों को अपने बिजनेस के बारे में जानकारी दी जा सकती है। लोगों को बताया जा सकता है कि आपना क्या बिजनेस है और लोगों को क्यों आपके बिजनेस पर आना चाहिए।

इसे भी जानिएः बिज़नेस लोन के लिए सिबिल स्कोर कैसे चेक करें?

यहां ध्यान रखने वाली बात यह है कि प्रचार का माध्यम या तरीका बहुत अधिक महंगा न हो बल्कि खुद के बजट के अनुसार होना चाहिए। बिजनेस का विकास करने में प्रचार यानी एडवर्टाइजिंग बेहतरीन साधन साबित हो सकता है। इसका उपयोग करना चाहिए।

बिजनेस का विस्तार: समय – समय पर छूट का ऑफर देना

मार्केट रिसर्च एंड डेवलपमेंट एजेंसी मैकेंजी के रिपोर्ट में कहा गया है कि 90 प्रतिशत भारतीय ऑफर में छूट पर मिल रहे प्रोडक्ट की खरीदारी करना पसंद करते हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि तकरीबन 60 प्रतिशत ऐसे भारतीय हैं जो छूट के नाम पर गैर-जरूरी चीजों की भी खरीददारी कर लेते हैं।

इसे भी जानिए: किस – किस बिजनेस में कम लागत में अधिक मुनाफा होता है?

ऐसे में बिजनेस बढ़ाने के लिए समय – समय पर छूट का ऑफर देना एक बहुत कारगर कदम साबित हो सकता है। इससे ग्राहकों को अपने बिजनेस की तरफ आकर्षित करने में बहुत मदद मिलती है। इसलिए हमारी सलाह है कि बिजनेस बढ़ाने के लिए समय – समय पर छूट का ऑफर देते रहना चाहिए।

बिजनेस बढ़ाने की तरकीब: कुछ चीजों को कॉम्बो पैक में बेचें

अगर किसी को यह सुनाई दें कि, ‘अरे उस दूकान पर एक प्रोडक्ट लेने पर एक प्रोडक्ट का आधा पैसा देना पड़ता है। तो कैसा लगेगा? जाहिर सी बात है कि यह स्कीम किसी को भी एक बार प्रोडक्ट खरीदने के बारे में विचार करने के लिए विवश कर देगी।

ठीक इसी ट्रिक का इस्तेमाल बिजनेस बढ़ाने के लिए किया जा सकता है। अभी तक यह स्कीम बहुत ही अधिक सफल मानी जाती है। बड़े – बड़े शॉपिंग मॉल में यह स्कीम अधिकतर समय चलती रहती है।

इसे भी जानिए: बिजनेस से जुड़ी 10 बातें: व्यापारियों को हमेशा रखना चाहिए याद

इस कॉम्बो पैक स्कीम में बिजनेसमैन का दो तरीके से फायदा होता है। पहले तो उसके यहां अधिक ग्राहक खरीदारी करते हैं इसके साथ ही बिजनेसमैन एक ही बार में दो प्रोडक्ट को बेचने में सफल हो जाता है।

बिजनेस बढ़ाने में कॉम्बो पैक ऑफर बहुत महत्वपूर्ण योगदान निभा सकता है। इस तरह के ऑफर को महीने के एक या दो बार चलाते रहना चाहिए। इससे बिजनेस का राजस्व बढ़ाने के साथ ही ग्राहक बेस बढ़ाने में मदद मिलती है।

बिजनेस का विकास: अन्य बिजनेसमैनों को पार्टनर के रुप में जोड़ें

न तो कोई व्यक्ति कभी पूर्ण होता है और न ही कोई बिजनेस कभी खुद में सबकुछ होता है। ऐसे में एक – दूसरे की मदद से दोनों का विकास करने में बहुत आसानी होती है।

यह जरूरी नहीं है कि ग्राहक द्वारा मांगी जाने वाली हर चीज/प्रोडक्ट बिजनेस पर उपलब्ध ही हो। ऐसे में अगर किसी अन्य बिजनेस से पार्टनरशिप करना फायदेमंद साबित होगा।

इसे भी जानिए: बिजनेस में किन गलतियों को नहीं करना चाहिए?

