अपने देश में लघु उद्योगों का विस्तार बहुत व्यापक स्तर पर है। वर्तमान प्रतिस्पर्धी व्यावसायिक माहौल में लघु उद्योगों का सफल संचालन बड़ी बात है। लघु उद्यमियों को केंद्र सरकार की तरफ से मिलने वाला योजनाओं का लाभ और बिजनेस लोन की सहूलियत उद्यमियों को प्रोत्साहित करती हैं।

अपने देश में बड़ी संख्या में ऐसे लघु उद्योग हैं जिनका संचालन बिजनेस लोन पर निर्भर करता है। अगर यह कहें कि बिजनेस लोन ही वह पीलर है जिसपर छोटे एवं मध्यम कारोबारियों का बिजनेस टिका है तो यह किसी भी तरह गलत नहीं होगा।

बिजनेस लोन वह रकम होती है जो सरकारी बैंक या एनबीएफसी कंपनियों की तरफ से कारोबारियों को दी जाती है। इस रकम का उपयोग कारोबारी अपने वर्तमान कारोबार को बढ़ाने और नए उद्योग लगाने में करते हैं।

कारोबारी बिजनेस लोन की रकम का इस्तेमाल मशीनरी और जरूरी उपकरण खरीदने के साथ ही कारोबार की दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए करते हैं। इस तरह कारोबारी व्यवसाय ऋण के जरिए अपने उद्योग में क्वॉलिटी प्रोडक्शन करके बेहतर मुनाफा कमाते हैं।

फिनटेक क्षेत्र की प्रमुख एनबीएफसी कंपनी ZipLoan कारोबारियों को आर्थिक मदद करने के लिए 1 से 5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन में प्रदान करती है। ZipLoan द्वारा प्रदान किया गया बिजनेस लोन अनसिक्योर्ड यानी बिना कुछ गिरवी होता है।

ऐसा नहीं है कि बिजनेस लोन के रुप में दी जाने वाली रकम मुफ्त में दी जाती है। बिजनेस लोन एक निश्चित समय के लिए दिया जाता है। निश्चित ब्याज दर चुकाना होता है। उद्यमियों की मदद के लिए मार्केट में कई तरह के बिजनेस लोन उपलब्ध हैं। आइए बिजनेस लोन के प्रमुख प्रकार और उनकी उपयोगिता को समझते हैं।

Table of Contents

अनसिक्योर्ड यानी बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन

अनसिक्योर्ड यानी जिसके बदले कुछ सिक्योरिटी नहीं रखना होता है। यह नाम से ही स्पष्ट है। इसे बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन भी कहते हैं। जहां सिक्योर्ड बिजनेस में सिक्योरिटी के रुप में कोई न कोई प्रॉपर्टी गिरवी रखना होता है अनसिक्योर्ड लोन सिक्योर्ड बिजनेस लोन के ठीक विपरीत होता है। इस तरह का बिजनेस लोन लेने के लिए कोई भी प्रॉपर्टी गिरवी नहीं रखना होता है।

बिना गिरवी बिजनेस लोन पूरी तरह कारोबारी के सिबिल स्कोर यानी क्रेडिट स्कोर पर निर्भर करता है। इस तरह के लोन अपेक्षाकृत कम समय के लिए होता है। बिना गिरवी के लोन मिलने में सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है- इनकम का जरिया (सोर्स ऑफ़ इनकम) को देखना। बैंक या NBFC कंपनियां सिर्फ यह देखती हैं कि लोन के लिए अप्लाई करने वाले व्यक्ति/संस्था का इनकम का क्या सोर्स है? कारोबार में अनसिक्योर्ड लोन का निम्न तरीके से उपयोग किया जा सकता है:

  • नए एम्प्लाई (कर्मचारी) रखने के लिए
  • कोई नया उपकरण जैसे कम्प्यूटर, सोफा या कोई भी ऐसा उपकरण जिसकी बिजनेस में जरूरत होती है, उसको खरीदने के लिए
  • बिजनेस की नई ब्रांच खोलने के लिए
  • एम्प्लाइज (कर्मचारियों को सैलरी देने के लिए)

बिजनेस लोन 2019: जानिए उपयोगिता

मशीनरी लोन

मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में कार्यरत उद्योगों के लिए मशीनरी लोन बहुत उपयोगी होता है। आज हर रोज टेक्नोलॉजी बदल रही है। बदलती टेक्नोलॉजी के दौर में मशीनें भी अछूती नहीं रही। पहले परंपरागत तरीके की मशीनें हुआ करती थी जिनमें कार्यबल अधिक लगता था लेकिन प्रोडक्शन औसत ही होता था।

