बैंक से बिजनेस लोन लेने वाले कारोबारियों को जितनी समस्या बिजनेस लोन प्राप्त करने में हुई थी, उतनी ही समस्याएं बिजनेस लोन प्राप्त करने के बाद भी बरकरार है। बैंकों के EMI सिस्टम में बदलाव बिजनेस लोन लेने वाले कारोबारियों के लिए सिरदर्द बन गई है। कई ग्राहकों की EMI कटनी बंद हो गई है, तो वहीं उनसे पोस्ट डेटेड चेक मांगा जा रहा है। इतना ही नहीं ECS से भी पैसा कट रहा है। रोज कम से कम 10 से 15 ग्राहक इस मुसीबत का सामना कर रहे हैं। जिनका कर्ज दो साल पुराना है, उन ग्राहकों को ज्यादा दिक्कत आ रही है और जिनके लोन व बचत खाते अलग-अलग बैंकों में हैं।

बैंक

यह भी पढ़ें:- आयकर विभाग की नई रिपोर्ट, पिछले 4 सालों में ITR में 80 फीसदी की वृद्धि

यह है वजह-

ग्राहकों को हो रही इस बड़ी परेशानी की वजह यह है- दरअसल, सभी बैंक मौजूदा इलेक्ट्रॉनिक क्लियरिंग सिस्टम यानि ECS से नेशनल ऑटोमेटेड क्लियरिंग हाउस यानि NACH में अपग्रेड हो रहे हैं। और यह अपग्रेडेशन ग्राहकों की परेशानी का सबब बनी हुई है। नए नियमों मुताबिक ग्राहक को ब्रांच जाकर एक फॉर्म भरना होगा, उसके बाद ही उनकी EMI कटनी शुरू हो पाएगी।

यह भी पढ़ें:- GST में Reverse Charge क्या है और ये कब लगता है?

बैंक भरवा रहे फॉर्म

बैंक अफसरों ने बताया कि बैंक उन सभी ग्राहकों से फॉर्म भरवा रहे हैं, जिनकी EMI दूसरे बैंकों से आती है। जबकि स्टेट बैंक ञफ इंडिया के एक अधिकारी ने बताया कि जिन ग्राहकों का ECS फेल हो रहा है, उन्हें नोटिस भेजा जा रहा है। अगर ग्राहक का बचत खाता और कर्ज का खाता अलग-अलग बैंकों में है, तो बैंक जाए बिना EMI चालू नहीं होगी। जिसकी वजह से इस प्रक्रिया में समय लगेगा, इसलिए बैंक ग्राहकों से 2 पोस्ट डेटेड चेक ले रहे हैं, ताकि EMI समय से जमा कर सकें।

बैंक

यह भी पढ़ें:- सरकार ने कारोबारियों को दी बड़ी राहत, GST Return भरने के लिए मिला समय

ग्राहक क्या करे-

बैंक अधिकारियों का कहना है, कि ग्राहक डिफॉल्ट से बचने के लिए ब्रांच में जाकर चेक या कैश के तौर पर EMI जमा कर सकते हैं। इसके अलावा भविष्य के लिए आप NBFC से आसानी से बिजनेस लोन ले सकते हैं और साथ ही इसे आसान किस्तों में चुका भी सकते हैं। ZipLoan से आप 1 से 5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन बिना किसी सिक्योरिटी के प्राप्त कर सकते हैं। जिसे आप 12 से 24 महीने के आसान किस्तों में चुका भी सकते हैं।