जब किसी ग्राहक के द्वारा मांगा गया प्रोडक्ट अपने बिजनेस पर न हो तो उसे दूसरी दूकान से प्रोडक्ट लाकर देना बिजनेस की विश्वसनीयता बढ़ाने के साथ ही ग्राहक का विश्वास जीतने में सहायक होता है तो यहां हमारी सलाह है कि अगर कोई बिजनेसमैन अपना बिजनेस बढ़ाना चाहता है तो उसे अन्य दुकानदारों से पार्टनरशिप करना चाहिए। यह कदम बिजनेस बढ़ाने में बहुत सहायक साबित होगा।

बिजनेस का विस्तार करना: ग्राहकों की सेवा मुस्कान के साथ  

ऐसा कहा जाता है कि जबान ही एक ऐसी चीज है तो चाहे तो पान खिला सकती है और चाहे तो सामने रखा खाना भी खाने से मना कर सकती है। कहने का आशय यह है कि व्यक्ति की जवाब बहुत महत्वपूर्ण होती है। इसका इसका इस्तेमाल बहुत सोच-समझकर करना चाहिए।

जहां तक बिजनेस में ग्राहकों से डील करने की बात है तो किसी भी बिजनेसमैन का यह प्रयास होना चाहिए कि उनके तरफ से ग्राहक से बहुत सौम्यता से साथ पेश आया जाये। ग्राहक को यह एहसास होना चाहिए कि बिजनेसमैन द्वारा उससे तमीज से बात हो रही है।

इसे भी जानिए: बिजनेस में सफलता के लिए बिजनेसमैन में होने चाहिए ये गुण और क्षमतायें

जब ग्राहक से सम्मानजन तरीके से बिजनेसमैन पेश आता है, तो यह बिजनेसमैन के लिए अपना बिजनेस में मुनाफा कमाने का मौका होता है। क्योंकि, उस ग्राहक को जब भी कोई प्रोडक्ट खरीदना होगा, तब वह उसी बिजनेसमैन के पास जायेगा जहां पर उसे सम्मान मिलेगा।

बिजनेस का विकास: ऑनलाइन माध्यम का उपयोग करें

वर्तमान समय में हर कोई चाहता है कि उसे घर बैठे प्रोडक्ट की डिलीवरी मिल जाए। ऐसे में अपने बिजनेस लो ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म पर ले जाना समय की मांग के साथ – साथ बिजनेस बढ़ाने का भी एक महत्वपूर्ण जरिया है।

इसे भी पढ़ें: अपने बिजनेस प्रोडक्ट को ऑनलाइन कैसे बेचे?

बिजनेस को ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म पर ले जाने के लिए वर्तमान में बहुत सारे विकल्प उपलब्ध हैं। उपलब्ध विकल्पों में फ्लीप्कार्ट, अमेज़न इत्यादि हैं। इन प्लेटफ़ॉर्म पर अपने बिजनेस को लिस्टेड करके प्रोडक्ट को ऑनलाइन भी बेचा जा सकता है। बिजनेस का विकास करने के लिए यह बहुत शानदार तरीका है।

बिजनेस का विस्तार: बिजनेस लोन के जरिये

अक्सर ऐसा देखने को मिलता है कि कारोबारी अपने बिजनेस का विस्तार तो करना चाहते हैं लेकिन बिजनेस का विस्तार करने के लिए आवश्यक पूंजी न होने के चलते बिजनेस का विकास नहीं कर पाते हैं।

बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करें

ऐसे में ऐसा तो नहीं हो सकता है कि कारोबारी आवश्यक पूंजी न होने के चलते हाथ पर हाथ धरे बैठे पूंजी जुटने का इंतजार करें। कारोबारियों को चाहिए कि वह बिजनेस लोन लेकर अपने बिजनेस का विकास करने की तरफ ध्यान लगायें।

इसे भी पढ़ें: बिजनेस लोन लेना चाहते हैं? इस तरह करें अप्लाई

आपको जानकारी के लिए बता दें कि नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी ZipLoan द्वारा कारोबारियों को 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन, सिर्फ 3 दिन में, बिना कुछ गिरवी रखे मिलता है।

अभी बिजनेस लोन पाए