अब प्रोडक्शन की नई मशीनें आ गई हैं जिनसे कम समय में भी बेहतर प्रोडक्शन होता है। हालांकि कारोबारियों का यह कहना हो सकता है कि इन मशीनों की कीमत अधिक होती है। यह ठीक है कि उन्नत मशीनों की कीमत जरा अधिक है। लेकिन, पर्याप्त पैसा न होने पर भी इन मशीनों को खरीदा जा सकता है।

See also  भगवान गणेश से सीखें छोटे बिजनेस को बड़ा बनाने के गुण

इसके लिए मशीनरी लोन इस्तेमाल करना चाहिए। कई एनबीएफसी हैं जो मशीनरी खरीदने के लिए मशीनरी लोन उपलब्ध कराती हैं। ZipLoan कंपनी से मिलता है सिर्फ 3 दिन में मशीनरी लोन वो भी बिना कुछ गिरवी रखे और बेहद कम ब्याज दरों पर।

वर्किंग कैपिटल लोन

यह लोन विशेष रुप से कारोबार में दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए दिया जाने वाला बिजनेस लोन है। वर्किंग कैपिटल लोन को कार्यशील पूंजी कहा जाता है। किसी भी कारोबार में वर्किंग कैपिटल फंड का इंतजाम बेहद जरूरी होता है। यह बेस यानी पृष्ठभूमि को मजबूत करता है।

अगर वर्किंग कैपिटल को उदाहरण से समझे तो – जहां पर उद्योग स्थापित होता है यानी चलता है उस स्थान हर रोज की कुछ जरूरत होती है, जैसे स्थान का किराया, बिजली का बिल, पानी का बिल, नाश्ता का बिल और दैनिक कर्मचारियों की सैलरी इत्यादि के खर्चे।

इन सभी खर्चो को अगर एक भी दिन रोक दिया जाए तो एक भी दिन उद्योग या बिजनेस चलना मुश्किल हो जायेगा। इन्हीं खर्चो को पूरा करने के लिए वर्किंग कैपिटल का होना बेहद जरूरी है। अगर किसी कारोबार में इन खर्चीं को पूरा करने के लिए वर्किंग कैपिटल नहीं है तो वह ZipLoan से बेहद कम शर्तों इ साथ बिना कुछ गिरवी रखे सिर्फ 3 दिन में 1 से 5 लाख तक का वर्किंग कैपिटल लोन ले सकते हैं।

टर्म लोन

जब व्यवसाय का विस्तार करने की या बिजनेस की कोई नई ब्रांच खोलने की जरूरत पड़ती है तो टर्म लोन बेहद उपयोगी होता है। टर्म लोन एक निश्चित समय के लिए एक निश्चित ब्याज दर पर मिलता है।

See also  छोटे बिजनेस के लिए बिजनेस लोन कितना सहायक होता है?

टर्म लोन दो तरह का होता हो- सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड यानी प्रॉपर्टी गिरवी रखने के बदले और बिना प्रॉपर्टी गिरवी रखे।

टर्म लोन का उपयोग कारोबारी नई ऑफिस खोलने के लिए, अचल संपत्ति खरीदने के लिए, मशीन या उपकरण खरीदने के लिए किया जाता है।

एसएमई के लिए ZipLoan से मिलता है सिर्फ 3 दिन में बिजनेस लोन

ZipLoan’ फिनटेक क्षेत्र की प्रमुख NBFC यानी नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी है। ‘कंपनी द्वारा सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम कारोबारियों को एसएमई लोन दिया जाता है। एसएमई को 1 से 5 लाख तक का बिजनेस लोन कारोबार बढ़ाने के लिए जरूरी मशीनरी और उपकरण खरीदने के लिए दिया जाता है।

ZipLoan से बिजनेस लोन पाने की शर्ते बहुत कम हैं 

  • बिजनेस कम से कम 2 साल पुराना हो।
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर कम से कम 5 लाख से अधिक का होना चाहिए।
  • पिछले साल भरी गई ITR डेढ़ लाख रुपये की हो या इससे अधिक की होनी चाहिए।
  • घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर होना चाहिए।

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने के कई फायदे हैं 

  • बिजनेस लोन की रकम अप्लाई करने के सिर्फ 3 दिन के भीतर मिल जाती है। (यह सुविधा जरुरी कागजी दस्तावेजों को उपलब्ध रहने पर मिलती है)
  • लोन घर बैठे ऑनलाइन अप्लाई किया जा सकता है।
  • बिजनेस लोन की रकम 6 महीने बाद प्री पेमेंट फ्री है।
  • लोन की रकम 12 से लेकर 24 महीने के बीच वापस कर सकते है।

आपको यह लेख पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। बिजनेस से जुड़ी कोई भी नई अपडेट या जानकारी पाने के लिए हमसे फेसबुकट्वीटर और लिंक्डन पर भी जुड़े।