व्यवसाय का बढ़ना रूपये के स्थिर प्रवाह पर निर्भर करता है। रूपये का स्थिर प्रवाहव्यवसाय को सुचारू रूप से चलने और व्यवसाय के विस्तार के लिए आव्यशक है।इससे व्यवसायियों को उनके लक्षित लक्ष्यों को पूरा करने में मदद मिलती है। इसलिए, यह बेहद महत्वपूर्ण है कि हर समय धनराशि उपलब्ध हो या उन रुपये संबंधित जरूरतों को पूरा करने के लिए चैनल उपलब्ध हों।और यहीं पर बैंक या एनबीएफसी में ऐ किसी एक को चुनने का प्रश्न सामने आता है। हालांकि बैंक लोन या कर्ज प्राप्त करने के लिए एक सुरक्षित विकल्प हैं, पर एनबीएफसी लोन का लाभ बैंक लोन को ऑफसेट कर देता है।

Source: Gold Loan Bazaar

लोन की तीव्र प्रक्रिया:

पारंपरिक बैंकों की तुलना में एनबीएफसी से लिए गए लोन काफी जल्दी प्रोसेस किये जाते हैं। बैंक से अप्रूवल मिलने में एक हफ्ते या उससे अधिक समय लग सकता है जबकि एनबीएफसी कुछ घंटों या दिनों में ही लोन अप्रूव कर देती हैं। इसलिए एनबीएफसी लोन व्यापारियों के लिए बहुत ही सुविधाजनक है।

कठोर योग्यता चेकपॉइंट:

परंपरागत रूप से बैंक बहत ही सख्त योग्यता चेकपॉइंट फॉलो करते हैं जैसे अच्छा क्रेडिट स्कोर, पुनर्भुगतान या रीपेमेंटअच्छी हिस्ट्री, और बकाया लोन।एक संपार्श्विक (कोलैटरल) भुगतान के रूप में आपको लोन लेने के लिए अपनी संपत्ति को भी गिरवी रखना पड़ सकता है।इतना सब करने के बाद भी आपको आपकी संपत्ति की कीमत का 70%-80% ही लोन मिलेगा।लेकिन, एनबीएफसी के मामले में, आप अधिक राशि प्राप्त कर सकते हैं और संपार्श्विक या कोलैटरल रखने की भी कोई ज़रूरत नहीं होती।

कस्टमाइज्ड लोन ऑफर्स:

एनबीएफसी से लोन लेने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि वे ग्राहक की आवश्यकता के अनुसार स्वनिर्धारित या कस्टमाइज्ड लोन भी देती हैं। यह चीज छोटे व्यापारियों के लिए बहुत महत्त्व रखती है क्योंकि वे अपनी आवश्यकताओं के अनुसार लोन का लाभ उठाते सकते हैं। दूसरी तरफ, बैंकों के साथ ऐसा नहीं है क्योंकि वे ग्राहक की विश्वसनीयता के बारे में कड़े तरीकों को लागू करते हैं। एनबीएफसी ऑफर्स के साथ भी आपको बहुत सावधान रहना चाहिए क्योंकि वे ग्राहक के क्रेडिट रिस्क की स्थिति को ऑफसेट करने के लिए बहुत ही ज्यादा ब्याज दर लेते हैं।

द बॉटम लाइन:

अंत में, आप यह कह सकते हैं कि एनबीएफसी से लोन लेना ज्यादा बेहतर है। हालांकि, यह निर्णय उधारकर्ता के पास होना चाहिए वह अपनी आवश्यकता और क्रेडिट स्थिति का विश्लेषण करके अपने लिए सबसे अच्छा विकल्प चुने। हमेशा की तरह यह एक बैंक या एनबीएफसी होगा, और रीपेमेंट का दायित्व उधारकर्ता का होगा।